Friday, September 30, 2022
spot_img
Hometrendingचाणक्य निति: ये 4 परिस्थितिया बन सकती है आपकी जान की दुश्मन...

चाणक्य निति: ये 4 परिस्थितिया बन सकती है आपकी जान की दुश्मन इनसे रहे सावधान।

महान विद्वान, शिक्षक, कुशल राजनयिक, रणनीतिकार और अर्थशास्त्री आचार्य चाणक्य ने एक नीति की रचना की है। उन्होंने अपनी नैतिकता में जीवन के हर पहलू को विस्तार से समझाया है। इन नीतियों के माध्यम से आचार्य चाणक्य ने मनुष्य को महत्वपूर्ण और सशक्त संदेश भी दिया है। आज के संदेश में वे बताते हैं कि कौन सी 4 स्थितियां हैं जो आपके जीवन की दुश्मन बन सकती हैं। आइए जानते हैं।
ये 4 स्थितियां बन सकती हैं आपके जीवन की दुश्मन, हमेशा रहें इनसे दूर

ये 4 स्थितियां बन सकती हैं आपके जीवन की दुश्मन, हमेशा रहें इनसे दूर

न्यूज,डेस्क- महान विद्वान, शिक्षक, कुशल राजनयिक, रणनीतिकार और अर्थशास्त्री आचार्य चाणक्य ने एक नीति बनाई है। उन्होंने अपनी नैतिकता में जीवन के हर पहलू को विस्तार से समझाया है। इन नीतियों के माध्यम से आचार्य चाणक्य ने मनुष्य को महत्वपूर्ण और सशक्त संदेश भी दिया है। चाणक्य की नीतियों से कोई भी व्यक्ति अपने जीवन को श्रेष्ठ बना सकता है।

चाणक्य नीति: पुरुषों को इन बातों को रखना होगा गुप्त, प्राप्त करें सम्मान

चाणक्य नीति: पुरुषों को इन बातों को रखना होगा गुप्त, प्राप्त करें सम्मान
इतना ही नहीं आचार्य चाणक्य की नीतियां इतनी प्रभावी हैं कि आज भी यह व्यक्ति को किसी भी परेशानी या परेशानी से बाहर निकलने में मदद करती हैं। चाणक्य ने कुछ स्थितियों के बारे में भी बताया है जब साहस दिखाने के बजाय पीछे हटना चाहिए, क्योंकि ऐसे समय में साहस काम नहीं आता। चाणक्य नीति के अनुसार इन परिस्थितियों का सामना करने वाले बुरे लोग फंस सकते हैं। आइए जानते हैं कौन सी हैं वो चार स्थितियां जब इंसान को उसका सामना करने के बजाय पीछे मुड़ना चाहिए।

आचार्य चाणक्य के अनुसार अगर कोई अपराधी आपके पास आता है या आपसे मदद मांगता है तो आपको तुरंत उस जगह से हट जाना चाहिए। क्योंकि इससे आपके मान सम्मान पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है और छवि भी खराब हो सकती है।

बदला-

चाणक्य नीति का कहना है कि अगर आपका दुश्मन आप पर हमला करता है, तो उससे लड़ने से बेहतर है कि आप भाग जाएं, क्योंकि वह एक रणनीति लेकर आया होगा और आप बिना रणनीति के उसका सामना नहीं कर पाएंगे। अगर जान बच जाती है, तो आप उससे फिर से मुकाबला कर सकते हैं।

हिंसा-

आचार्य चाणक्य ने इस श्लोक के माध्यम से बताया है कि यदि हिंसा भड़कती है, दंगे होते हैं, तो व्यक्ति को तुरंत उस स्थान से भाग जाना चाहिए। अक्सर उपद्रव में भीड़ बेकाबू हो जाती है और कभी भी हमला कर सकती है। ऐसे में जान बचाकर वहां से भाग जाना ही समझदारी है।
अर्थव्यवस्था-

चाणक्य नीति के अनुसार, जहां अर्थव्यवस्था खराब हुई है, उस जगह को छोड़ देना बेहतर है, लोग खाने-पीने और रहने के संसाधनों के लिए तरस रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि लंबे समय तक ऐसी जगह पर रहने से आपको अपने परिवार के साथ-साथ नुकसान भी हो सकता है।

चाणक्य निति: ये 4 परिस्थितिया बन सकती है आपकी जान की दुश्मन इनसे रहे सावधान।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments