Electricity Transformer – ट्रांसफार्मर मामले में पेटी कांटे्रक्टर पर होगी एफआईआर

सांध्य दैनिक खबरवाणी ने किया था मामले का खुलासा

Electricity Transformer – बैतूल – जिले के बोरदेही के अंतर्गत आने वाले ग्राम बामला में बिना अनुमति के ट्रांसफार्मर लगाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले का खुलासा सांध्य दैनिक खबरवाणी ने किया था। इस मामले में विद्युत कंपनी पेटी कांट्रेक्टर पर एफआईआर कराने जा रही है। इसके साथ ही इस मामले से जुड़े अधिकारी और अन्य लोगों के खिलाफ कार्यवाही की बात की जा रही है।

रूपेश गव्हाड़े पर होगी एफआईआर | Electricity Transformer

मध्यप्रदेश मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी उत्तर संभाग के डीजीएम हितेश सिंह वशिष्ट ने सांध्य दैनिक खबरवाणी से चर्चा में बताया कि बिना अनुमति ट्रांसफार्मर लगाने के मामले की जांच की जा रही है। जांच में प्रथम दृष्टया पेटी कांट्रेक्टर रूपेश गव्हाड़े दोषी पाया गया है।

Also Read – Benefits of Orange Peel – इस फल के छिलके के भी है कई गुणकारी लाभ, जाने फायदे  

पेटी कांट्रेक्टर जैसा कोई विद्युत कंपनी में नहीं होता है। विद्युत कंपनी पेट्री कांट्रेक्टर रूपेश गव्हाड़े के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने जा रही है। इसके अलावा मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही वास्तविक स्थिति स्पष्ट हो पाएगी कि इस कार्य कौन-कौन शामिल है? उसके बाद उन पर भी कार्यवाही की जाएगी।

जेई-लाइनमेन और ठेकेदार भी हैं शामिल | Electricity Transformer

विद्युत कंपनी ने पेटी कांट्रेक्टर के खिलाफ तो कार्यवाही का मन बना लिया है लेकिन सवाल यह है कि यह मामला पूरा साफ है और स्पष्ट तौर पर तत्कालिन जेई इंद्रपाल सिंह भलावी, संबंधित लाइनमेन और ठेकेदार की भूमिका भी संदिग्ध है। इन्हीं तीनों की मिलीभगत के बाद ट्रांसफार्मर लगाया गया था।

Also Read – Benefits Of Methi Leaves – इन पत्तों के हैं कई गुणकारी लाभ, कोलेस्ट्रॉल हो जाता है छूमंतर, कण्ट्रोल रहती है शुगर   

इन सवालों का किसके पास है जवाब | Electricity Transformer

  • प्रश्र-01 तत्कालिन जेई अगर परमिट नहीं देते तो ट्रांसफार्मर नहीं लगाया जा सकता था।
  • प्रश्र-02 लाइनमेन बिजली बंद नहीं करते तो ट्रांसफार्मर नहीं शुरू हो पाता।
  • प्रश्र-03 ठेकेदार के नाम पर काम कर रहे रूपेश गव्हाड़े का यह पहला मामला है कि इसके पहले भी उन्होंने ऐसे कार्य किए हैं। अगर यह जांच ठीक ढंग से हो जाती है तो इन तीनों के खिलाफ भी आपराधिक प्रकरण दर्ज हो सकता है।
  • प्रश्र-04 रूपेश गव्हाड़े ने ठेकेदार दिलीप पोटफोड़े के लाइसेंस पर पहले जो काम किए हैं। उनकी जांच होनी चाहिए।
  • प्रश्र-05 अगर ठेकेदार दिलीप पोटफोड़े ने अपने लाइसेंस पर पेटी कांट्रेक्टर के रूप में रूपेश गव्हाड़े से कार्य करवाए हैं तो दिलीप पोटफोड़े के खिलाफ भी क्या एफआईआर होगी?

Leave a Comment