Homeदेशअब आलू के खेती के लिए किसानो को मिलेगी सहायता राशि।

अब आलू के खेती के लिए किसानो को मिलेगी सहायता राशि।

जानिए, किन जिलों के किसानों को मिलेगा लाभ और कहां करें आवेदन
केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा किसानों को अनुदान पर बीज उपलब्ध कराया जा रहा है। इसमें किसानों को सब्सिडी दी जा रही है ताकि उन्हें सस्ती दर पर प्रमाणित बीज उपलब्ध कराया जा सके। कई राज्यों में किसानों को दलहन और तिलहन के बीज सब्सिडी पर दिए जा रहे हैं ताकि उत्पादन बढ़ने के साथ-साथ किसानों की आय भी बढ़े. इसी क्रम में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के किसानों को आलू उत्पादन के लिये बीज, कीटनाशक एवं स्प्रे मशीन पर अनुदान दिया जा रहा है. इसके लिए विभाग द्वारा लक्ष्य निर्धारित कर दिए गए हैं। लक्ष्य के अनुसार चयनित जिलों के किसानों को अनुदान का लाभ मिलेगा. आपको बता दें कि मध्य प्रदेश सरकार समय-समय पर कृषि यंत्रों के साथ-साथ प्रमाणित बीज, खाद आदि पर सब्सिडी का लाभ देती है। इसके लिए विभाग से आवेदन मांगे गए हैं। इच्छुक किसान इसमें आवेदन कर सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं। वर्तमान में आलू की खेती के लिए किसानों को अनुदान दिया जा रहा है।

किन जिलों के किसानों को मिलेगा सब्सिडी का लाभ
मीडिया में जारी समाचार से प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश में सब्जी प्रदर्शन कार्यक्रम (आलू) योजना के तहत 4 जिलों शिवपुरी, उज्जैन, सागर, शाजापुर को लक्ष्य जारी किया गया है. इन चार जिलों के लिए 600 इकाइयों का लक्ष्य रखा गया है। यह योजना केवल अनुसूचित जाति के किसानों के लिए है। उक्त जिलों के अनुसार शिवपुरी में 200, उज्जैन में 200, सागर में 183, शाजापुर में 177 किसानों को अनुदान देने का लक्ष्य रखा गया है.

आलू की खेती के लिए ये जरूरी सामग्री अनुदान पर दी जाएगी
आलू प्रदर्शनी कार्यक्रम के तहत किसानों को प्रमाणित बीज के साथ ही खेती के लिए आवश्यक अन्य सामग्री सब्सिडी पर दी जाएगी। ये सभी सामग्री किसानों के लिए आवश्यक है। किसानों को प्रमाणित आलू बीज, बैटरी कम हैंड स्प्रेयर पंप, प्लास्टिक किट आदि भी उपलब्ध कराई जाएगी।

किस कीमत पर किसानों को बीज व अन्य सामग्री मिलेगी
आलू प्रदर्शनी कार्यक्रम के तहत चयनित किसानों को भौतिक लक्ष्य के अनुसार आलू बीज सहित अन्य सामग्री दी जाएगी। एक किसान को 0.1 हेक्टेयर के लिए 200 किलोग्राम प्रमाणित आलू बीज 25 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से 5000 रुपये तक दिया जाएगा। साथ ही एक बैटरी कम हैंड स्प्रेयर पंप 1 दिया जाएगा, जिसकी कीमत 3,175 रुपये है। प्लास्टिक कैट को 4 दिए जाएंगे, जिसकी कीमत 450 रुपये प्रति प्लास्टिक कैट है, जिसके लिए कुल 1800 रुपये लिए जाएंगे.

किसानों को आलू की खेती के लिए सब्सिडी कैसे मिलेगी
आलू प्रदर्शन कार्यक्रम के तहत प्रति यूनिट निश्चित लागत राशि 10,000 रुपये है। यदि आलू के बीज एवं आवश्यक सामग्री (बैटरी सह हैंड स्प्रेयर पंप एवं प्लास्टिक किट) का वास्तविक मूल्य निर्धारित इकाई लागत से कम है तो शेष/अंतर राशि का उपयोग किसान द्वारा अन्य आवश्यक सामग्री (बीज उपचार दवा, उर्वरक) खरीदने हेतु किया जायेगा। , उर्वरक, कीटनाशक और सूक्ष्म पोषक तत्व) स्वयं। बिल कर जिले के उप/सहायक निदेशक उद्यानिकी को प्रस्तुत किया जायेगा, बिल के सत्यापन के उपरान्त यह राशि डी0बी0टी0 के माध्यम से किसान के खाते में भुगतान की जायेगी। माध्यम से किया जायेगा

अनुदान पर आवश्यक सामग्री प्राप्त करने के लिए कब और कैसे आवेदन करें
अनुसूचित जाति उपयोजना विशेष केन्द्रीय सहायता अंतर्गत वर्ष 2019-20 के आलू प्रदर्शन कार्यक्रम हेतु ऑनलाइन आवेदन किया जायेगा। किसान आवेदन 26 अक्टूबर 2021 को सुबह 11 बजे से किया जा सकता है। बता दें कि मध्य प्रदेश में उद्यान विभाग द्वारा संचालित सभी योजनाओं के लिए आवेदन ऑनलाइन किए जाते हैं, इसलिए जो इच्छुक किसान योजना का लाभ लेना चाहते हैं, वे उद्यान विभाग मध्य प्रदेश किसान सब्सिडी ट्रैकिंग सिस्टम https://mpfsts.mp के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकते हैं। .gov.in/mphd/ #/ पर कर सकते हैं।

योजना से संबंधित अधिक जानकारी के लिए कहां संपर्क करें-
चूंकि आलू की खेती के लिए आवश्यक सामग्री पर अनुदान के लिए राज्य उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, मध्य प्रदेश द्वारा आवेदन आमंत्रित किए गए हैं, इसलिए यदि किसान भाई योजनाओं के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं, तो उद्यान एवं मध्य प्रदेश विभाग की वेबसाइट https: http://mpfsts.mp.gov.in/mphd/#/ या प्रखंड स्तर पर कार्यालय में संपर्क करें।

यह भी पड़े: Dulhe Ki Entry – अपने डॉगी को बाइक पर बैठाल कर दूल्हे ने ली एंट्री, सब देख कर रह गए दंग 

RELATED ARTICLES

Most Popular