HometrendingCorona Precaution - कोरोना का सामना करने पर्याप्त है दवाईयां

Corona Precaution – कोरोना का सामना करने पर्याप्त है दवाईयां

सीएस अशोक बारंगा ने कोरोना से सतर्क रहने की अपील

बैतूल – Corona Precaution – पड़ोसी देश चीन में कोरोना बेहताशा फैल रहा है। इससे आने वाले समय में निश्चित रूप से भारत देश भी अछूता नहीं रहेगा। देश के विभिन्न प्रांतों में भी कोरोना के एक्टिव केस मिलना प्रारंभ हो गए हैं। इसको लेकर सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा का कहना है कि गत 2 वर्षों के दौरान कोरोना के समय हमें क्या करना है और क्या नहीं करना है यह हमने अच्छे से सीख लिया है।

सतर्कता में ही है सुरक्षा(Corona Precaution)

कोरोना से बचाव के लिए दो गज दूरी और मास्क है जरूरी को अपनाना होगा तभी हम इस संक्रमण से स्वयं और दूसरो को बचाव कर सकते हैं। श्री बारंगा ने कहा कि यदि किसी को संक्रमण से संबंधित सर्दी, खांसी, जुकाम, जकडऩ या अन्य किसी प्रकार का लक्षण दिखाई देता है तो तत्काल प्रभाव से कोरोना की जांच कराए और चिकित्सक को दिखाने के बाद उपचार लें। इसके साथ ही जब तक स्वस्थ्य ना हो स्वयं को आसोलेट रखे।

ये भी पढ़ें – देखें वीडियो – उर्फी को सलाखों के पीछे देख फैन्स हुए हैरान, जाने क्या है पूरा मामला! 

पर्याप्त है दवाईयां

श्री बारंगा ने बताया कि जिला अस्पताल में पर्याप्त दवाईयां है। इसके अलावा वार्ड की भी व्यवस्था है। उपचार से संबंधित किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिले में कोरोना संक्रमित अभी केस नहीं आए हैं। इस संक्रमण को जागरूकता से ही इसका सामना किया जा सकता है। बिना सतर्कता के इस संक्रमण का सामना करना बेहद मुश्किल हो जाएगा।

वैक्सीनेशन में नहीं है लोगों की रूचि(Corona Precaution)

चीन में कोरोना की लहर आने के बाद देश में अलर्ट हो गया है और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने एडवाजरी जारी कर दी है। कोरोना को लेकर लोग सतर्क नहीं है इसका अंदाजा टीकाकरण कार्यक्रम को लेकर लाया जा सकता है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविंद्र भट्ट का कहना है कि बूस्टर डोज लगवाने में लोगों की रूचि नहीं है। जिले में 10 लाख से अधिक लोगों को बूस्टर डोज लगना था लेकिन अभी तक सिर्फ 2 लाख 57 हजार लोगों को ही बूस्टर डोज लगे हैं।

वैक्सीन की है कमी

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविंद्र भट्ट ने बताया कि वर्तमान में सिर्फ कोवैक्सीन ही उपलब्ध है। इसके 60 हजार डोज विभाग के पास हैं। प्रदेश से कोविशील्ड और बच्चों को लगने वाली कार्बोक्स वैक्सीन मांगी है। पिछले 10 दिसम्बर से यह दोनों वैक्सीन विभाग के पास नहीं है। उच्चाधिकारियों का कहना है कि पहले कोवैक्सीन के डोज खत्म किए जाएंगे उसके बाद नई वैक्सीन की खेप दी जाएगी।

RELATED ARTICLES

Most Popular