MP Politics | चक्रव्यूह में फंसे नकुलनाथ, कल नहीं आएंगे कमलनाथ

कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले छिंदवाड़ा में भाजपा ने लगाई सेंध, मतदान के पूर्व ही कांग्रेस के नेता थाम रहे हैं भाजपा का दामन

MP Politicsबैतूल लोकसभा चुनाव को लेकर भले ही अभी मतदान की तिथि दूर क्यों ना हो? लेकिन भाजपा ने कांग्रेस और कमलनाथ के गढ़ कहे जाने वाले छिंदवाड़ा लोकसभा में ऐसी सेंध लगाई है कि कांग्रेस नेताओं का भाजपा का दामन थामने का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। हालत यह हो गई है कि भाजपा के चक्रव्यूह में नकुलनाथ इस तरह फंस गए हैं कि कमलनाथ छिंदवाड़ा में ही सिमटकर रह गए हैं। जबकि कमलनाथ को कांग्रेस का ना सिर्फ दिग्गज नेता माना जाता है बल्कि वह कांग्रेस के स्टार प्रचारक भी हुआ करते है।

भाजपा की व्यूहरचना पड़ी भारी

अन्य लोकसभा -विधानसभा चुनाव में भाग्य आजमाने खड़े होने वाले प्रत्याशियों की विशेष मांग होती थी कि कम से कम कमलनाथ एक सभा उनके पक्ष में कर ले ताकि वह चुनावी वैतरणी को पार कर सकें। लेकिन इस बार के छिंदवाड़ा लोकसभा चुनाव को भाजपा ने इस तरह एयर टाईड पोजिशन में लाकर खड़ा कर दिया है कि कमलनाथ और नकुलनाथ छिंदवाड़ा से बाहर निकलने की सोच भी नहीं पा रहे हैं। अब स्थिति यह हो गई है कि जिन्हें कमलनाथ ने लोकसभा की टिकट दिलाई है उन्हीं की नामांकन रैली में शामिल होने से कमलनाथ परहेज कर रहे हैं। यह संदेश स्पष्ट बताता है कि भाजपा की व्यूह रचना इस बार कांग्रेस पर भारी पड़ सकती है।

घर संभाले या बाहर जाएं कमलनाथ

लोकसभा चुनाव के पहले ही छिंदवाड़ा में स्थिति यह हो गई है कि विधायक, महापौर, पार्षद सहित अन्य कमलनाथ के कट्टर समर्थक माने जाने वाले कांग्रेसी भाजपा में शामिल हो रहे हैं। राजनैतिक समीक्षकों का यह मानना है कि कहीं ना कहीं कमलनाथ और कांग्रेस की जमीन छिंदवाड़ा में बुरी तरह से खिसकती हुई नजर आ रही है। ऐसी स्थिति में कमलनाथ के समक्ष सबसे बड़ी जिम्मेदारी यह हो गई है कि वह अपना घर (छिंदवाड़ा) को संभाले और टूट से बचाएं या फिर प्रदेश की अन्य लोकसभा में जाकर कांगे्रस प्रत्याशियों के पक्ष में जनसभा लेकर प्रचार-प्रसार करें। कुल मिलाकर देखा जाए तो वर्तमान में कमलनाथ की स्थिति डैमेज कंट्रोल रोकने की अधिक नजर आ रही है। यही वजह है कि वह बैतूल में भी कांग्रेस प्रत्याशी रामू टेकाम की नामांकन रैली में शामिल नहीं हो रहे हैं।

कांग्रेस संगठन ने की पुष्टि

कांग्रेस प्रत्याशी रामू टेकाम की 3 अप्रैल को होने वाली नामांकन रैली में दो हेलीकाप्टर आने की बात चल रही थी। जिसमें एक छिंदवाड़ा से पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का और दूसरा पीसीसी चीफ जीतू पटवारी का आने वाला था। लेकिन प्रशासनिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सिर्फ एक हेलीकाप्टर आने की अनुमति जारी हुई है जिसमें जीतू पटवारी और अन्य नेता भोपाल से आ रहे हैं। वहीं कमलनाथ के नहीं आने की पुष्टि कांग्रेस संगठन ने भी की है। आज कांगे्रस के जिला कांग्रेस शहर अध्यक्ष सुनील शर्मा और ग्रामीण अध्यक्ष की संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति में नामांकन रैली का कार्यक्रम जारी किया गया है जिसमें यह स्पष्ट किया गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ 19 अप्रैल को बैतूल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेत्र के दौरे पर रहेंगे। इसका सीधा मतलब है कि कल वे नामांकन रैली में नहीं आ रहे हैं और छिंदवाड़ा में 19 अप्रैल को मतदान होगा तब वे छिंदवाड़ा से बाहर निकलेें।