Tuesday, August 9, 2022
spot_img
HomeबैतूलPanchayat Chunav : 23 में से 17 जिप क्षेत्रों में महिलाओं की...

Panchayat Chunav : 23 में से 17 जिप क्षेत्रों में महिलाओं की दावेदारी

भाजपा के कई दिग्गजों ने छोड़ा मैदान, कांग्रेस में गुटबाजी शुरू

बैतूल – जिला पंचायत सदस्य के चुनाव अब प्रचार-प्रसार के दौर में आ गए हैं क्योंकि कल नाम वापसी के बाद उम्मीदवारों के बाद चुनाव चिन्ह भी आवंटित हो चुके हैं। इन 23 निर्वाचन क्षेत्रों में से वार्ड क्रं. 4, 8, 9, 11, 12, 13, 15, 16, 17, 20, 21 एवं वार्ड क्रमांक 22 पहले से ही विभिन्न वर्गों की महिलाओं के लिए आरक्षित थे। लेकिन नाम वापसी के बाद जो स्थिति स्पष्ट हुई है उसके अनुसार पांच अन्य वार्डों में भी महिला उम्मीदवार मैदान में उतर गई हैं। जिनमें जिपं. निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक 1, 3, 7, 14 एवं क्षेत्र क्रमांक 19 है। यदि इन पांचों क्षेत्रों से भी महिलाएं चुनाव जीत गई तो 23 में से 17 जिला पंचायत सदस्य महिलाएं होंगी जो कि कुल सीट का लगभग 73 प्रतिशत होगा। जबकि जिला पंचायत अध्यक्ष पद इस बार अनारक्षित है।

कई दिग्गजों ने लिया नाम वापस

कल नाम वापसी की अंतिम तारीख के बाद चुनाव की स्थिति स्पष्ट हुई है। भाजपा और कांग्रेस के कई प्रमुख नेताओं ने पार्टी का समर्थन मिलने की आशा से नामांकन फार्म भर दिया था लेकिन समर्थन ना मिलने पर नाम वापस भी ले लिया है। इनमें भाजपा के प्रमुख नेता सतीष गम्फू पाठा, निर्गुण देशमुख, कमलेश रावत, सुमंता भूरेलाल चौहान धपाड़ा, सिल्विया पाढर पाढर, हरीश मानेकर, लता महस्की आठनेर, मोहन मोरे पाथाखेड़ा शामिल हैं। वहीं कांग्रेस के नाम वापस लेने वालों में प्रमुख नामों में पूर्व जिला पंचायत सदस्य धर्मराज महाले भैंसदेही शामिल है।

अभी से कांग्रेस में गुटबाजी शुरू

क्षेत्र क्रमांक 2 से कांग्रेस ने नारायण सरले को अपना अधिकृत उम्मीदवार घोषित किया था। वहीं कांग्रेस नेता विजय साबले ने भी कांग्रेस के कई बुजुर्ग एवं युवा नेताओं के साथ नामांकन फार्म भरा था। नाम वापसी के बाद भी विजय साबले मैदान में डटे हुए हैं। खबरवाणी को मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस के दूसरे गुट ने विजय साबले और उनके समर्थकों की शिकायत प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से सप्रमाण की है। और शिकायत में यह बताया है कि विजय साबले के माध्यम से यह गुट कांग्रेस उम्मीदवार को हराना चाहता है। ऐसा ही प्रयास इस गुट द्वारा जिले के अन्य क्षेत्रों में भी किया जा रहा है।

वार्ड 20 से गायकी भाजपा उम्मीदवार घोषित नहीं

जिला पंचायत निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक 20 आठनेर अनारक्षित महिला घोषित है। इस क्षेत्र से 6 उम्मीदवारों ने नामांकन जमा किया था जिसमें से पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष लता महस्की एवं जयश्री जगदीश चढ़ोकार ने नाम वापस ले लिया था। अब चुनाव मैदान में जिला भाजपा संगठन के कार्यालय मंत्री कृष्णा गायकी की पत्नी अर्चना गायकी, मयूरी कमलेश माकोड़े, कांग्रेस समर्थित प्रवीणा खलतकर एवं उर्मिला मंसू चौरे रह गए हैं। लेकिन इस सीट को भाजपा ने अर्चना गायकी को समर्थन ना देते हुए फ्री जोन घोषित किया है जिसको लेकर राजनैतिक हल्कों में चर्चा है। इसी तरह से भाजपा ने जिला पंचायत क्षेत्र क्रं. 12 आमला को भी फ्री जोन घोषित किया है।

राजा के सामने डॉ. दिनेश दवंडे मैदान में

जिला पंचायत चुनाव में सबसे चर्चित निर्वाचन क्षेत्र 18 भी है। जहां से भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष एवं पूर्व राष्ट्रीय कार्यपरिषद सदस्य दुर्गाचरण सिंह उर्फ राजा ठाकुर 73 वर्ष की आयु में पहला चुनाव लड़ रही है। राजनैतिक समीक्षकों का यह मानना है कि राजा ठाकुर यदि जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित होते हैं तो जिला पंचायत अध्यक्ष के सबसे बड़े दावेदार होंगे। उनके सामने चिल्कापुर गुदगांव निवासी डॉ. दिनेश दवंडे मैदान में है। माना जा रहा है चुनाव में राजा ठाकुर का प्रमुख प्रतिद्वंदी दिनेश दवंडे ही होंगे। क्योंकि इस क्षेत्र के लगभग 30 ग्रामों में कुंबी आबादी बहुमत में है। इस निर्वाचन क्षेत्र से जामवंत सिंह कुमरे और निखिल भी चुनाव लड़ रहे हैं।

अनारक्षित क्षेत्रों से भी महिलाएं मैदान में
संगीता परते कांग्रेस की उम्मीदवार

जिला पंचायत सदस्य के लिए जिले में 23 निर्वाचन क्षेत्र हैं जिनमें से 12 वार्ड पहले से ही महिलाओं के विभिन्न वर्गों के लिए आरक्षित हैं। लेकिन नामांकन फार्म भरे जाने एवं नाम वापसी के बाद जो स्थिति स्पष्ट हुई है उसके अनुसार क्षेत्र क्रमांक 1, क्षेत्र क्रमांक 3 दोनों अजजा वर्ग के लिए आरक्षित है लेकिन इन दोनों सीट से भी महिलाएं चुनाव मैदान में है। क्षेत्र क्रमांक 1 से हेमलता वाडिवा एवं क्षेत्र क्रमांक 3 से चंद्रभागा तथा प्रेमलता बसुमकर चुनाव मैदान में है। इसी तरह से क्षेत्र क्रमांक 7 अनारक्षित है और यहां से संगीता परते कांग्रेस की उम्मीदवार है। क्षेत्र क्रमांक 14 अजा के लिए आरक्षित है और यहां से भी क्षिप्रा चंद्रभान बडोदे चुनाव लड़ रही हैं। इसी तरह से क्षेत्र क्रमांक 19 अजजा के लिए आरक्षित है लेकिन यहां से भी महिला उम्मीदवार उर्मिला उइके चुनाव लड़ रही है। इस तरह से 23 में से 17 क्षेत्रों से महिलाएं मैदान में है।

सबसे ज्यादा 14 नं. से सबसे कम 10-11 नं. से

जिला पंचायत के चुनाव में आमला क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 14 से सबसे ज्यादा 11 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। जिनमें भाजपा का उम्मीदवार घोषित हुआ है। लेकिन कांग्रेस ने अभी ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। यहां से पूर्व विधायक चैतराम मानेकर के दोनों पुत्रों ने नाम वापस ले लिया है। मुलताई क्षेत्र के क्षेत्र क्रमांक 10 एवं क्षेत्र क्रमांक 11 से सबसे कम 2-2 उम्मीदवार चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे हैं।

मुलताई क्षेत्र के दो वार्ड में चुनाव चिन्ह का अजब संयोग

जिला पंचायत निर्वाचन क्षेत्र क्रं. 10 एवं 11 में दो-दो उम्मीदवार मैदान में है। और इन दोनों को जो चुनाव चिन्ह प्राप्त हुए हैं वो एक से हैं। इनमें वार्ड क्रं. 10 में जौलखेड़ा-सांईखेड़ा से कांग्रेस समर्थित हर्षवर्धन धोटे को चुनाव चिन्ह तीर कमान एवं भाजपा समर्थित राजा पंवार को दो पत्तियां मिला है। वहीं वार्ड क्रं. 11 से कांग्रेस समर्थित सरिता बारंगे को दो पत्तियां तो भाजपा समर्थित कंचन कासलेकर को तीर कमान मिला है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments