Tuesday, August 16, 2022
spot_img
HomeबैतूलToday Special : पुलिस-प्रेस-प्रशासन में बरकरार है हनुमान दद्दा का दबदबा

Today Special : पुलिस-प्रेस-प्रशासन में बरकरार है हनुमान दद्दा का दबदबा

न्यायालय, अस्पताल, थानों सहित शासकीय दफ्तरों में है मंदिर, कामकाज शुरू करने से पहले दद्दा के दरबार में झुकते हैं शीश

बैतूल – कलयुग में हनुमान जी ही एक ऐसा देवता है जो कि अजर-अमर है। जहां कहीं भी प्रभु श्रीराम के नाम का स्मरण होता है वहां पर हनुमान जी किसी ना किसी रूप में विद्मान हो जाते हैं। माता सीता जी से अष्टसिद्धी और नवनिधि का वरदान प्राप्त श्रीराम भगवान के अन्नय भक्त माता सीता जी के लाड़ले, अंजनी के लाल, पवनपुत्र, केसरी नंदन श्री हनुमान जी ना सिर्फ युवाओं के रोड मॉडल हैं बल्कि संकट की घड़ी में सबसे पहले याद किए जाने वाले भगवान भी यही है।

यही वजह है कि सबसे अधिक हनुमान जी के मंदिर हैं। न्यायालय, पुलिस, प्रेस, अस्पताल सहित शासकीय दफ्तरों में भी हनुमान जी के मंदिर इसलिए मिलते हैं क्योंकि हर संकट से उबारने में हनुमान संजीवनी साबित होते हैं। यही वजह है कि आज भी पुलिस, प्रेस और प्रशासन में दद्दा (हनुमान जी) का दबदबा आज भी बरकरार है। आज इन हनुमान मंदिरों में भगवान हनुमान जी के जन्मोत्सव को लेकर जहां सुंदरकाण्ड पाठ, अखण्ड रामायण पाठ सहित अन्य धार्मिक आयोजनों के साथ भण्डारा प्रसादी का वितरण भी किया गया। हनुमान जन्मोत्सव पर समूचा जिला और नगर हनुमानमय हो गया है।

हनुमान जी से मिलती है पुलिसिंग की सीख

पुलिस थानों सहित पुलिस लाइन में हनुमान जी के मंदिर इसलिए बनाए जाते हैं क्योंकि हनुमान जी से बेहतर पुलिसिंग कोई नहीं सिखा सकता है। इन मंदिरों में नगर निरीक्षक से लेकर सिपाही तक सैल्यूट मारने के बाद ही अपना कामकाज प्रारंभ करते हैं। पहले थाने नहीं थे, पुलिस नहीं थी, लेकिन पुलिस अधिकारी यानी थानेदार का क्या काम होता है? कैसे किया जाता है? कैसे बल और बुद्धि का प्रयोग कहां किया जाना है? यह सब हनुमान जी से ही सीखने को मिलता।

यही कारण है कि अधिकांश थानों में हनुमान जी का मंदिर होता जरूर है। टीआई सहित तमाम पुलिसकर्मी थाने में अपनी उपिस्थत दर्ज कराने से पहले गाड़ी से उतरते ही पहले हनुमान जी की शरण में पहुंचते हैं, वहां सैल्यूट करते हैं और फिर बल-बुद्धि और विवेक से काम करने की प्रार्थना करके ही काम शुरू करते हैं।

सेवानिवृत्त टीआई आरएस मिश्रा ने बताया कि हनुमान जी शक्ति के प्रतीक माने जाते हैं और पुलिस का काम उनकी शक्ति के बिना संभव नहीं। इसलिए सबसे पहले उनसे ही प्रार्थना करके काम शुरू करते हैं। यही कारण है कि अधिकांश थानों में हनुमान जी का मंदिर मिलता है।

हनुमान जी के बिना नहीं हो सकती पुलिसिंग

सेवानिवृत्त थानेदार बीएल पंवार कहते हैं कि हनुमान जी के बिना पुलिसिंग हो ही नहीं सकती। वे शक्ति ही नहीं, बल और बुद्धि के प्रतीक भी हैं। पुलिस को इन सबकी बहुत जरूरत होती है। केवल शक्ति से ही नहीं बल्कि अपराधी को पकडऩे के लिए बुद्धि और विवेक की भी आवश्यकता होती है।

श्री पंवार कहते हैं कि रामायण में हनुमान जी द्वारा सीता की खोज, सुरसा को झांसा देकर उसके मुंह से निकल आने, लंका में प्रवेश के लिए सूक्ष्म रूप धारण करने, विभीषण से मिलते समय भी वेष बदलने, राक्षसों को सजा देने और अपने कर्तव्य के प्रति सजग रहने का हर उदाहरण है। यह पुलिस को हर स्थिति से निपटने की सीख ही देता है। इसलिए थाने में हनुमान जी की प्रतिमा, मंदिर अधिकांश स्थानों पर होता है। पुलिस भी वही काम करती है जो हनुमान जी ने रामायण में किया है। अच्छे पुलिस अधिकारी भी हनुमान जी की कार्यशैली से ही पुलिसिंग सीखते हैं।

खोजी पत्रकारिता के पुरोधा है हनुमान जी

यदि पत्रकारिता का जनक देव ऋषि नारद जी को कहा जाता है तो खोजी (एक्सक्यूलिसिव) पत्रकारिता के भी श्री हनुमान जी पुरोधा है। हनुमान जी महाराज तमाम झंझावतों को दरकिनार करते हुए माता सीता जी की खोज की थी। हनुमान जी का लंका तक जाना और माता सीता की खोज कर वापस किष्किंधा तक लौटकर आना पत्रकारों के लिए किसी सीख नसीहत से कम नहीं है कि उन्होंने अपना मिशन को आंखों के सामने रखकर मिशन तमाम रूकावटें आने के बाद भी मिशन को कामयाब किया।

आज भी हनुमान जी को पत्रकारिता का पुरोधा मानने वाले पत्रकार खोजी पत्रकारिता इस तरह से करते हैं कि किसी को कानों कान तक खबर ना हो। अपना काम कर वह खबर को ऐसी प्रकाशित करते हैं जैसे लंका दहन हो रहा हो।

हनुमान जन्मोत्सव पर हनुमान मय हुआ शहर

हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर कोठीबाजार सहित उप नगर कहे जाने वाला गंज बाजार पूरी तरह से भगवामय हो गया है। आज शाम को भगवान श्री हनुमान जी भव्य शोभायात्रा निकाली जाएगी। तो वहीं मेंहदीपुर बालाजी की रथ यात्रा भी निकलेगी। इन शोभायात्रा और रथ यात्राओं में हनुमान भक्तों का जनसैलाब उमड़ेगा। गंज में व्यापारी संघ द्वारा भी हनुमान जन्मोत्सव को लेकर व्यापक तैयारियां की गई है।

हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर हनुमान मंदिरों में जहां अखण्ड रामायण का शनिवार को समापन हुआ वहीं कई मंदिरों में शनिवार को सुंदरकाण्ड का पाठ भी किया गया। इसके अलावा अन्य धार्मिक अनुष्ठान भी संपन्न कराने के उपरांत भण्डारा प्रसादी का वितरण किया गया। बालाजी रथ यात्रा और हनुमान जी की शोभायात्रा का स्वागत करने के लिए दर्जनों की संख्या में स्वागत द्वार बनाए गए हैं। इसके अलावा भगवा ध्वजों से पूरा शहर ही भगवामय हो गया है।

प्रशासन में भी संकटमोचन बन दफ्तरों में विराजमान हैं हनुमान जी

शासकीय दफ्तरों में भी हनुमान जी की मंदिर में प्रतिमा इसलिए है क्योंकि हनुमान जी हर संकट से उबारने का काम करते हैं। हनुमान जी को संकट मोचन भी कहा जाता है। शासकीय सेवकों का कहना है कि कामकाज के दौरान कई मर्तबा गलती अथवा चूक हो जाती है। तो कई बार कई कारणों से नौकरी पर बन आ जाती है लेकिन हनुमान हर संकट से बचाने का कार्य करते हैं इसलिए उन्हें संकट मोचन कहते हैं।

दफ्तर में कामकाज शुरू करने से पहले सभी अधिकारी-कर्मचारी हनुमान के मंदिर में इसलिए शीश झुकाते हैं ताकि हर संभव से हनुमान जी महाराज उन्हें बचाए। यही वजह है कि जिला अस्पताल, कलेक्ट्रेट, पुलिस, प्रशासन, न्यायालय, डाक घर सहित अन्य शासकीय विभागों में हनुमान जी का मंदिर देखने को मिल जाता है।

पंचवटी हनुमान मंदिर में साहू परिवार ने किया प्रसादी वितरण

आमला – आज हनुमान जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा रहा है। सुबह से हनुमान मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है। नगर के पंचवटी हनुमान मंदिर में हनुमान जी की विशेष पूजा पाठ और आरती के उपरांत साहू परिवार द्वारा हलवा का प्रसाद वितरण शुरू किया गया। साहू परिवार द्वारा पंचवटी हनुमान मंदिर में चार दशकों से हनुमान जी की सेवा की जा रही है। महेश साहू ने बताया की हनुमान जन्मोत्सव पर शाम 5 बजे भजन संध्या पंचवटी परिसर में आरंभ होगी।स्वर विहार ग्रुप के संचालक महेंद्र मानकर,अखिलेश जैन,दीपा पंडोले, हरमीत ठाकरे, विद्या भलावी भजन संध्या प्रस्तुत करेंगे।

21 फुट की गदा के साथ हनुमान जी निकाली शोभायात्रा

आमला – श्री रामभक्त हनुमान मंदिर समिति रेलवे कॉलोनी आमला से हनुमान जन्मोत्सव पर प्रात: 6 बजे जन्मउत्सव मनाया। शोभायात्रा लोको हनुमान मंदिर से प्रारम्भ होकर राम मंदिर मेनरोड आमला पहुंची यहां पर व्यापारियों ने शोभायात्रा का भव्य स्वागत किया।शोभायात्रा के दौरान दुर्गा मंदिर बस स्टैंड आमला,राममंदिर मेन रोड आमला,माता मंदिर पांडे मोहल्ला आमला में विशाल ध्वज समिति के सदस्यों ने लगाया। इस दौरान शोभायात्रा में 21 फुट का गदा आकर्षण का केंद्र रही। शोभायात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे। आयोजन समिति से जुड़े अनुज लवली शिवहरे, पीयूष यादव, राहुल जौंजारे, महेंद्र विश्वकर्मा, पंकज डोंगरे ने बताया कि आज ही शाम को लोको हनुमान मंदिर प्रांगण में विशाल भंडारे का आयोजन रखा गया है।

हनुमान जी की शोभा यात्रा का किया स्वागत

आमला – श्री हनुमान जन्मोत्सव के शुभ अवसर पर पंजाब सेवा समिति, आमला ने रेलवे कॉलोनी से आई शोभा यात्रा का जोरदार स्वागत किया। शोभायात्रा में शामिल भक्त जनों ने पहले श्रीराम मंदिर में पूजा अर्चना की फिर हनुमान चालीसा का पाठ बाद आरती हुई। इसके बाद समिति ने उपस्थित भक्तों को स्वल्पाहार कराया और प्रसाद वितरण किया। आयोजन में राजू मदान यश गुगनानी, राजीव मदान, मनीष अरोरा, रिषि बत्रा, सुभाष बत्रा, अमित बत्रा, श्रीमति विमल मदान, निशि मदान, शालू मदान, विमला गुगनानी, रीतू गुगनानी, भावना गुगनानी आदि समाज सेवी उपस्थित थे।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments