Tuesday, August 9, 2022
spot_img
HomeबैतूलRally : धर्मांतरण के खिलाफ शंखनाद : बोले "इसाई आदिवासी नहीं हो...

Rally : धर्मांतरण के खिलाफ शंखनाद : बोले “इसाई आदिवासी नहीं हो सकता”

आदिवासियों की डिलिस्टंग महारैली में शामिल हुए भाजपा पदाधिकारी, शहर के प्रमुख मार्गों से होकर निकाली महारैली का जगह-जगह किया स्वागत

बैतूल – जिले में बेतहाशा हो रहे धर्मांतरण के खिलाफ पहली बार आदिवासी समुदाय के जनजातीय सुरक्षा मंच ने ताल ठोंककर शंखनाद करते हुए महारैली निकाली। इस महारैली में भाजपा के पदाधिकारी, कार्यकर्ता भी बड़ी संख्या में शामिल हुए। रैली न्यू बैतूल स्कूल ग्राउंड से प्रारंभ होकर नगर के प्रमुख मार्गों से होते हुए सीमेंट रोड कोठीबाजार से भी गुजरी। इस दौरान महारैली का जगह-जगह जलपान एवं पुष्पाहार से स्वागत किया गया। महारैली में बड़ी संख्या में महिला-पुरूष सहित युवक-युवतियां शामिल हुए जो कि अपने हाथों में धर्मांतरण के खिलाफ लिखे नारे वाली तख्तियां लेकर चल रहे थे।

महारैली में शामिल हुए जिले भर के आदिवासी

धर्मांतरण के खिलाफ जिला मुख्यालय पर निकाली गई डिलिस्टंग महारैली में जिले भर से हजारों की संख्या में आदिवासी महिला-पुरूष एवं युवक-युवतियां पहुंचे और उन्होंने नारे लिखे वाली तख्तियां हाथों में लेकर महारैली निकाली। महारैली में हजारों की संख्या में आदिवासी समुदाय मौजूद था। शांतिपूर्ण ढंग से निकाली गई रैली का नेतृत्व में डॉ. महेंद्र सिंह चौहान, आशाराम पटेल, देवेंद्र धुर्वे, छोटू सिंह उइके, राजू तुमड़ाम, विकास प्रधान सहित अन्य संगठन के पदाधिकारियों ने किया।

महारैली में शामिल होने आठनेर से आया दल

जिला मुख्यालय पर निकाली गई डिलिस्टिंग महारैली में शामिल होने के लिए आठनेर ब्लाक से भाजपा पदाधिकारियों का दल बैतूल पहुंचा और महारैली में शामिल हुआ। महारैली में शामिल होने के लिए आठनेर ब्लाक के नगर मंडल अध्यक्ष गोवर्धन राने, नगर परिषद आठनेर के अध्यक्ष सूरज राठौर, ग्रामीण मंडल अध्यक्ष सुनील टेकपुरे, युवा मोर्चा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष पंकज वागद्रे, कोषाध्यक्ष हेमराज बारस्कर, भाजपा कार्यकर्ता मदनलाल आजाद, डॉक्टर जुगल किशोर लहरपुरे सहित अनेक भाजपा कार्यकर्ता बैतूल पहुंचे थे।

धर्मांतरण के खिलाफ फूंका बिगुल

नगर मंडल अध्यक्ष गोवर्धन राणे ने बताया कि जिले भर के आदिवासियों को जबरन लालच देकर व अन्य उपायों से धर्म परिवर्तन कर आदिवासी समाज मे शामिल होकर आदिवासियों का हक छीनने का काम किया जा रहा हैं। इसी के विरोध में डिलिस्टंग महारैली का आयोजन किया गया है। श्री राने ने कहा कि आदिवासियों के धर्मांतरित होने के बावजूद भी वह आदिवासी होने का लाभ ले रहे हैं जिससे असली आदिवासियों का हक मारा जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह महारैली आदिवासियों में जागरूकता फैलाने और धर्मांतरण पर रोक लगाने के लिए निकाली गई है।

महारैली में शामिल हुए बरखेड़ के सैकड़ों ग्रामीण

जिला मुख्यालय पर निकाली गई डिलिस्टिंग महारैली के आयोजन में शामिल होने आठनेर ब्लाक के बरखेड़ ग्राम के ग्रामीणों का दल बैतूल पहुँचा। दल प्रमुख अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के मध्य प्रांतीय सदस्य सौरभ आजाद ने बताया कि कल रात में रैली को लेकर ग्राम बरखेड़ा में बैठक का आयोजन किया गया था जिसमें की ग्राम के आदिवासी भाइयों द्वारा बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया गया। श्री आजाद ने कहा कि आदिवासियों को जागरूक करने के लिए डिलिस्टिंग महारैली का आयोजन किया गया।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments