HometrendingAyushman Bharat Yojna - पोर्टल पर 19 मरीज भर्ती और अस्पताल में...

Ayushman Bharat Yojna – पोर्टल पर 19 मरीज भर्ती और अस्पताल में सात ही मिले

आयुष्मान योजना में गड़बड़ी आई सामने

बैतूल – Ayushman Bharat Yojna – आयुष्मान भारत योजना में निजी अस्पताल की गड़बड़ी आई सामने। जहां एक निजी अस्पताल आयुष्मान योजना में गडबड़ी कर सरकार को चूना लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। इसकी जानकारी जिला प्रशासन को मिलने पर अस्पताल में छापा मारा गया और रिकार्ड जब्त किया गया था। रिकार्ड की जांच में फर्जीवाड़ा उजागर हुआ है।

वैष्णवी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर पर टीम ने मारा छापा(Ayushman Bharat Yojna)

सीएमएचओ डॉ. एके तिवारी ने बताया कि कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस को आयुष्मान के मरीजों से अनाधिकृत रूप से पैसे वसूले जाने की शिकायत मिली थी। इसको लेकर बैतूल एसडीएम केसी परते, तहसीलदार प्रभात मिश्रा, सीएमएचओ और उनकी टीम ने वैष्णवी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में आकस्मिक छापा मारा। इस दौरान बहुत सारी गड़बड़ी सामने आई हैं। डॉ. तिवारी ने बताया कि इस अस्पताल में आयुष्मान योजना में भी फर्जीवाड़ा हो रहा था। जिसके दस्तावेजी प्रूफ सामने आए हैं।

पोर्टल पर 19 और मौके पर 7 मरीज थे भर्ती(Ayushman Bharat Yojna)

डॉ. तिवारी ने बताया कि वैष्णवी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर से जो रिकार्ड जब्त किया है उसका विश£ेषण किया जा रहा है। गत दिवस आयुष्मान योजना का पोर्टल चेक किया गया जिसमें वैष्णवी अस्पताल में 19 मरीज भर्ती दिख रहे थे। जब मौके पर जाकर देखा तो 7 मरीज ही भर्ती थे। इसके अलावा इस अस्पताल में मरीजों को लाने-ले जाने के लिए स्वयं की एम्बुलेंस का उपयोग बताया गया। अस्पताल की जांच के दौरान आईसीयू में भर्ती मरीज बुधियाराव देशमुख के परिजनों से चर्चा की गई तो बताया गया कि उनसे 22 हजार रुपए बिल लिया गया है। बिल भी प्रस्तुत किया गया। उस समय आईसीयू में कोई भी एमबीबीएस डॉक्टर ड्यूटी पर नहीं मिला। वहां पर एक बीएचएमएस डॉक्टर ही इलाज करते पाया गया।

डॉ. तिवारी ने बताया कि दस्तावेज का विश£ेषण किया जा रहा है। अस्पताल संचालक को नोटिस जारी किया गया है और जवाब देने के लिए तीन दिन का समय दिया गया है।

RELATED ARTICLES

Most Popular