MP Political News | लोकसभा के संभावित उम्मीदवार, पहुंच रहे भाजपा के द्वार

कुछ दिन पहले कांग्रेस में आए दीपक जोशी भी छोड़ेंगे पार्टी

MP Political News – भोपाल(ई-न्यूज)। लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस के विधायक, पूर्व विधायकों सहित अन्य का भाजपा में शामिल होने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। हाल ही में कांग्रेस के दो पूर्व विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं तो वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी के बेटे दीपक जोशी जो कि विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस में शामिल हो गए थे वह भी अब कांग्रेस छोडऩे का मूड बनाने लगे हैं। इसके अलावा अलीराजपुर के सरपंच और जनपद सदस्य रहे भील नेता कमरू भाई ने भी भाजपा ज्वाईन कर ली है।

बोले दीपक लौट रहा हूं घर | MP Political News

मीडिया में हो रही चर्चा के अनुसार जोशी का मूड बीजेपी में जाने के लिए बन गया है। दीपक विधानसभा चुनाव से पहले 6 मई 2023 को कांग्रेस में शामिल हो गए थे। दीपक ने कहा- मैं तो सुबह का भूला हूं, शाम को घर लौट रहा हूं। दीपक जोशी ने विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस जॉइन कर ली थी। वे अपने साथ पूर्व सीएम कैलाश जोशी का फोटो लेकर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय गए थे। दीपक जोशी ने विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस जॉइन कर ली थी। वे अपने साथ पूर्व सीएम कैलाश जोशी का फोटो लेकर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय गए थे।

पहले से भाजपा के थे दीपक:कमलनाथ

कांग्रेस नेताओं के पार्टी छोडऩे के सवाल पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने छिंदवाड़ा में कहा- दीपक पहले से भाजपा के हैं। अरुणोदय पहले ही कांग्रेस छोड़ चुके हैं। वहीं, खुद के जबलपुर से लोकसभा चुनाव लडऩे के सवाल पर कमलनाथ बोले- मैं छिंदवाड़ा किसी हाल में छोडऩे वाला नहीं हूं। बता दें, शनिवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, पूर्व सांसद गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी, इंदौर के पूर्व विधायक संजय शुक्ला, विशाल पटेल, अर्जुन पलिया और सतपाल पलिया ने भाजपा जॉइन कर ली थी। विदिशा से कांग्रेस के संभावित लोकसभा प्रत्याशियों में दीपक जोशी का नाम प्रमुखता से सामने आया था। हालांकि, दीपक ने अनौपचारिक चर्चा में यह भी कहा था कि उनके गृह जिले देवास की विधानसभाएं अलग-अलग लोकसभा क्षेत्र में विभाजित हैं। ऐसे में भी चुनाव नहीं लडऩा चाहते।

पिता के स्मारक को लगाए थे सरकार पर आरोप | MP Political News

साल 2020 में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ देवास जिले की हाटपिपल्या से कांग्रेस विधायक मनोज चौधरी ने भाजपा जॉइन कर ली थी। मनोज चौधरी, दीपक जोशी को हराकर विधायक बने थे। चौधरी के बीजेपी में आने के बाद दीपक जोशी को चुनाव लडऩे के लिए टिकट की संभावना नहीं बची थी। उन्होंने तत्कालीन शिवराज सरकार पर अपने पिता स्वर्गीय कैलाश जोशी के स्मारक बनवाने में उदासीनता बरतने और खुद की उपेक्षा के आरोप लगाकर बीजेपी छोड़ दी थी। विधानसभा चुनाव के ठीक पहले उन्होंने कांग्रेस जॉइन कर ली थी।

बागरी के डांस का सामने आया था वीडियो

शिवदयाल बागरी कांग्रेस के टिकट पर 2018 में गुनौर से विधायक बने थे। 2023 में कांग्रेस ने उनका टिकट काटकर जीवन लाल सिद्धार्थ को दे दिया था। टिकट कटने के बाद से ही शिवदयाल नाराज चल रहे थे। शिवदयाल बागरी इससे पहले विधानसभा चुनाव के पूर्व चर्चा में आए थे, तब उनका राई डांसर के साथ नाचते हुए वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो भाजपा प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। बागरी इस वीडियो में होठों में नोट दबाकर नाचते दिख रहे हैं। इस पर उन्होंने कहा था कि वीडियो पुराना है। गुनौर सीट से सपा की विधानसभा प्रत्याशी रहीं अमिता बागरी ने भी तीन दिन पहले बीजेपी में घर वापसी की है।

अरुणोदय ने कर दिया था सरेंडर

सागर जिले की खुरई सीट से कांग्रेस के विधायक रहे अरुणोदय चौबे विधानसभा चुनाव में खुरई सीट से मुख्य दावेदार माने जा रहे थे, लेकिन उन्होंने चुनाव के कुछ महीने पहले ही कांग्रेस के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस ने खुरई में रक्षा राजपूत को प्रत्याशी बनाया था। इस लोकसभा चुनाव में अरुणोदय सागर सीट से कांग्रेस के मजबूत दावेदार माने जा रहे थे, लेकिन उन्होंने रविवार को सोशल मीडिया के जरिए अपनी उम्मीदवारी से कदम पीछे खींच लिए थे। लोकसभा उम्मीदवारी से चौबे के सरेंडर किए जाने के बाद अब कांग्रेस को नए सिरे से सागर सीट पर मजबूत उम्मीदवार खोजने की चुनौती बढ़ गई है। साभार…