HomehealthRarest blood group - ऐसा खून जो सिर्फ 45 लोगों के शरीर...

Rarest blood group – ऐसा खून जो सिर्फ 45 लोगों के शरीर में बहता है, कहा जाता है Golden Blood  

Rarest blood groupआप सभी ने अपनी स्कूल लाइफ में खून के बारे में तो जरूर पढ़ा हुआ है या फिर आम तौर पर सभी को खून के बारे में काफी हद तक जानकारी होती है। जैसा की आप सभी को मालुम है की दुनिया में 8 तरह के ब्लड ग्रुप पाए जाते हैं जिनमें A, B, AB और O शामिल है. इन ब्लड ग्रुप को पॉजिटिव और नेगेटिव बांटा जा सकता है। आप सभी को यह भी पता ही होगा की हमारे शरीर में ब्लड का काम लग्स से ऑक्सीजन को हमारे शरीर के बाकी हिस्सों तक पहुँचाने का होता है। दुनिया भर में पाए जाने वाले इन आठों ब्लड ग्रुप के अलावा भी एक ब्लड ग्रुप ऐसा है जो दुनिया के चंद लोगों में पाया जाता है जो बहुत ही ज्यादा दुर्लभ होता ये ब्लड ग्रुप केवल उन लोगों में होता है जिनका Rh फैक्टर Null होता है. एक रिपोर्ट की मानें तो ये ब्लड दुनिया में केवल 45 लोगों के शरीर में बहता है। 

Also Read –MP Teachers Recruitment – 6539 पदों पर होने वाली शिक्षक भर्ती को लेकर महत्वपूर्ण अपडेट, जारी हुई लिस्ट  

Golden Blood की खासियत 

ग्रीस में ऐसा माना जाता है कि देवताओं के शरीर में सुनहरा खून बहता है. यह सुनहरा खून देवताओं को अमर बनाता है लेकिन अब इंसानों की बात आती है तो यह गोल्डन ब्लड उनके लिए नुकसानदेह साबित होता है. सबसे पहले इसका पता साल 1961 में लगाया गया था. ये ब्लड बाकी आम ब्लड ग्रुप से बेहद अलग होता है जिसकी वजह से इसे ‘गोल्डन ब्लड’ कहा गया है. हमें जब किसी बीमार व्यक्ति के लिए ब्लड की जरूरत होती है तब ब्लड बैंक में कोई साधारण खून देकर अपनी आवश्यकता के अनुसार ब्लड हासिल कर सकते हैं लेकिन जब गोल्डन ब्लड की बात आती है तो यह इतना ज्यादा रेयर है कि इसकी कीमत सोने से भी ज्यादा होती है.

Also Read – Ajgar Ka Video – सड़क पर पहुंचा विशालकाय अजगर, Video देख थम जाएंगी साँसे 

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स 

गोल्डन ब्लड का कारण एक्सपर्ट्स बताते हैं कि ये जेनेटिक म्यूटेशन की वजह से होता है और यह एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी के लोगों में जाता है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि इसकी दूसरी वजह करीबी रिश्ते में शादी भी है जिसकी वजह से गोल्डन ब्लड होने की संभावाना बढ़ जाती है. इसे लेकर ‘नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन’ में एक रिपोर्ट भी प्रकाशित की गई थी. इस ब्लड ग्रुप के लोगों को एनीमिया का खतरा ज्यादा रहता है. कई बार सुरक्षा की वजह से अगर ऐसे लोगों की पहचान होती भी है तो उसे उजागर नहीं किया जाता है.

Source – Internet 

RELATED ARTICLES

Most Popular