Homeमनोरंजनजाने ऐसे चूहे के बारे में जो बिना पानी पिये तपती धुप...

जाने ऐसे चूहे के बारे में जो बिना पानी पिये तपती धुप और रेगिस्तान की भयंकर गर्मी में भी बिना पानी पीये जिंदगी भर रहता है प्यासा,जाने कैसा प्राप्त हुआ इसे ये वरदान

चूहे के बारे में: दुनिया में चूहे की एक ऐसी प्रजाति है जिसको जिंदगी जारी रखने के लिए कभी पानी पीने की जरूरत ही महसूस नहीं होती. वो रेगिस्तान में रहता है और कभी पानी पीता भी नहीं. बस जड़ें खाकर गुजारा करता है. इन जड़ों में रहने वाली नमी ही उसकी पानी की जरूरत को पूरा कर देती है. इस चूहे को कंगारू चूहा कहते हैं. इसकी और भी खासियतें होती हैं.सभी पेड़-पौधों और जीव-जंतुओं की जिंदा रहने के लिए पानी की जरूरत होती है. क्या आप सोच सकते हैं कि कोई जंतु ऐसा भी होगा, जो जिंदगीभर बगैर पानी पिये रह सकता है, चूहे की एक प्रजाति जरूर ऐसा कर सकती है. इसे कंगारू चूहा भी कहा जाता है. ये दुनिया का अकेला जंतु है जो पानी पीये बगैर हमेशा जिंदगी काट सकता है.

चूहे के बारे में:

जाने ऐसे चूहे के बारे में जो बिना पानी पिये तपती धुप और रेगिस्तान की भयंकर गर्मी में Know about such a mouse who lives in the scorching sun and fierce heat of the desert without drinking water.

चूहे के बारे में:

जाने ऐसे चूहे के बारे में जो बिना पानी पिये तपती धुप और रेगिस्तान की भयंकर गर्मी में भी बिना पानी पीये जिंदगी भर रहता है प्यासा,जाने कैसा प्राप्त हुआ इसे ये वरदान

चूहे के बारे में:

ये चूहा उत्तरी अमेरिका के रेगिस्तानों में मिलता है. इसे कंगारू रैट कहते हैं. इसकी टांगें और पूंछ आस्ट्रेलिया में पाए जाने वाले कंगारू से मिलती जुलती है. इसके गालों के बाहर की ओर थैलियों भी होती हैं. इन थैलियों में ये खाने का सामान लाता है. फिर इसे अपने बिलों में इकट्ठा करता हैइसकी इसी हरकत और शारीरिक थैली के कारण इसे कंगारू की तरह माना जाता है और इसका नाम कंगारू रैट रखा गया. ये कंगारू की तरह ही लंबी छलांगें लगाता है. रेगिस्तान में उगने वाले कैक्टस के पौधों को आसानी से कूदकर पार कर सकता है

चूहे के बारे में:

भयंकर गर्मी में भी बिना पानी पीये जिंदगी भर रहता है प्यासा,जाने कैसा प्राप्त हुआ इसे ये वरदान Stays thirsty for life without drinking water even in severe heat, knowing how he got this boon

चूहे के बारे में:

कगारू रैट रेगिस्तानी जीवन का एक खास हिस्सा होता है. ये बेशक पानी नहीं पीता लेकिन इसके शरीर में पानी की मात्रा ज्यादा होने के कारण दूसरे जानवर इसे खा जाते हैं. ये बहुत तेजी से भाग सकता है. ये एक सेकेंड में 06 मीटर की दूरी पार कर लेता है. ये अपने दुश्मनों से बचने के लिए भागते समय खूब तेजी दिखाता है और लंबी पूंछ का इस्तेमाल लगाने और हवा में दिशा बदलने के लिए करता है. कंगारू रैट छलागें मारते हुए चलते हैं और इनकी छलांगे इतनी सही होती हैं कि बड़ी छलांग भी लगा लेते हैं

चूहे के बारे में:

जाने ऐसे चूहे के बारे में जो बिना पानी पिये तपती धुप और रेगिस्तान की भयंकर गर्मी में Know about such a mouse who lives in the scorching sun and fierce heat of the desert without drinking water.

चूहे के बारे में:

इसकी पूंछ 20 सेमीमीटर की होती है और शरीर करीब 18 सेंटीमीटर यानि पूरी लंबाई करीब 38 सेंटीमीटर होती है. इसके आगे के पैर छोटे, सिर बड़ा और आंखें छोटी होती हैं. इनके ऊपर के बाल पीले या भूरे होते हैं और नीचे के सफेद. कंगारू रैट के पैर शरीर के अन्य अंगों की तुलना में कहीं ज्यादा बड़े होते हैंअब सवाल ये उठता है कि वो बगैर पानी पीये कैसे जिंदा रह लेता है. वैसे ये बात सही है कि रेगिस्तान में वही जीव जंतु और पेड़-पौधे बचे रहते हैं, जिन्हें कम पानी की जरूरत होती है Read Also: Politics News: सत्‍येंद्र जैन को जेल में ‘सुविधा’ के मामले में MHA सख्‍त, मांगी गई रिपोर्ट

चूहे के बारे में:

जाने ऐसे चूहे के बारे में जो बिना पानी पिये तपती धुप और रेगिस्तान की भयंकर गर्मी में Know about such a mouse who lives in the scorching sun and fierce heat of the desert without drinking water.

चूहे के बारे में:

इस चूहे को पानी की बहुत कम जरूरत होती है या नहीं होती है. ये अपनी पानी की जरूरत को रेगिस्तान में उगने वाले पेड़-पौधों की जड़ों को खाकर पूरी कर लेता है. पेड़-पौधों में की जड़ों में कुछ ना कुछ नमी जरूर होती है.इसका गुर्दा इतना मजबूत और अच्छा काम करने वाला होता है कि वो इस नमी से ही शरीर के पानी की जरूरत को पूरा कर लेता है. पानी की यही नमी उसको जिंदा रखने के लिए काफी होती है. इन्हीं जड़ों से वो अपने भोजन की जरूरत भी पूरी कर लेता है

RELATED ARTICLES

Most Popular