Friday, August 12, 2022
spot_img
HomeबैतूलUnopposed : ग्रामीणों की एकजुटता से निर्विरोध चुने जाएंगे पदाधिकारी

Unopposed : ग्रामीणों की एकजुटता से निर्विरोध चुने जाएंगे पदाधिकारी

चिचोली(राजेंद्र दुबे) – जिले कीचिचोली तहसील क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत देवपुर कोटमी में बड़े-बुजुर्ग एवं ग्रामीणों ने एकजुट होकर सलाह- मशविरा करने के पश्चात सरपंच व पंच का निर्विरोध चुनाव करने का सराहनीय निर्णय लेते हुए पूरी पंचायत से सरपंच और पंचों के लिए भी 20 वार्डों से एक-एक ही पर्चा भरा गया है ताकि पूरी ग्राम पंचायत ही निर्विरोध निर्वाचित हो सके। ग्रामीणों द्वारा जागरूकता के साथ एकजुटता की दी गई मिसाल की सभी प्रशंसा कर रहे हैं। वहीं गांव में भी खुशी का माहौल है।

सरपंच पद के लिए अम्बर सिंग ईवने सहित ग्राम पंचायत के सभी 20 वार्डों में पंच के लिए भी एक-एक ही पर्चा जमा किया गया है। इससे सरपंच सभी सभी पंचों का भी फार्म निरस्त नहीं होने पर स्कूटनी के बाद निर्विरोध निर्वाचन हो जाएगा। वार्ड नंबर 1 से बबीता देवा, 2 से सुखलाल सददु , 3 से बाबुलाल धुर्वे, 4 से सरिता विनायक, 5 से सुग्गी ईवने, 6 से ज्योति मिथलेश, 7 से मुन्ना सिंग ईवने, 8 से सुनीता धुर्वे, 9 से माना उईके, 10 से फुलवती ईवने, 11 से श्यामवती उईके, 12 से सुनीता उईके, 13 से पप्पू उईके, 14 से बलवंती उईके, 15 से शालू धुर्वे, 16 से श्रीलाल उईके, 17 से राखी संदीप सोनी, 18 से संतू लाल कुमरे, 19 से भारती पवारे एवं वार्ड नं1 20 से सालकराम धुर्वे एक-एक ही नामांकन फार्म जमा किया है जिससे इनका स्कूटनी के बाद निविरोध निर्वाचन होना तय है।

चार माह पूर्व भी निर्विरोध किया था चयन

पिछले 4 महीने से पूर्व भी जनपद पंचायत चुनाव के लिए आचार संहिता लागू की गई थी जिसमें चुनाव से पूर्व अंतिम तारीख तक देवपुर कोटमी के लोगों ने सलाह मशवरा कर महिला सीट होने के रीना ईवने को चुन लिया था। लेकिन चुनाव निरस्त होने के बाद दोबारा चुनाव की प्रक्रिया में सरपंच पद के लिए पुरुष होने के नाते दोबारा से निर्विरोध प्रक्रिया को अपनाते हुए अब उनके पति को अमर सिंग निर्विरोध सरपंच के लिए चुन लिया गया है। सबसे बड़ी बात है कि 4 माह बीत जाने के बाद भी लोगों को मन में अटूट विश्वास कायम है।

दूर होगा गतिरोध

ग्राम पंचायत के सरपंच पद के लिए चुने गए अमरसिंग ईवने ने बताया कि एक ओर सभी वार्ड के पंचों का भी निर्विरोध निर्वाचन होने से गतिरोध दूर होगा, वहीं गांव का विकास भी होगा। क्योंकि आपस में खींचतान की भावना नहीं होगी। वहीं दूसरी ओर प्रशासन से आर्थिक सहयोग मिलने से गांव में विकास की गंगा भी बहेगी। भारतीय जनता पार्टी के उमेश पेठे ने देवपुर कोटमी के निर्विरोध चुने गए सरपंच अबंर सिगं को माला पहनाकर और मिठाई खिलाकर उनका सम्मान किया ।

गांव का होगा विकास

भारतीय जनता पार्टी की ओर से पंचायत चुनाव प्रभारी भूपेंद्र कहार ने भी बताया कि गांव में सरपंच व पंच निर्विरोध होने के बाद गांव का विकास संभव होगा। इसी तरह ग्रामीणों ने बताया कि गांव में जब चुनाव होता था तो तनाव का माहौल होता था। लोगों के बीच आपस में मनमुटाव भी होता था। लेकिन आपस में जब सभी पंच व सरपंच निर्विरोध चुने जाएंगे तो गांव में सभी तरह की समस्याएं एक साथ मिल बैठकर हल कर ली जाएगी।

इनका कहना…

ग्राम पंचायत में सरपंच या पंच के लिए भले ही एक-एक नामांकन भरा गया हो लेकिन स्कूटनी में कई बार फार्म निरस्त हो जाते हैं इसलिए जब तक स्कूटनी की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती तब तक निर्विरोध निर्वाचन नहीं माना जाएगा। स्कूटनी प्रक्रिया होने के बाद यदि सभी फार्म पात्र पाए जाते हैं और एक पद के लिए एक ही फार्म है तो इसे निर्विरोध ग्राम पंचायत का निर्वाचन माना जाएगा।

प्रभात मिश्रा, तहसीलदार, बैतूल

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments