Homeधर्म एवं ज्योतिषChhath Puja:छठ पूजा 2022 आज है छठ पूजा का दूसरा दिन, जानिए...

Chhath Puja:छठ पूजा 2022 आज है छठ पूजा का दूसरा दिन, जानिए इस चार दिवसीय उत्सव में किस दिन क्या होगा?

Chhath Puja:छठ पूजा 2022 आज है छठ पूजा का दूसरा दिन, जानिए इस चार दिवसीय उत्सव में किस दिन क्या होगा? छठ पूजा 2022 छठ पूजा त्योहार कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि से मनाया जाता है। यह व्रत संतान की लंबी आयु के लिए होता है। इसे स्वास्थ्य, उज्ज्वल भविष्य, लंबे जीवन और सुखी जीवन की कामना के लिए रखा जाता है। इस व्रत को सबसे कठिन व्रतों में से एक माना जाता है। यह व्रत 36 घंटे तक कड़े नियमों के अनुसार किया जाता है। इस दौरान व्रती चौबीस घंटे से अधिक समय तक निर्जल उपवास रखते हैं। छठ पर्व का मुख्य व्रत षष्ठी तिथि को किया जाता है लेकिन यह पर्व चतुर्थी से प्रारंभ होकर सप्तमी तिथि को प्रातः सूर्योदय के समय अर्घ्य देकर समाप्त होता है। छठ महापर्व नहाय खाय से शुरू होता है और खरना के बाद उपवास शुरू होता है। चार दिवसीय उत्सव के किस दिन क्या किया जाता है? आइए जानते हैं-

Chhath Puja

छठ पर्व किस दिन से शुरू होता है?
छठ पूजा का महापर्व इस साल 28 अक्टूबर 2022 से शुरू हो रहा है। लोक आस्था का यह भव्य पर्व चार दिनों तक चलता है। इस वर्ष यह 28 अक्टूबर 2022 से प्रारंभ होकर 31 अक्टूबर 2022 तक चलेगा। कार्तिक मास की चतुर्थी तिथि में पहले दिन स्नान, दूसरे दिन खरना स्नान, सेटिंग को अर्घ्य दिया जाता है। तीसरे दिन सूर्य और चौथे दिन उगते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है।

स्नान के महत्व को समझें
छठ पर्व में स्वच्छता का विशेष महत्व है। छठ के प्रसाद में शुद्धता का विशेष ध्यान रखा जाता है। कार्तिक मास की चतुर्थी तिथि शुक्ल पक्ष छठ पर्व का प्रथम दिन है। इस दिन व्रत रखने वाले लोग सुबह जल्दी उठकर साफ-सफाई करते हैं और स्नान के बाद छठ पर्व की शुरुआत होती है।

खरन का अर्थ क्या है?
खरना को लोहंडा के नाम से भी जाना जाता है। खरना कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। पूरे दिन उपवास के बाद रात में पूजा करने के बाद गुड़ से बनी खीर खाकर 36 घंटे का निर्जल व्रत शुरू करते हैं. इस दिन मिट्टी के चूल्हे पर आम की लकड़ी से आग जलाकर सती चावल, दूध और गुड़ की खीर बनाई जाती है. शाम को किसी नदी या तालाब में जाकर सूर्य को जल अर्पित किया जाता है और फिर छठ का कठिन व्रत शुरू होता है।

मुख्य व्रत षष्ठी तिथि को किया जाता है
छठ पर्व की मुख्य पूजा षष्ठी तिथि को की जाती है। इस दिन सुबह सूर्योदय के समय किसी नदी या तालाब में अर्घ्य दिया जाता है और छठ मय्या की पूजा की जाती है। व्रती पूरे दिन एक सख्त निर्जला उपवास रखते हैं। शाम को फिर से नदी में जाकर जल में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य दें।

Chhath Puja:छठ पूजा 2022 आज है छठ पूजा का दूसरा दिन, जानिए इस चार दिवसीय उत्सव में किस दिन क्या होगा?

चौथा दिन
चौथा दिन यानि सप्तमी तिथि छठ महापर्व का अंतिम दिन है। इस दिन सप्तमी के दिन उगते सूर्य को जल अर्पित किया जाता है। इसके साथ छठ पर्व का समापन होता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular