spot_img
HometrendingMaruti S-Cross को रिप्लेस कर सकती है नई Maruti Vitara, Nexa डीलरशिप...

Maruti S-Cross को रिप्लेस कर सकती है नई Maruti Vitara, Nexa डीलरशिप से की जाएगी बिक्री

Maruti S-Cross को रिप्लेस कर सकती है नई Maruti Vitara, Nexa डीलरशिप से की जाएगी बिक्री

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी Maruti Suzuki अपनी नई Maruti Suzuki Vitara कॉम्पैक्ट एसयूवी को बाजार में उतारने की तैयारी कर रही है। कंपनी इस कार में कई सर्वश्रेष्ठ-इन-क्लास और सेगमेंट-फर्स्ट फीचर्स देने वाली है। ऐसे में जानकारी सामने आई है कि नई Maruti Suzuki Vitara कंपनी की मौजूदा Maruti S-Cross को रिप्लेस करेगी।

यह ग्राहकों के लिए एक व्याकुलता और कंपनी के लिए अतिरिक्त लागत का बोझ हो सकता है। Maruti Suzuki Vitara कॉम्पैक्ट एसयूवी 20 जुलाई को बाजार में पेश की जाएगी। यह अपने प्लेटफॉर्म और अधिकांश फीचर्स को Toyota HyRyder के साथ साझा करेगी।

हालांकि, दोनों एसयूवी एक अलग एक्सटीरियर/इंटीरियर प्रोफाइल और अलग-अलग ट्रिम्स व वेरिएंट में पेश किए जाएंगे। Maruti Suzuki S-Cross नेक्सा आउटलेट्स के माध्यम से रिटेल की जाने वाली पहली कार थी। इसके बाद Ignis, Baleno, Ciaz और XL6 को शामिल Nexa पोर्टफोलियो में शामिल किया गया है।

अभी तक Maruti XL6, कंपनी की सबसे महंगी कार है। इसे नई Maruti Suzuki Vitara एसयूवी के साथ बदला जाएगी, जो Maruti की फ्लैगशिप होगी। इसकी कीमत 9.99 लाख रुपये से 17.99 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) के बीच रखी जा सकती है। वहीं Maruti XL6 की कीमत 11.29 लाख रुपये से 14.55 लाख रुपये के बीच है।

Maruti S-Cross की बात करें तो कॉम्पैक्ट क्रॉसओवर को अगस्त 2015 में बाजार में उतारा गया था। बाजार में यह कार Hyundai Creta और Renault Duster को टक्कर देती है। लॉन्च के समय Maruti S-Cross को दो डीजल इंजन विकल्पों के साथ पेश किया गया था।

इसका 1.3-लीटर इंजन 89 बीएचपी की पावर प्रदान करता है, वहीं इसे 1.6-लीटर डीजल इंजन भी मिलता था। दोनों डीजल इंजन Fiat से सोर्स किए गए हैं। इसका 1.3-लीटर डीजल इंजन का इस्तेमाल भारत में Tata, Chevrolet और Premier जैसे कई अन्य कार निर्माता द्वारा किया गया था।

इसके अलावा इसका 1.6-लीटर डीजल इंजन Maruti S-Cross के लिए यूनीक था। यह इंजन 120 बीएचपी की पावर और 320 न्यूटन मीटर का अधिकतम टॉर्क प्रदान करता है। जहां इस वर्जन की कुल बिक्री कम थी, इसे उत्साही लोगों द्वारा पसंद किया गया था, जो इसके शक्तिशाली परफॉर्मेंस को पसंद करते थे।

ऐसे कई कारक हैं जिन्होंने Maruti S-Cross की क्षमता को शीर्ष पर पहुंचने तक सीमित कर दिया है। सबसे पहले यह अपने पूरे जीवन काल के अधिकांश हिस्सों में ऑटोमेटिक गियरबॉक्स के साथ नहीं उतारी गई। पेट्रोल मोटर के साथ ही BS6 अपडेट के बाद S-Cross में ऑटोमेटिक गियरबॉक्स जोड़ा गया।

एक अन्य कारक क्रॉसओवर डिजाइन था, जो एक एसयूवी से जुड़े प्रभुत्व और आत्मविश्वास के स्तर को बाहर नहीं निकालता था। हैचबैक जैसी प्रोफाइल का ग्राहकों की धारणा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा। यह इस तथ्य के बावजूद है कि Maruti S-Cross में काफी आरामदायक और विशाल इंटीरियर मिलता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular