HomeबैतूलStrange : खुद पर चलाई गोली फसा दिया पडोसी को,10 बार खाली...

Strange : खुद पर चलाई गोली फसा दिया पडोसी को,10 बार खाली गया फायर,11वी बार चल गई गोली

सारनी (हेमंत सिंह रघुवंशी)-कैलाश नगर में गोली चलने वाले सनसनीखेज मामले का खुलासा दंग कर देने वाला हुआ । आपको जानकर हैरत होगी एक आदमी अपने ऊपर खुद गोली चलाता है और पुरानी रंजिश के चलते पड़ोसी को फसा देता है ।

सारनी थाने में 26 मई को फरियादी अरुण पिता अशोक कुरारिया ने रिपोर्ट किया कि उसके मोहल्ले में रहने वाले दिलीप गुलबाके ने उसके पास आकर बोला कि तू यहां खड़ा क्यों हैं। यह कह कर पिस्टल से गोली मार दी । रिपोर्ट पर पुलिस ने अपराध धारा 307 भादवि का कायम कर विवेचना में लिया गया।

विवेचना के दौरान पुलिस अधीक्षक बैतूल सिमाला प्रसाद द्वारा घटना का खुलासा करने हेतु अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नीरज सोनी ,सारनी एसडीओपी रोशन कुमार जैन के मार्गदर्शन में टीम गठित की गई । टीम द्वारा विवेचना में यह तथ्य आये कि दिलीप गुलबाके एम्स अस्पताल भोपाल में अपने मानसिक बिमारी का इलाज करने हेतु 21 मई से भर्ती हैं।

विवेचना के दौरान घटना स्थल का सूक्ष्म निरीक्षण किया गया व फरियादी अरुण कुरारिया से गहनता से पुछताछ की गई तो उन्होंने स्वीकार किया कि दिनांक 25-26 मई कि रात्रि अरुण कुरारिया खाना खा कर अपनी गाड़ी मालवीय लॉन के पास पहुंचा जहां उसके पास पूर्व में खरीदी हुई रिवाल्वर थी। जिसको उसने चलाने का प्रयास किया परन्तु वह पिस्टल नहीं चली।

अरुण ने उसी पिस्टल से 10-12 बार अपने शरीर पर चलाने का प्रयास किया और यह समझा कि पिस्टल खराब हैं। व सीने के पास पिस्टल लगा कर चलाई तो पिस्टल चल गई व खून निकलने लगा तो अरुण खबरा गया व सोचा कि डॉक्टर के पास इलाज करने जाउगा व मुझसे घटना के संबंध में पुछेगा इसलिये उसने आनन-फानन में उसके पूर्व के दुशमन दिलीप गुलबाके के नाम से रिपोर्ट डाल दी जिससे उसका इलाज हो सके।

खुलासे को लेकर एसडीओपी रोशन जैन का कहना है कि धारा 307 के मामले में ख़ारजी कटेगी और इस मामले में जांच की जा रही है साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं उसके बाद ही संबंधित व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा ।

घटना का पर्दापास करने में अहम भूमिका निरीक्षक रत्नाकर हिंगवे थाना प्रभारी सारनी, निरीक्षक ए.आर खान थाना प्रभारी चोपना, उनि राहुल रघुवंशी, सउनि एस एम हुसैन, सउनि रामेश्वर सिंह, प्रआर 05 शैलेन्द्र सिंह,प्र आर 185 अरविन्द्र सिंह, आर 293 गजानन्द की अहम भूमिका रही

RELATED ARTICLES

Most Popular