spot_img
HometrendingGhodadongri Nagar Parishad : घोड़ाडोंगरी नप में कांग्रेस की मीरावती उइके बनी...

Ghodadongri Nagar Parishad : घोड़ाडोंगरी नप में कांग्रेस की मीरावती उइके बनी अध्यक्ष

भाजपा के पूर्व संसदीय सचिव और पूर्व विधायक की बहू को मिली हार

घोड़ाडोंगरी{Ghodadongri Nagar Parishad} – नवगठित नगर परिषद घोड़ाडोंगरी में हुए अध्यक्ष पद के लिए चुनाव के लिए भाजपा ने नेहा दीपक उइके को भाजपा पद का प्रत्याशी बनाया था। जबकि कांग्रेस ने मीरावंती नंदकिशोर उइके को अपना प्रत्याशी बनाया था।

अध्यक्ष पद के चुनाव में कांग्रेस की मीनावंती उइके को 8 वोट मिले जबकि भाजपा की नेहा उइके को 7 वोट मिले। इस तरह से 1 वोट से कांग्रेस की मीनावंती उइके अध्यक्ष निर्वाचित हो गई है। 15 पार्षदों वाली नगर परिषद घोड़ाडोंगरी में कांग्रेस के 8 और भाजपा 5 एवं 2 निर्दलीय पार्षद चुनाव जीते थे। घोड़ाडोंगरी में क्रास वोटिंग नहीं हुई बल्कि जो दो निर्दलीय थे वह भी भाजपा के साथ रहे। अगर यहां पर भी अन्य निकाय की तरह क्रास वोटिंग होती तो पांंसा पलट सकता था।

गौरतलब हो कि पूर्व संसदीय सचिव एवं पूर्व विधायक रामजीलाल उइके एवं उनकी पत्नी पूर्व विधायक गीताबाई उइके के लिए नगर परिषद का यह चुनाव प्रतिष्ठापूर्ण था जिस में उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। यहां भाजपा ने अध्यक्ष बनाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाया था लेकिन कांग्रेस के संगठित होने की वजह से भाजपा को सफलता नहीं मिल पाई और हार का मुंह देखना पड़ा।

हार के पीछे के कारणों की जो चर्चा हो रही है उसमें भाजपा नेता विशाल बतरा और भाजपा के युवा नेता दीपक उइके की कार्यप्रणाली को लेकर भाजपा का एक स्थानीय बड़ा धड़ा काफी नाराज था। इसी का खामियाजा इस चुनाव में भाजपा को भुगतना पड़ा। यहां से जनपद पंचायत के साथ ही नगर परिषद भी भाजपा के हाथ से चली गई।

जबकि घोड़ाडोंगरी पिछले 70 सालों से भाजपा का सबसे बड़ा गढ़ रहा है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का उइके परिवार पसंदीदा रहा है इसलिए गीताबाई को दो बार टिकट मिली जिसमें वह एक बार चुनाव जीत और एक बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा। इस चुनाव में दीपक उईके की पत्नी की हार से 2023 के विधानसभा चुनाव में घोड़ाडोंगरी विधानसभा सीट से दीपक उईके की भाजपा से दावेदारी पर भी असर पड सकता है

RELATED ARTICLES

Most Popular