HometrendingRakesh Tikait - केंद्र सरकार के खिलाफ किया जाएगा बड़ा आंदोलन- टिकैत

Rakesh Tikait – केंद्र सरकार के खिलाफ किया जाएगा बड़ा आंदोलन- टिकैत

किसान नेता राकेश टिकैत ने दी शहीद किसानों को श्रद्धांजलि

मुलताई – Rakesh Tikait – गोलीकांड में शहीद किसानों को श्रद्धांजलि देने मुलताई पहुंचे दिल्ली में हुए किसानों के आंदोलन के चर्चित किसान नेता के रूप में सामने आए राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार के खिलाफ बड़े आंदोलन की बात की है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में जाकर इस आंदोलन के लिए लोगों से चर्चा की जा रही है एवं केंद्र सरकार के खिलाफ एक बड़ा आंदोलन किसानों द्वारा जल्द किया जाएगा।

केंद्र सरकार पर बरसे किसान नेता(Rakesh Tikait)

उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने किसानों के लिए कुछ नही किया। मध्यप्रदेश में पत्ता गोभी के किसान बर्बाद हो गए हैं। केरल की तर्ज पर मध्य प्रदेश में भी सब्जियों पर एमएसपी लागू होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार झूठ बोलती है एवं किसानों के लिए कोई काम नहीं कर रही है। ऐसे में देश का किसान दुखी है। जिस प्रकार आंदोलन करके तीन काले कानून वापस करवाए गए उसी तरह किसानों की अन्य समस्याओं को लेकर भी बड़े आंदोलन की तैयारी हो रही है। जिसे बड़े स्तर पर पूरे देश भर में किया जाएगा।

Also Read – Magarmach Aur Bhains Ka Video – मगरमच्छ ने भैंस पर किया हमला, जबड़े से दबोच के कर दिया बुरा हाल

किसानों को किया याद(Rakesh Tikait)

इसके पहले उन्होंने परमंडल में शहीद किसानों को श्रद्धांजलि दी एवं मुलताई में शहीद स्तंभ पर जाकर उन्होंने किसानों को याद किया। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार द्वारा एकतरफा कार्रवाई की गई है एवं डॉ सुनीलम पर केस कर उन्हें सजा दिलवाई गई है। वहीं मृत किसानों के परिजनों को भी पर्याप्त मुआवजा नहीं दिया गया है। सुनीलम और बराकेश टिकैत और डॉक्टर सुनीलम के नेतृत्व में बाइक रैली भी निकाली। इसके पहले राकेश टिकैत गुरुद्वारा एवं ताप्ती मंदिर भी पहुंचे जहां उन्होंने पूजा अर्चना की।

Also Read – iQoo 11 5G launch – भारत में लॉन्च हुआ ये तगड़ा फ़ोन, जाने कीमत और सब कुछ  

शहीद किसानों की मनाई 25 वीं बरसी(Rakesh Tikait)

उल्लेखनीय है कि बर्बाद फसलों के मुआवजे को लेकर मांग करने वाले किसानों पर पुलिस ने गोली चला दी थी। 12 जनवरी 1998 में पुलिस के गोलीचालन में 24 किसान शहीद हो गए थे। प्रति वर्ष 12 जनवरी को किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। घटना के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने माफी भी मांगी थी।

RELATED ARTICLES

Most Popular