spot_img
HometrendingSolar pump: किसानो के खेत में सरकार लगाएगीं सोलर पंप और साथ...

Solar pump: किसानो के खेत में सरकार लगाएगीं सोलर पंप और साथ में मिलेगी 90% सब्सिड़ी भी जाने कैसे आवेदन।

Solar pump: किसानो के खेत में सरकार लगाएगीं सोलर पंप और साथ में मिलेगी 90% सब्सिड़ी भी जाने कैसे आवेदन। सोलर एनर्जी पॉलिसी-2022 को मंजूरी, सोलर पंप पर किसानों को मिलेगी ज्यादा सब्सिडी
सरकार द्वारा किसानों के लिए कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। इसके तहत किसानों को सब्सिडी दी जाती है। इन योजनाओं का लाभ उठाकर किसान अपनी विभिन्न कृषि जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। इन्हीं योजनाओं में से एक है सोलर पंप योजना। इसके तहत किसानों को सब्सिडी पर सोलर पंप उपलब्ध कराये जाते हैं ताकि किसानों को सिंचाई का काम आसान हो सके. इसी कड़ी में सौर ऊर्जा नीति 2022 के प्रस्ताव को उत्तर प्रदेश सरकार ने मंजूरी दे दी है। इसके तहत सोलर पंप लगाने के लिए किसानों को अब सब्सिडी का लाभ पहले से ज्यादा मिल सकेगा। सोलर पंप अब किसानों को 90 प्रतिशत तक सब्सिडी का लाभ मिलेगा। इससे किसानों को अब सिंचाई के लिए सोलर पंप सस्ती दर पर मिल सकेंगे। अगर आप यूपी से हैं और आप भी अपने खेत में सिंचाई के लिए सोलर पंप लगाना चाहते हैं तो यह खबर आपके लिए बेहद जरूरी है। इसलिए इस खबर को अंत तक पढ़ें और इसे आगे शेयर करें ताकि अधिक से अधिक किसान इस योजना का लाभ उठा सकें। ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट में आज हम सोलर पंप योजना यूपी के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

किसानो के खेत में सरकार लगाएगीं सोलर पंप और साथ में मिलेगी 90% सब्सिड़ी भी जाने कैसे आवेदन।

यह योजना 5 साल तक जारी रहेगी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सौर ऊर्जा नीति-2022 के प्रस्ताव को उत्तर प्रदेश सरकार ने मंजूरी दे दी है. यह नीति जारी होने की तिथि से प्रभावी होगी। इसका लाभ किसानों को 5 वर्ष की अवधि तक या राज्य सरकार द्वारा नई नीति अधिसूचित किए जाने तक, जो भी पहले हो, लागू रहेगा। मंत्रिपरिषद ने पृथक कृषि फीडरों (कुसुम सी-2) के सौरकरण हेतु 2000 मेगावाट क्षमता के संयंत्र लगाने पर राज्य वीजीएफ को 50 लाख रुपये प्रति मेगावाट की दर से स्वीकृत किया। तथा (कुसुम सी-1) निजी ऑन ग्रिड पंप के सोलराइजेशन पर राज्य सरकार मुसहर, वनटांगिया, अनुसूचित जनजाति के किसानों को 70 प्रतिशत अनुदान एवं अन्य किसानों को 60 प्रतिशत अनुदान तथा कुल 1000 करोड़ रुपये की सहायता प्रदान करेगी. पॉलिसी अवधि में 05 वर्ष। रुपये का अनुदान।

कुसुम योजना में 90 प्रतिशत अनुदान दिया जायेगा

Solar pump:केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही पीएम कुसुम योजना के घटक सी-1 में किसानों को उनके द्वारा लगाए गए नलकूपों पर सौर ऊर्जा के लिए केंद्र सरकार द्वारा 30 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है। राज्य में इस योजना को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए उत्तर प्रदेश में रहने वाले मुसहर, वनटांगिया और अनुसूचित जनजाति के किसानों को केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित अनुदान के अतिरिक्त 70 प्रतिशत अधिक अनुदान दिया जाएगा। इस प्रकार इस श्रेणी के किसानों के नलकूप नि:शुल्क सौर ऊर्जा से संचालित होंगे। वहीं राज्य के अन्य किसानों को राज्य सरकार की तरफ से 60 फीसदी अनुदान के अलावा केंद्र सरकार की ओर से 30 फीसदी अनुदान दिया जाएगा. इस प्रकार अन्य श्रेणी के कृषकों के नलकूपों को सौरकृत करने हेतु राज्य सरकार द्वारा 90 प्रतिशत अनुदान का लाभ प्रदान किया जायेगा।

पीएम कुसुम योजना से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

Solar pump:किसानों को कितना योगदान देना होगा
कुसुम योजना के तहत किसानों के खेतों में लगे नलकूपों को सोलर पंप में बदला जाएगा। इसके लिए यूपी सरकार द्वारा किसानों को सब्सिडी का लाभ दिया जा रहा है। इस योजना के तहत राज्य में रहने वाले मुसहर, वनटांगिया और अनुसूचित जनजाति के किसानों को केंद्र सरकार से 30 प्रतिशत और राज्य सरकार से 70 प्रतिशत सब्सिडी का लाभ दिया जाएगा। इस प्रकार इन किसानों को शत-प्रतिशत अनुदान दिया जायेगा अर्थात ऐसे किसान सोलर पम्प योजना का लाभ निःशुल्क प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा अन्य श्रेणी के किसानों को 60 प्रतिशत अनुदान राज्य सरकार की ओर से तथा 30 प्रतिशत अनुदान केंद्र सरकार से प्राप्त होगा। इस प्रकार अन्य श्रेणी के किसानों को 90 प्रतिशत अनुदान प्राप्त होगा और उन्हें केवल 10 प्रतिशत अंशदान देना होगा, अर्थात केवल 10 प्रतिशत राशि खर्च करनी होगी, जो लगभग 55,000 रुपये होगी।

पीएम कुसुम योजना के घटक सी-2 के तहत अतिरिक्त अनुदान दिया जाएगा

Solar pump:इस योजना के तहत बिजली निगम द्वारा कृषि फीडरों को अलग से चिन्हित किया गया है। इन फीडरों के सौर ऊर्जाकरण की यह योजना केंद्र सरकार द्वारा चलाई जाती है, जिसमें केंद्र सरकार 1.05 करोड़ प्रति मेगावाट की दर से अनुदान देती है। इस योजना को व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य बनाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा दिए जाने वाले अनुदान के अलावा, राज्य सरकार द्वारा व्यवहार्यता अंतर वित्तपोषण के लिए 50 लाख रुपये प्रति मेगावाट की दर से अतिरिक्त अनुदान की व्यवस्था की गई है।

कुसुम योजना क्या है (Pm Kusum Yojana)

Solar pump:कुसुम योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना के तहत किसानों को सब्सिडी पर सोलन पंप उपलब्ध कराये जाते हैं। इस योजना के तहत राज्य में स्थापित डीजल पंप सौर ऊर्जा से चलेंगे। इसके लिए यूपी सरकार द्वारा काम किया जा रहा है। इसके तहत राज्य सरकार द्वारा ऐसे किसानों को सब्सिडी दी जाएगी जिनके खेतों में बिजली/डीजल पंप लगे हैं, उनके स्थान पर सोलर पंप लगाए जाएंगे।

यह भी पड़े: MP Post Office : 4074 पदों पर निकली भर्ती, 5 जून तक कर सकते हैं अप्लाई

RELATED ARTICLES

Most Popular