HomeमनोरंजनTiger in Bhopal: भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर...

Tiger in Bhopal: भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी वरना हो सकते हो टाइगर के शिकार,जाने डिटेल

Tiger in Bhopal: भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी वरना हो सकते हो टाइगर के शिकार वाल्मी क्षेत्र में बाघ को सबसे पहले गार्ड ने देखा. बाघ की चहलकदमी को वन विभाग की ओर से लगाए गए कैमरों ने भी कैद किया है. बाघ के मूवमेंट की खबर मिलते ही वन विभाग को इसकी सूचना दी गई है.महीने भर बाद मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक बार फिर टाइगर मूवमेंट ने वनविभाग की सतर्कता और आमजनों की चिंता बढ़ा दी है. भोपाल के मध्य प्रदेश वाटर एंड लैंड मैनजमेंट इंस्टीट्यूट (MP Water and Land Management Institute) के परिसर में एक बाघ को देखा गया है. यह बाघ कैमरे में भी कैद हुआ है. हालांकि बाघ की मूवमेंट की खबर के बाद वनविभाग अलर्ट हुआ है. उसने बाघ के मूवमेंट वाले इलाके में निगरानी बढ़ा दी है.

Tiger in Bhopal:

भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी Be careful if you go on an excursion around the Valmi area of Bhopal city

Tiger in Bhopal:

Tiger in Bhopal: भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी वरना हो सकते हो टाइगर के शिकार,जाने डिटेल

Tiger in Bhopal:

बाघ को सबसे पहले किसने देखा who saw the tiger first

वाल्मी क्षेत्र में बाघ को सबसे पहले गार्ड ने देखा. बाघ की चहलकदमी को वन विभाग की ओर से लगाए गए कैमरों ने भी कैद किया है. बाघ के मूवमेंट की खबर मिलते ही वन विभाग को इसकी सूचना दी गई है. इधर रहवासियों ने नेहरु नगर से केरवा-कालियासोत की और जाने वाली सडक़ पर भी बाघ की मूवमेंट का दावा किया है.वाल्मी और नेहरू नगर से केरवा-कालियासोत क्षेत्र में टाइगमर की मूवमेंट ने यहां के रहवासियों की चिंता बढ़ा दी है. हालांकि वन विभाग के अफसरों का दावा है कि टाइगर अपनी टेरेटेरी में ही घूम रहा है. रहवासियों को चिंता करने की जरुरत नहीं है. वनविभाग के कर्मचारियों द्वारा भी लगातार सर्चिंग की जा रही है. वन विभाग का अमला पूरी तरह अलर्ट पर है.भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी वरना हो सकते हो टाइगर के शिकार चीते की खूंखार से इंसानो का दिल दहल उठता है जिसके कारण हमे बहुत ही बुरा बर्ताव करना पड़ता है इसके लिए यह जरुरी होता है की किसी भी प्रकार का कोई भी कन्फेशन न किया जाये चितो को पकडवाने के लिए स्पेशल टीम भिजवाई जाये

Tiger in Bhopal:

Read Also: Bagh Ki Dastak Savdhan – जामठी बीट में  बाघ की दस्तक होने से मची दहशत

वरना हो सकते हो टाइगर के शिकार,जाने डिटेल Otherwise you can be a victim of tiger, know the details

Tiger in Bhopal:

भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी Be careful if you go on an excursion around the Valmi area of Bhopal city

Tiger in Bhopal:

अक्टूबर में मैनिट में दिखा था बाघ Tiger was seen in Manit in October

वहीं बाघ की मूवमेंट के बाद से मैनिट के विद्यार्थी भी एक बार फिर परेशानी महसूस कर रहे हैं. बीते अक्टूबर के महीने में यहां बाघ ने यहां दो से 16 अक्टूबर तक डेरा जमाए हुआ था. इस दौरान मैनिट प्रबंधन और विद्यार्थियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा था. यहां वन विभाग की टीम की खासी मशक्कत के बाद टाइगर टी-421 का रेस्क्यू किया गया था. उसे सतपुड़ा टाइगर रिजर्व पहुंचाया गया था. गौरतलब है कि इसके बाद मैनिट प्रबंधन अलर्ट हुआ और उसने मैनिट बाउंड्रीवॉल का निर्माण करवा लिया. इससे बाघ परिसर में नहीं पहुंच सकेगा फिर भी मैनिट प्रबंधन भी अलर्ट पर है.भोपाल शहर के वाल्मी क्षेत्र के आसपास भ्रमण पर निकले तो बरते सावधानी वरना हो सकते हो टाइगर के शिकार

RELATED ARTICLES

Most Popular