HometrendingSSC Bharti 2022-23 - परीक्षा से पहले इन नियमों में किया गया...

SSC Bharti 2022-23 – परीक्षा से पहले इन नियमों में किया गया बदलाव, 45000 पदों पर होगी भर्ती   

SSC Bharti 2022-23कर्मचारी चयन आयोग देश का सबसे बड़ा चयन आयोग है जिसके अंतर्गत कई सारे विभागों में भर्ती प्रक्रिया आयोजित की जाती है। इस समय चयन आयोग द्वारा जरूरी खबर जारी की गई है। अगर हम बात करें तो कर्मचारी चयन आयोग (SSC Recruitment 2023) के उम्मीदवारों के लिए एक जरुरी जानकारी है जो ये है की आयोग द्वारा एसएससी जीडी कांस्टेबल भर्ती के नियमों में बड़ा बदलाव किया गया है।आयोग द्वारा  एसएससी ने नोटिस जारी कर जीडी कांस्टेबल भर्ती में महिलाओं के प्रेगनेंसी स्टेटस, एनसीसी सर्टिफिकेट एवं सुरक्षाबलों की वरीयता चुनने को लेकर संशोधन किया है।इसके तहत करीब 45000 पदों पर भर्ती होना है।

SSC Bharti 2022-23 – परीक्षा से पहले इन नियमों में किया गया बदलाव

कर्मचारी चयन आयोग (Staff Selection Commission) ने नोटिफिकेश जारी कर कहा है कि एसएससी जीडी कांस्टेबल भर्ती के लिए आयोजित होने वाले पीएसटी/ पीईटी फेज में शामिल होने से पहले महिला उम्मीदवारों को अपने प्रेग्नेंसी की जानकारी देनी होगी। अब एसएससी जीडी परीक्षा 90 मिनट की बजाय 60 मिनट में आयोजित होगी। 100 प्रश्न की जगह 80 प्रश्न पूछे जाएंगे और हर प्रश्न 2 अंक का होगा। पूर्णांक 160 अंक होगा और हर सेक्शन से 40-40 सवाल पूछे जाएंगे। पहले गलत उत्तर के लिए एक चौथाई अंक काटा जाता था लेकिन अब आधा अंक गलत उत्तर के लिए काट लिया जाएगा।

SSC Bharti 2022-23 – परीक्षा से पहले इन नियमों में किया गया बदलाव

आपको बता दें एसएससी जीडी के लिए आवेदन प्रक्रिया 30 नवम्बर 2022 को समाप्त हुई है और जल्द ही एडमिट कार्ड जारी किए जाएंगे।यह परीक्षा 10 जनवरी से 14 फरवरी 2023 के बीच आयोजित की जाएगी। इस परीक्षा में 30 लाख से अधिक उम्मीदवार हिस्सा ले सकते हैं। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF), सेंट्रल रिसर्व पुलिस फोर्स (CRPF), सशस्त्र सीमा बल (SSB) और असम राइफल्स में राइफलमैन समेत अन्य में 45284 पदों पर भर्ती की जाएगी।

क्या है नए नियम(SSC Bharti 2022-23)

  • इसके तहत महिला उम्मीदवारों को फिजिकल टेस्ट के समय एक घोषणा पत्र देना होगा, जिसमें उन्हें अपनी प्रेग्नेंसी की स्थिति बतानी होगी, इसके तहत उन्हें यह बताना होगा कि वह प्रेग्नेंट है या नहीं। जो महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं होंगी, केवल उन्हें ही फिजिकल टेस्ट में भाग लेने दिया जाएगा।
  • जो महिला उम्मीदवार प्रेग्नेंट होने की पुष्टि करेंगी, उनका पहले टेस्ट कराया जाएगा, उसके बाद उनकी नियुक्ति पर अस्थायी रोक लगा दी जाएगी। उनकी प्रसवावस्था खत्म होने के बाद 6 सप्ताह के अंदर वापस पीईटी के लिए जांच की जाएगी, फिट पाए जाने पर ही उनकी नियुक्ति की जाएगी।
  • एनसीसी सर्टिफिकेट से जुड़े नियम में भी संशोधन किया गया है, जिसके तहत एनसीसी ने सर्टिफिकेट धारकों को मिलने वाले इंसेंटिव मार्क्स में कुल अंक की जगह अधिकतम अंक लिखा है. यानी एनसीसी ए सर्टिफिकेट धारकों को अधिकतम 2 फ़ीसदी अंक का, एनसीसी बी सर्टिफिकेट धारकों को अधिकतम 3 फीसदी अंक का एवं एनसीसी सी सर्टिफिकेट धारकों को अधिकतम 5 फ़ीसदी अंक का इंसेंटिव दिया जाएगा।
  • उम्मीदवारों को ऑनलाइन आवेदन के दौरान केंद्रीय सुरक्षा बलों में अपनी वरीयता भी चुननी होगी.,पहले लिखा था कि 7 सुरक्षा बलों में वरीयता चुननी होगी, इसे संशोधित कर अब ‘8’ कर दिया गया है।

Source – Internet 

RELATED ARTICLES

Most Popular