HomeबैतूलBJP : छिंदवाड़ा में कमलनाथ को हराएगी भाजपा: कमल पटेल

BJP : छिंदवाड़ा में कमलनाथ को हराएगी भाजपा: कमल पटेल

प्रदेश के कृषि मंत्री का बयान: कमलनाथ हैं धोखबाज हो गए हैं एक्सपोज

बैतूल – एक कार्यक्रम में शामिल होने बैतूल पहुंचे प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने मीडिया से स्थानीय सर्किट हाऊस में चर्चा करने के दौरान अपने विभाग को लेकर कई योजनाओं पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि गेहूं के जमाखोर व्यापारियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी। मंडियों में किसानों और व्यापारियों की सुविधाओं के लिए शेड बनाए जाएंगे। अमानक बीज और खाद को लेकर एफआईआर कराई जाएगी। प्रदेश सरकार किसान हितैषी सरकार है। किसानों की दोगुनी आय करने में देश में अव्वल है। इसके अलावा कमलनाथ ने एक बड़ा बयान भी दिया है। जिसमें उन्होंने कहा कि भाजपा ने छिंदवाड़ा विधानसभा की जिम्मेदारी उन्हें दी है। 2023 में रिजल्ट आएगा तो असली कमल आएगा और नकली कमल जाएगा।

कमलनाथ हैं धोखेबाज

प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने गुरुवार को बैतूल में मीडिया से चर्चा में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ को धोखेबाज बताते हुए कहा कि वो जो कहते हैं, करते नही हैं। जनता भी अब समझ गई है। अगले विधानसभा चुनाव में छिंदवाड़ा जिले की सातों विधानसभा सीटों और लोकसभा की सीट भाजपा जीतेगी। छिंदवाड़ा में असली कमल खिलेगा और नकली कमल भागेगा। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ नीचे तक जनता को मिल रहा है। इसी कारण छिंदवाड़ा में कमल नाथ भी हारेंगे, कमल नाथ होंगे अनाथ।

कांग्रेसी ले ढोर चराने की ट्रेनिंग

कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि छिंदवाड़ा में कमल नाथ ने कालेज खोला था, ढोल बजाने की ट्रेनिंग देने के लिए और ढोर चराने के लिए। पूरे कांग्रेसी एकत्र हो और छिंदवाड़ा जाकर ढोल बजाने और ढोर चराने की ट्रेनिंग लें क्योंकि अब उनके बस की राजनीति बची नहीं है।

निर्यात के नाम पर हुई जमाखोरी

कृषि मंत्री कमल पटेल ने मीडिया से चर्चा में कहा कि प्रदेश में 41 लाख टन गेंहू समर्थन मूल्य से अधिक दाम पर व्यापारियों ने खरीदा है। इसमें से 10 से 12 लाख टन गेंहू ही पोर्ट पर पहुंचा। शेष गेंहू दाम ब?ने की उम्मीद में व्यापारियों ने स्टाक कर लिया। आटे के दाम 33 रुपये किलो हो गए, इस कारण सरकार ने निर्यात पर रोक लगाई है। हम जमाखोरी को भी ठीक करेंगे। 

मंडी में नए शेड बनेंगे

बैतूल की कृषि उपज मंडी में शेड की कमी से किसानों की उपज खुले में रखी जाती है। इस समस्या को दूर करने के लिए कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि नए शेड बनाने के प्रस्ताव भेजे जाएंगे तो तत्काल स्वीकृत कर देंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular