Livestock Census |  सरकार का महत्वपूर्ण फैसला पशुगणना में खानाबदोश चरवाहों की भी होगी गिनती 

जाने आखिर क्या है योजना का उद्देश्य

Livestock Census भारत सरकार ने 2024 में होने वाली पशुगणना में खानाबदोश चरवाहों की भी गिनती करने का फैसला किया है। यह पहली बार होगा जब देश में खानाबदोश चरवाहों के पास मौजूद पशुधन का डेटा इकट्ठा किया जाएगा।

इस योजना का उद्देश्य देश में पशुधन की सटीक संख्या का पता लगाना है, जिसमें खानाबदोश चरवाहों के पास मौजूद पशुधन भी शामिल है। यह डेटा सरकार को पशुपालन क्षेत्र के लिए बेहतर नीतियां बनाने और योजनाओं को लागू करने में मदद करेगा।

खानाबदोश चरवाहों के लिए विशेष व्यवस्था | Livestock Census

सरकार खानाबदोश चरवाहों के लिए विशेष व्यवस्था करेगी ताकि वे पशुगणना में भाग ले सकें। इसके लिए, सरकार निम्नलिखित उपाय करेगी:

खानाबदोश चरवाहों के लिए विशेष पशुगणना शिविर आयोजित किए जाएंगे।
इन शिविरों में पशुधन की गिनती के लिए प्रशिक्षित कर्मचारी तैनात किए जाएंगे।
खानाबदोश चरवाहों को पशुगणना में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

पशुगणना का महत्व:

पशुगणना देश में पशुधन की सटीक संख्या का पता लगाने का एक महत्वपूर्ण साधन है। यह डेटा सरकार को पशुपालन क्षेत्र के लिए बेहतर नीतियां बनाने और योजनाओं को लागू करने में मदद करता है। पशुगणना के माध्यम से सरकार पशुधन के स्वास्थ्य, उत्पादन और उत्पादकता का भी आकलन करती है।

निष्कर्ष | Livestock Census

खानाबदोश चरवाहों की पशुगणना में शामिल करना एक महत्वपूर्ण कदम है। यह देश में पशुधन की सटीक संख्या का पता लगाने में मदद करेगा और सरकार को पशुपालन क्षेत्र के लिए बेहतर नीतियां बनाने और योजनाओं को लागू करने में मदद करेगा।

Source Internet 

1 thought on “Livestock Census |  सरकार का महत्वपूर्ण फैसला पशुगणना में खानाबदोश चरवाहों की भी होगी गिनती ”

Comments are closed.