spot_img
HometrendingNikay Chunav : चार वार्डों में भाजपा का निकल रहा पसीना, अनारक्षित...

Nikay Chunav : चार वार्डों में भाजपा का निकल रहा पसीना, अनारक्षित वार्डों से अन्य वर्गों को दिया मौका

बैतूल : Nikay Chunav – बैतूल नगरपालिका के 33 वार्डों में प्रत्याशी घोषित करने के लिए भाजपा को पहली बार एड़ी चोंटी का जोर लगाना पड़ रहा है। हर वार्ड से दावेदारों की लम्बी लाईन लगी हुई थी। कम विवाद की स्थिति वाले 21 वार्डों में भाजपा उम्मीदवारों की चार दिन पहले सूची जारी हो गई थी वहीं बचे 12 वार्डों में से 8 वार्डो की सूची कल देर रात घोषित हुई लेकिन शेष बचे 4 वार्डों में उम्मीदवार घोषित करने के लिए भाजपा को कई दबाव और विवादों का सामना करना पड़ रहा है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता हेमंत खंडेलवाल एवं भाजपा जिलाध्यक्ष आदित्य बबला शुक्ला को इन चार वार्डों में उम्मीदवार चयन के लिए कई बड़े-छोटे नेताओं का दबाव झेलना पड़ रहा है। संभावना है कि आज शाम तक इन चार नामों की भी घोषणा हो जाएगी। प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने 33 वार्डों के लिए अपने उम्मीदवारों के नामांकन तो भरवा दिए हैं लेकिन अधिकृत सूची जारी नहीं की है। ऐसा माना जा रहा है कि भाजपा के उम्मीदवारों की घोषणा के बाद ही कांग्रेस अपने पत्ते खोलेगी लेकिन हेमंत वागद्रे के अचानक जिला कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस के इस गुट ने भी 33 में से कुछ वार्डों पर अपना दावा ठोका है और इसलिए कांग्रेस की सूची जारी होने में समय लग रहा है।

10 अनारक्षित में से 1 पर सामान्य, 1 पर महिला

10 अनारक्षित वार्डों में से वार्ड क्रं. 27 गणेश वार्ड मेंं भाजपा ने सामान्य वर्ग के विजय जसूजा एडव्होकेट को टिकट दी है। बाकी 9 अनारक्षित वार्डों में वार्ड 6 गांधी वार्ड से ओबीसी के वरूण धोटे, वार्ड 10 कृष्णपुरा से ओबीसी के तरूण ठाकरे, वार्ड क्रं. 12 देशबंधु से ओबीसी से राजेश पानकर, वार्ड क्रं. 18 शास्त्री वार्ड से ओबीसी के जयकिशोर साहू, वार्ड क्रं. 26 जवाहर से एसटी वर्ग के विकास प्रधान को भाजपा ने चुनाव लड़ने के लिए अवसर दिया है। वार्ड क्रं. 32 शंकर वार्ड अनारक्षित होने के बावजूद ओबीसी की श्रीमती ममता मालवी को मैदान में उतारा गया है जो वर्तमान में भाजपा की महिला मोर्चा की जिला अध्यक्ष भी हैं। अभी अनारक्षित वर्ग के वार्ड क्रं. 20 भगत सिंग और वार्ड क्रं. 28 विकास वार्ड से उम्मीदवारों की घोषणा नहीं हुई है।

7 अनारक्षित महिला में से 2 सामान्य वर्ग की

अनारक्षित महिला वार्ड क्रं. 5 शिवाजी वार्ड से भाजपा ने सामान्य वर्ग की श्रीमती आभा दीपक श्रीवास्तव एवं अनारक्षित महिला वार्ड क्रं. 33 विवेकानंद से सामान्य वर्ग की ही श्रीमती अंजू रानी राजेश शर्मा को टिकट दी है। बाकी 5 अनारक्षित महिला वार्डों में से वार्ड क्रं. 11 मोती वार्ड से ओबीसी की श्रीमती कल्पना कैलाश धोटे, वार्ड क्रं. 16 महावीर वार्ड से ओबीसी की वर्षा रमेश बारस्कर, वार्ड क्रं. 21 पटेल वार्ड से ओबीसी की श्रीमती रेणुका पवन यादव, वार्ड क्रं. 24 जाकिर हुसैन से ओबीसी की श्रीमती ज्योति भूषण पंडाग्रे को भाजपा ने चुनाव मैदान में उतारा है। वहीं अनारक्षित महिला के लिए वार्ड क्रं. 31 विनोबा से अभी उम्मीदवार की घोषणा नहीं की गई है।

भाजपा की दो सूची में भी नहीं है आनंद

पूर्व नपाध्यक्ष एवं दो बार नगर पालिका के उपाध्यक्ष रहे आनंद प्रजापति को इस बार विकास वार्ड क्रं. 28 से भाजपा की टिकट प्राप्त करने के लिए पसीना बहाना पड़ रहा है और भाजपा की 21 और 8 उम्मीदवारों की घोषित सूची में भी विकास वार्ड का नाम नहीं है। जबकि पूर्व में 1999 से 2015 तक जब भी नगर पालिका चुनाव हुए हैं। तब प्रथम सूची में ही आनंद प्रजापति को अवसर मिला है। चाहे पार्षद के चुनाव लड़ने का हो या सीधे-सीधे नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव ही क्यों ना हो?

भाजपा सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नामांकन भरने वाले लगभग 8 भाजपा कार्यकर्ताओं ने आज वरिष्ठ भाजपा नेता हेमंत खण्डेलवाल के निवास पर जाकर उनसे भेंट की और स्पष्ट रूप से निवेदन किया है कि वार्डवासी को ही चुनाव में उतारा जाए।

गौरतलब है कि नामांकन भरने वालों में सिर्फ आनंद प्रजापति ही विकास वार्ड के निवासी नहीं है। चर्चा के अनुसार वार्ड के भाजपा के युवा नेता ने स्वयं फॉर्म ना भरते हुए कई दावेदारों से फॉर्म भरवाए हैं ताकि वार्ड से बाहर के किसी नेता को भाजपा टिकट ना दे।

अलकेश आर्य के कोटे से दो उम्मीदवार

33 में से भाजपा ने 29 उम्मीदवारों की घोषणा की है। घोषित सूची पर नजर डाले तो वर्ष 2015 से 2020 तक नगर पालिका के निर्वाचित अध्यक्ष एवं 2008 से 2013 तक बैतूल विधान सभा सीट से भाजपा विधायक रहे अलकेश आर्य के दो कट्टर समर्थकों को चुनाव लड़ने का मौका मिला है। इनमें वार्ड क्रं. 22 टैगोर वार्ड से नितेश पिंटू परिहार एवं वार्ड क्रं. 29 राजेंद्र वार्ड से श्रीमती सुनीता पूरन साहू चुनाव लड़ रही है।

गौरतलब है कि अलकेश आर्य प्रदेश भाजपा में एक बड़ा नाम हो गया है। और वर्तमान में रायसेन जिले के प्रभारी होने के साथ-साथ भाजपा की कई प्रदेश समितियों में भी अलकेश सदस्य और संयोजक रहे हैं। और 2023 के विधानसभा चुनाव में बैतूल सीट से भाजपा की ओर से चुनाव लड़ने के लिए गंभीर दावेदार हैं।

चार वार्डों में अभी भी विवाद जारी

बैतूल नगर के 33 में से 29 वार्डों में तो भाजपा ने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी लेकिन चार वार्ड अभी भी भाजपा उम्मीदवार का रास्ता देख रहे हैं। इनमें टिकारी क्षेत्र के प्रताप वार्ड क्रं. 14 में 5 भाजपा नेताओं ने फार्म भरे हैं जिनमें प्रमुख दावेदारों में पूर्व पार्षद राजेश वर्मा, गुड्डा भैया और श्री राने में से किसी एक को टिकट मिल सकती है। पिछली बार इस सीट से निर्दलीय पार्षद चुनाव जीता था। गंज क्षेत्र के विकास वार्ड क्रं. 28 से इंदी आलुवालिया, आनंद प्रजापति, रितेश पंवार, अमित टुकदेव, बंशी सोनपुरे, गिरीश सोनी, रविंद्र आर्य, महेंद्र जागने, पूनम खण्डेलवाल, मीनाक्षी शुक्ला प्रमुख दावेदार है।

सदर क्षेत्र के वार्ड नं. 20 भगतसिंग वार्ड वैसे तो अनारक्षित है लेकिन यहां से भाजपा के ओबीसी के मूलचंद यादव और लेखचंद यादव भाजपा की ओर से दावेदार है। इसी तरह से गंज क्षेत्र के वार्ड क्रं. 31 विनोबा वार्ड से भाजपा के पूर्व पार्षद राजेश राठौर के परिवार के सदस्य एवं क्षेत्र के पूर्व निर्दलीय पार्षद पिंटू महाले के परिवार से टिकट के दावेदार हैं।

पूर्व में चर्चित नाम मैदान से बाहर

जब से बैतूल नगर पालिका परिषद का अध्यक्ष पद अनारक्षित महिला वर्ग के लिए घोषित हुआ था। तब से भाजपा की ओर से कई बड़े नेताओं की पत्नियों का नाम सीधे अध्यक्ष का चुनाव लड़ने के लिए सामने आ रहा था लेकिन जैसे ही पार्षदों के द्वारा अध्यक्ष चुनने की घोषणा हुई वैसे ही इन दावेदारों का दावा ठण्डा पड़ गया। क्योंकि कोई भी बड़ा नेता अपनी पत्नी को पार्षद पद के लिए चुनाव मैदान में उतारना नहीं चाहता था। अब 33 वार्डों में से निर्वाचित होने वाली महिला पार्षद में से ही अध्यक्ष चुना जाएगा, भले ही वह महिला सामान्य वर्ग की हो। या अन्य किसी वर्ग की। उपाध्यक्ष के लिए जरूर पुरूष पार्षद को मौका मिल सकता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular