Betul News | आईस्क्रीम का सेम्पल फेल होने पर ठोका 25 हजार जुर्माना

मामला राजस्थान से आकर बैतूल में आईस्क्रीम बेचने का

Betul Newsबैतूल शहर के हर चौक-चौराहे और प्रमुख सड़कों पर राजस्थान की आईस्क्रीम की गाड़ियां लगी रहती हैं और जगह बदलते रहती हैं। यह सबकुछ पिछले 10 वर्षों से चल रहा है। इसी दौरान प्रशासन के खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन द्वारा इन वाहनों से आईस्क्रीम के सेम्पल लिए गए हैं और इस वर्ष भी यह प्रक्रिया हो रही है। लेकिन इस वर्ष के सेम्पल की रिपोर्ट आना बाकी है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग द्वारा एक गाड़ी से आईस्क्रीम का सेम्पल लिया गया था जो कि फेल हो गया था।

हो चुका 25 हजार रु. का जुर्माना | Betul News

लोगों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए खाने-पीने की सामग्री के सेम्पल लिए जाते हैं। जिन सेम्पल में मिलावट पायी जाती है उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिए जिससे लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहे और ऐसी दुकान से खाने-पीने की सामग्री लेने से बचे। हालांकि विभाग के द्वारा समय-समय पर सेम्पल लिए जाते हैं। बताया जा रहा है कि बाम्बे आईस्क्रीम की दुकान से कुल्फी का सेम्पल लिया गया था जो फेल हो गया था। इसके खिलाफ 25 हजार रुपए का जुर्माना किया गया था। इससे साफ है कि इन वाहनों में बेचे जा रही खाद्य सामग्री में मिलावट की जा रही है जो कि स्वास्थ्य के प्रति बेहद खतरनाक है।

अभी तक हुई कार्यवाही

राजस्थान से बैतूल आकर आईस्क्रीम बेचने वालों को लेकर विभाग की कार्यवाही के बारे में खाद्य सुरक्षा अधिकारी संदीप पाटिल से जब सांध्य दैनिक खबरवाणी ने चर्चा की तो उन्होंने बताया कि शहर में लगभग सभी आईस्क्रीम बेचने वालों के लाइसेंस बने हुए हैं फिर भी चेक करवा रहे हैं, अगर किसी का नहीं बना होगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। हर साल इस सीजन में आइस्क्रीम की दुकानों से सेम्पल लिए जाते हैं। 2020 में बाम्बे आईस्क्रीम वाले की कुल्फी का सेम्पल फेल हुआ था। इस साल अभी तक 31 सेम्पल लिए जा चुके हैं। सेम्पलिंग की कार्यवाही चल रही है। इनकी रिपोर्ट आना बाकी है। अगर किसी का सेम्पल फेल होता है तो उसके खिलाफ विभाग के द्वारा सख्त कार्यवाही की जाएगी।

कुकुरमुत्तों की तरह दिख रहे हैं आईस्क्रीम पार्लर | Betul News

चलित आईस्क्रीम पार्लर की यह हालत है कि शहर और जिले में कुकुरमुत्तों की तरह की ऊग आए हैं। खास बात यह है कि इनमें राजस्थान से आईस्क्रीम बेचने वालों की संख्या बहुत ज्यादा है। सवाल यह उठता है कि इनकी दुकान चलित है और अगर इनकी दुकान से खाद्य सामग्री में मिलावट के कारण किसी के स्वास्थ्य पर असर पड़ता है तो और यह दुकान संबंधित जगह से दूसरी जगह चली जाती है तो इस दुकान को लोग कैसे तलाश करेंगे और इसके खिलाफ कैसे कार्यवाही करेंगे? इन दुकानों को लेकर पुलिस, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन, यातायात पुलिस और नगर पालिका की जिम्मेदारी बनती है कि नागरिकों के हित में इन दुकानों की सख्त जांच की जाए और सतत् निगरानी रखी जाए।