Lok Sabha Election | कांग्रेस प्रत्याशी रामू टेकाम के खिलाफ कांग्रेसियों ने खोला मोर्चा

कांग्रेस से भोपाल गए थे 9 नाम, भोपाल से दिल्ली गया 1 नाम

Lok Sabha Electionबैतूलभाजपा ने जहां पहले प्रत्याशी घोषित करके लोकसभा चुनाव का शंखनाद कर दिया वहीं कांग्रेस में टिकट की घोषणा के बाद मारा-मारी शुरू हो गई है। 2019 के चुनाव में भाजपा प्रत्याशी दुर्गादास उइके से 3 लाख 60 हजार से ज्यादा मतों से चुनाव हारे रामू टेकाम को कांग्रेस ने 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए बैतूल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेत्र से पुन: प्रत्याशी बनाया है। गौरतलब है कि 1952 के पहले लोकसभा चुनाव से लेकर 2019 तक के हुए समस्त लोकसभा चुनाव में रामू टेकाम की रिकार्ड मतों से हार हुई थी। इसके बावजूद छिंदवाड़ा हाऊस के चक्कर में उन्हें ऐसे नेता को टिकट दे दी गई जिसकी जिले में कोई राजनैतिक जमीन नहीं है। रामू टेकाम ने जो भी राजनीति की है वह भोपाल जिले में की है। 2019 के चुनाव में टिकट मिलने के बाद जिले में सक्रिय हुए थे।

कमलनाथ के भरोसे मिली टिकट | Lok Sabha Election

बताया जा रहा है कि रामू टेकाम को रिकार्ड मतों से हारने के बावजूद पुन: इसलिए 2024 में उम्मीदवार बनाया है क्योंकि उन पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का हाथ है। वहीं जिले की कांग्रेस की गुटीय राजनीति में रामू टेकाम मुलताई के पूर्व विधायक सुखदेव पांसे के साथ माने जाते हैं। और इन पर 2023 में हुए विधानसभा चुनाव में भैंसदेही के कांग्रेस प्रत्याशी धरमूसिंह के खिलाफ भीतरघात करने का आरोप लगाए जाने की बात भी सामने आई थी। बताया जाता है कि कांग्रेस प्रत्याशी धरमूसिंह ने इनकी शिकायत प्रदेश कांग्रेस को भी की थी।

कांग्रेसियों का उत्साह गायब

जिले के राजनैतिक समीक्षकों का मानना है कि रामू टेकाम को पुन: उम्मीदवार बनाए जाने पर जिले के कांग्रेसियों का एक बड़ा वर्ग दबी जुबान से यह कह रहा है कि इस बार भाजपा उम्मीदवार की लीड पिछले बार से बढ़ सकती है, क्योंकि पांच साल में मतदाताओं की संख्या भी बढ़ी है। इसी बीच श्रीराम मंदिर में श्रीराम लला की स्थापना से भाजपा का ग्राफ तेजी से बढ़ा है।

प्रतिनिधि मंडल में गए थे ये नेता | Lok Sabha Election

बताया जा रहा है कि बुधवार को बैतूल से कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल भोपाल गया था जिसमें 15 से ज्यादा लोग शामिल थे। इस प्रतिनिधि मंडल में पूर्व मंत्री प्रताप सिंह उइके, पूर्व विधायक डॉ. पीआर बोड़खे, धरमूसिंह सिरसाम, निलय डागा, ब्रम्हा भलावी, कांग्रेस के पिछड़ा वर्ग के अध्यक्ष नारायण धोटे, जिला महिला कांग्रेस ग्रामीण की अध्यक्ष श्रीमती पुष्पा पेंद्राम सहित अन्य नेतागण शामिल थे।

पैनल में गए थे ये नाम

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को लेकर रायशुमारी में 9 नाम सामने आए थे जो टिकट के दावेदार थे। इन दावेदारों में पूर्व मंत्री प्रताप सिंह उइके, पूर्व विधायक धरमूसिंह सिरसाम, पूर्व विधायक ब्रम्हा भलावी, जिला महिला कांग्रेस ग्रामीण की अध्यक्ष पुष्पा पेंद्राम सहित अन्य नेताओं के नाम थे। जब टिकट की घोषणा हुई और रामू टेकाम को टिकट दिया गया तो कांग्रेस नेताओं ने दिल्ली के नेताओं से भी चर्चा की तो बताया गया कि उनके पास सिर्फ एक ही नाम आया था जिसे टिकिट दी गई है।

महिला को टिकट देने की उठी मांग | Lok Sabha Election

बैतूल लोकसभा सीट पर कांग्रेस की महिला नेत्रियों ने महिला प्रत्याशी को टिकट देने की मांग की है। कल भोपाल में महिला कांग्रेस की बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें बैतूल महिला कांग्रेस ग्रामीण की अध्यक्ष पुष्पा पेंद्राम और हरदा जिला महिला कांग्रेस की अध्यक्ष प्रमिला ठाकुर भी शामिल हुई थी। पुष्पा पेंद्राम ने सांध्य दैनिक खबरवाणी से हुई चर्चा में उन्होंने बताया कि मीटिंग के बाद उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी से मुलाकात की और बैतूल में महिला को टिकट देने की मांग रखी। उनकी मांग का प्रमिला ठाकुर ने भी समर्थन किया था।

2 thoughts on “Lok Sabha Election | कांग्रेस प्रत्याशी रामू टेकाम के खिलाफ कांग्रेसियों ने खोला मोर्चा”

Comments are closed.