spot_img
HometrendingWheat Best Variety: गेहूं की इस किस्म को कहते हैं सोने की...

Wheat Best Variety: गेहूं की इस किस्म को कहते हैं सोने की खेती, 6000 रुपये प्रति क्विंटल बिकता है यह गेहूं, देखें उत्पादन

Wheat Best Variety: गेहूं की इस किस्म को कहते हैं सोने की खेती, 6000 रुपये प्रति क्विंटल बिकता है यह गेहूं, देखें उत्पादन गेहूं की इस किस्म को गोल्डन एग्रीकल्चर कहा जाता है, यह गेहूं 6000 रुपये प्रति क्विंटल बिकता है, इसका उत्पादन तो देखिए, किसानों के साथ-साथ वैज्ञानिक भी कृषि की लाभप्रदता बढ़ाने के नए-नए तरीके ईजाद कर रहे हैं। हुह। ताकि खेती की लागत कम कर अधिक से अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सके और किसानों को अच्छा मुनाफा हो सके। गेहूं की नई किस्में, जिनकी देश में सबसे अधिक खेती की जाती है, किसानों को बेहतर उत्पादन के जरिए अच्छा मुनाफा कमाने का मौका देती हैं। गेहूं की इन किस्मों में लोकप्रिय किस्म कठिया है, जिसे काला गेहूं भी कहा जाता है।

Wheat Best Variety: गेहूं की इस किस्म को कहते हैं सोने की खेती, 6000 रुपये प्रति क्विंटल बिकता है यह गेहूं, देखें उत्पादन
Wheat Best Variety: गेहूं की इस किस्म को कहते हैं सोने की खेती, 6000 रुपये प्रति क्विंटल बिकता है यह गेहूं, देखें उत्पादन

Wheat Best Variety

देखिए कहां कहां इस गेहूं का इस्तेमाल होता है
कठिया गेहूं की इस लोकप्रिय किस्म का उपयोग दलिया, सूजी और रवा तैयार करने के साथ-साथ नूडल्स, नूडल्स, पिज्जा, वर्मी सेली और स्पेगेटी बनाने के लिए किया जाता है। पानी की कमी वाले इलाकों के लिए कठिया गेहूं की पैदावार किसी वरदान से कम नहीं है।

जानिए गेहूं की इस खास किस्म के बारे में

भारत में लगभग 25 लाख हेक्टेयर या इससे अधिक क्षेत्रफल में कठिया गेहूँ की खेती से अधिक उत्पादन होता है। गेहूँ उत्पादों की बढ़ती माँग के कारण कठिया गेहूँ का क्षेत्रफल बढ़ाने की आवश्यकता है। पोषक तत्वों से भरपूर गेहूं की यह किस्म कुछ साल पहले तक केवल उत्तर प्रदेश के किसानों तक ही सीमित थी, लेकिन इसकी खूबियों को परखने के बाद अब गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान के किसान भी कठिया गेहूं उगाने को लेकर उत्साहित हैं.

असिंचित या कम पानी वाले क्षेत्रों में भी कठिया से 30 से 35 क्विंटल गेहूं की खेती की जा सकती है। जबकि सिंचित क्षेत्रों में काला गेहूं 50 से 60 क्विंटल तक उपज देता है। गेहूं की आम किस्मों की तुलना में कठिया गेहूं को बीटा कैरोटीन और ग्लूटेन का अच्छा स्रोत माना जाता है। इसमें अन्य किस्मों की तुलना में 1.5 से 2 प्रतिशत अधिक प्रोटीन होता है। पोषक तत्वों से भरपूर कठिया गेहूं की फसल में जंग रोग लगने की संभावना भी कम होती है. देश-विदेश में बढ़ती मांग के कारण काला गेहूं बाजार में 4,000 से 6,000 रुपये प्रति क्विंटल बिक रहा है।

Wheat Best Variety: गेहूं की इस किस्म को कहते हैं सोने की खेती, 6000 रुपये प्रति क्विंटल बिकता है यह गेहूं, देखें उत्पादन

असिंचित दशाओं में कठिया गेहूँ की बुआई अक्टूबर के अन्तिम सप्ताह से नवम्बर के प्रथम सप्ताह तक करनी चाहिए। सिंचित दशा में नवंबर का दूसरा और तीसरा सप्ताह सर्वोत्तम समय है। कठिया गेहूं की किस्मों में सूखे के लिए उच्च प्रतिरोध होता है। अत: केवल 3 सिंचाई ही पर्याप्त होती है जिससे 45-50 किग्रा/हेक्टेयर उत्पादन होता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular