Wednesday, August 17, 2022
spot_img
Hometrendingसुपारी की खेती: सुपारी का पेड़ लगाए बस एक बार और 70...

सुपारी की खेती: सुपारी का पेड़ लगाए बस एक बार और 70 साल तक होगी मोटी कमाई।

सुपारी की खेती: सुपारी का पेड़ लगाए बस एक बार और 70 साल तक होगी मोटी कमाई।

बाजार में सुपारी की हमेशा भारी मांग रहती है
सुपारी की खेती:
कृषि में नए प्रयोग किसानों की आय बढ़ाते हैं। औषधीय पदार्थों की खेती लाभदायक सिद्ध होती है। आज हम आपसे सुपारी की खेती के बारे में बात कर रहे हैं। एक बार पान का पेड़ बन जाने के बाद 70 साल तक बड़ी आमदनी होती है। भारत में साल भर सुपारी की काफी मांग रहती है। पान का इस्तेमाल धार्मिक कार्यों से लेकर इसके सेवन तक और कई तरह से किया जाता है। इसका सेवन कुछ हद तक सेहत के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन इसका ज्यादा सेवन हानिकारक हो सकता है। किसान भाइयों को पारंपरिक खेती के बजाय अब सुपारी की खेती में भी शामिल होना चाहिए ताकि उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो सके। सुपारी के फल के लिए उसे सिर्फ सात से आठ साल इंतजार करना होगा। आइए, इस ट्रैक्टर गुरु पोस्ट में हम आपको सुपारी की खेती के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

सुपारी उगाने के लिए मिट्टी कैसे बनाएं
हालांकि सुपारी को किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए चिकनी मिट्टी अधिक उपयुक्त होती है। जबकि मिट्टी का पीएच मान 7 से 8 होना चाहिए। इसके लिए तापमान 28 डिग्री के आसपास होना चाहिए। सबसे पहले खेत की जुताई करें और उसमें चटाई बिछा दें। पान के पौधों की रोपाई के लिए 2.7 मीटर गहरा गड्ढा तैयार करें। उनका आकार 90 x 90 सेमी होना चाहिए। सुपारी लगाने के लिए किसान भाइयों को उन्नत नस्ल के पौधे लेने चाहिए।

सुपारी की उन्नत किस्में
सुपारी की नस्लों में मंगला, सुमंगला, श्रीमंगला, मोहित नगर, हिरेहल्ली बौना आदि प्रमुख हैं।

केंद्रीय वृक्षारोपण फसल अनुसंधान संस्थान ने दो संकर प्रजातियां तैयार की हैं
यहां बता दें कि सुपारी की खेती को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय वृक्षारोपण फसल अनुसंधान संस्थान ने हाल ही में दो संकर किस्में विकसित की हैं। इन्हें उगाने से किसान अधिक उपज प्राप्त कर सकते हैं। संस्थान का दावा है कि ये प्रजातियां बीमारी के प्रकोप के लिए अतिसंवेदनशील नहीं हैं। ये नई प्रजातियां आकार में बौनी हैं, जिससे किसानों के लिए पेड़ों की देखभाल करना आसान हो गया है।

सबसे पहले सुपारी की नर्सरी तैयार करें
सुपारी उगाने के लिए सबसे पहले आपको नर्सरी की तैयारी करनी होगी। इसमें कुछ दूरी पर सुपारी के पौधे लगाए जाते हैं। जब पौधे विकसित हो जाते हैं, तो उन्हें खेत में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। रोपण करते समय इस बात का ध्यान रखें कि खेत में जल निकासी की उचित व्यवस्था हो। सुपारी के पौधे जुलाई से अगस्त के महीने में खेत में लगाएं। जब पौधे तैयार हो जाएं तो प्रति पौधे 10 से 20 किलो सड़ी हुई खाद डालें। साथ ही 40 ग्राम फास्फोरस, नाइट्रोजन, 100 ग्राम नत्रजन और 140 ग्राम पोटाश देना चाहिए। सुपारी के स्टैंड में खरपतवार नियंत्रण के लिए साल में दो से तीन बार निराई-गुड़ाई करनी चाहिए। पौधों को मध्य नवंबर से फरवरी और मार्च से मई तक पानी देना चाहिए।

ये हैं सुपारी के औषधीय गुण और इसके उपयोग
यहां बता दें कि सुपारी का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है। इसका उपयोग घरों में साधारण पूजा से लेकर विवाह और सभी प्रकार के धार्मिक अनुष्ठानों में किया जाता है। पेट की बीमारी होने पर इसका काढ़ा बनाकर पिया जा सकता है। वहीं डायरिया या डायरिया होने पर धीमी आंच पर पका हुआ हरा सुपारी खाने से तुरंत फायदा होता है. इसके अलावा, यह दांत दर्द और पीठ दर्द के लिए रामबाण का काम भी करता है।

सुपारी के उत्पादन से क्या होता है लाभ
आइए आपको यहां बताते हैं कि सुपारी की खेती से क्या-क्या लाभ होगा। अगर आपने 1 एकड़ जमीन पर सुपारी का पौधा लगाया है तो उसे कम से कम 50 हजार रुपए प्रति पेड़ सुपारी मिलेगी। सुपारी का बाजार भाव 400 रुपये से 600 रुपये प्रति किलो के बीच है।

आपको हर महीने अपडेट रखने के लिए, ट्रैक्टरगुरु मासिक ट्रैक्टर कंपनी की बिक्री रिपोर्ट प्रकाशित करता है, जिसमें पॉवरट्रैक ट्रैक्टर और फोर्स ट्रैक्टर कंपनी शामिल हैं। ट्रैक्टर बिक्री रिपोर्ट राज्य, जिला और हिमाचल प्रदेश द्वारा थोक और खुदरा ट्रैक्टर बिक्री की जानकारी प्रदान करती है। इसके अलावा, ट्रैक्टरगुरु आपको बिक्री रिपोर्ट के लिए मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। यदि आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments