Betul News – नहर फूटने से किसान के खेत में भरा पानी

चार एकड़ में गेहूं की फसल बर्बाद, किसान ने की शिकायत

Betul Newsबैतूल सिंचाई के लिए नहर में पानी छोड़े गए पानी को एक किसान द्वारा अनाधिकृत रूप से रोक लेने के कारण नहर फूट गई और एक किसान के खेत में नहर का पानी घुस गया जिससे खेत की स्थिति तालाब जैसी हो गई और उसके खेत की गेहूं की फसल बर्बाद हो गई। किसान ने इस मामले की शिकायत की है। वहीं जलसंसाधन विभाग के अधिकारी नहर की मरम्मत करने की बात कर रहे हैं।

चार एकड़ लगी गेहूं की फसल बर्बाद | Betul News

सांपना जलाशय की डी-1 नहर भरकावाड़ी और भोगीतेढ़ा के बीच फूट जाने के कारण निरूपम रावत नाम के किसान के खेत में पानी भर गया। श्री रावत ने बताया कि कल रात 11 बजे नहर में ओव्हर फ्लो होने के कारण नहर फूट गई और उनके खेत में पानी भर गया। उनका आरोप है कि पानी लगभग तीन फीट तक भरा है और लगभग तालाब जैसी स्थिति निर्मित हो गई है। उनके खेत में लगभग चार एकड़ में गेहूं की फसल लगी थी जो बर्बाद हो गई है। श्री रावत ने बताया कि आज छुट्टी का दिन होने के कारण इस मामले की शिकायत उन्होंने सीएम हेल्पलाइन पर की है। कल कलेक्टर को भी शिकायत करेंगे।

नहीं होता मेंटनेंस

श्री रावत ने आरोप लगाया है कि नहर काफी पुरानी है और मेंटनेंस नहीं होने के कारण ऐसी स्थिति निर्मित होती है जिससे किसानों को परेशानी होती है। नहर में ज्यादा पानी छोड़े जाने के कारण नहर फूट गई है। उन्होंने जल संसाधन विभाग पर आरोप लगाया है कि जब नहर से पानी छोड़ा जाता है तो उसकी देखरेख के लिए कोई कर्मचारी नहीं रहता है जिसके कारण भगवान भरोसे ही पानी चलता है। ओव्हर फ्लो होने की स्थिति में इसको नियंत्रण करने के लिए कोई व्यवस्था नहीं होती है। यह भी आरोप लगाया है कि नहरों की समय पर सफाई ना होना और गहरीकरण ना होना भी मुख्य कारण है। जल संसाधन विभाग इस ओर कोई ध्यान नहीं देता है।

विभाग ने गलती पर डाला पर्दा | Betul News

किसान ने जल संसाधन विभाग पर आरोप लगाया है कि विभाग की लापरवाही के चलते नहर फूटी है और उनके खेत में पानी घुस गया और फसल को नुकसान हुआ है। किसान के आरोप पर जल संसाधन विभाग ने अपनी गलती पर पर्दा डालते हुए इस मामले को लेकर दूसरे किसानों पर आरोप लगाना शुरू कर दिया है। जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री विपिन वामनकर ने सांध्य दैनिक खबरवाणी ने चर्चा की तो उन्होंने कहा कि विभाग को इस मामले की जानकारी मिली थी और तत्काल स्टाफ को भेजा गया। स्थिति को नियंत्रित कर लिया गया है। नहर फूटने के पीछे उन्होंने कारण बताया कि किसी अन्य किसान ने नहर में अड़ावा डाल दिया था जिसके कारण नहर फूट गई और पानी खेत में पहुंच गया। स्टाफ से फूटी नहर की मरम्मत करवाई जा रही है। अड़ावा डालने वाले किसान को चिन्हित कर उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।