HometrendingCotton King Honoured - कॉटन किंग दुर्गाशंकर अग्रवाल सीएआई पुरस्कार से सम्मानित

Cotton King Honoured – कॉटन किंग दुर्गाशंकर अग्रवाल सीएआई पुरस्कार से सम्मानित

राष्ट्रीय स्तर पर चमका तिरूपति कॉटर इंडस्ट्रीज का नाम

बैतूल – Cotton King Honoured – महाराष्ट्र के परतवाड़ा के प्रसिद्ध सुविख्यात उदयोजक तथा कॉटन किंग दुर्गाशंकर घनश्याम अग्रवाल को अखिल भारतीय स्तर पर सम्मानित किया गया है। कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया सीएआई की स्थापना के गोल्डन जुबली होने पर मुंबई के जिओ कन्वेक्शन सेन्टर बीकेसी कॉम्पलेक्स में आयोजित भव्य समारोह में दुर्गाशंकर ऊर्फ दुर्गासेठ अग्रवाल को पुरस्कृत किया गया।

अखिल भारतीय स्तर पर कपास का व्यापार करने वाले देश के पांच उद्योगपतियों को सम्मानित किया गया। जिसमें दुर्गाशंकर अग्रवाल का प्रथम समावेश था। कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष अतुल गणात्रा, टेक्सटाईल विभाग की आयुक्त रूपराशि, कॉटन ऑफ इंडिया कार्पोरेशन ऑफ इंडिया के सीएमडी प्रदीप अग्रवाल, सीआईए के उपाध्यक्ष भूपेंद्र सिंह राजपाल, डीएसई के मुख्य व्यापार विकास अधिकारी समीर पाटील, टेक्सटाईल  एडवाजरी गु्रप के चेयरमेन सुरेश कोटक आदि ने मिलकर दुर्गाशंकर अग्रवाल को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

गौरतलब है कि अग्रवाल परिवार विगत तीन पीढिय़ों से कॉटन, जिनिंग व कपास खरीददारी का व्यापार करते हैं। दुर्गाशंकर अग्रवाल उनके शिक्षा तथा अभ्यास से कपास उद्योग बढ़ाने के लिए तिरुपती कॉटन इंडस्ट्रीज का पौधा लगाया था जिसने आज विशाल पेड़ का रूप ले लिया है।

विदेशी में होती है निर्यात

आज देश विदेश में कपास का ट्रेडिंग करने वाले दुर्गाशंकर अग्रवाल ने तिरूपति कॉटन इंडस्ट्रीज में गांठ बनाने की फ्रैक्ट्री खोली। इस उद्योग को देखने के लिए जापान के कपास विशेषज्ञ परतवाड़ा में भेंट दे चुके हैं। जिन्होंने गुणवत्ता की कपास, स्वच्छ गांठ बनाने तिरूपति कॉटन का अभिवादन किया। दुर्गाशंकर अग्रवाल को जिस एसोसिएशन ने सम्मानित किया उसमें उनके पिता घनश्याम अग्रवाल भी सदस्य थे। उल्लेखनीय बात यह कि सीआएई के इस समारोह में 100 वर्ष पूर्ण होने पर केन्द्र की मोदी सरकार ने इस कार्यक्रम में डाकटिकट भी जारी किया है। परतवाड़ा जैसे छोटे गांव में भी इतना बड़ा उद्योग शुरु कर हजारो लोगो को रोजगार देने का काम दुर्गाशंकर अग्रवाल ने किया है उनका राष्ट्रीय स्तर सम्मान होना यह परतवाड़ा के लिये गौरवशाली बात है।

RELATED ARTICLES

Most Popular