spot_img
HometrendingChar Rajyon Ki Police - जानिए 4 हजार किमी. पीछा कर पुलिस...

Char Rajyon Ki Police – जानिए 4 हजार किमी. पीछा कर पुलिस ने कैसे पकड़ा हत्यारा

प्रेमिका की ब्लेड से हत्या कर फरार हो गया था आरोपी, चार राज्यों की पुलिस ने किया पीछा

भोपाल – Char Rajyon Ki Police – जबलपुर के थाना तिलवारा अंतर्गत मेखला रिसोर्ट में 8 नवंबर 22 को मेखला रिसार्ट (होटल) में एक युवती की हत्या होने की सूचना पर थाना प्रभारी तिलवारा श्री लक्ष्मण सिंह झारिया हमराह स्टाफ के साथ पहुचे,जहॉ अनुप वैदेही ने बताया कि वह मेखला रिसार्ट (होटल) में केशियर की नौकरी करता है। दिनांक 06 नवंबर 22 को काउन्टर मे बैठा था तभी दोपहर करीब 12 बजे एक लडका और एक लडकी काउन्टर पर आए लडके ने अपना नाम अभिजीत पाटीदार निवासी गुजरात और लडकी ने अपना नाम राखी मिश्रा बताया, जो बोले तीन दिन तक होटल मे रूकना है दोनो अपनी पहचान हेतु मेरे मोबाईल पर आधारकार्ड व्हाटसप किए उसके द्वारा होटल मे रखा चैकिंग इन, चैकिंग आउट रजिस्टर मे क्रमांक 454 पर एन्ट्री किया गया, रजिस्टर पर लडके ने हस्ताक्षर किया और उस पर मोबाईल नम्बर लिखा।

Char Rajyon Ki Police – जानिए 4 हजार किमी. पीछा कर पुलिस ने कैसे पकड़ा हत्यारा

उसके द्वारा दोनो लडका-लडकी को होटल के पहले फ्लोर के कमरा नंबर 05 में डबल बैडरूम किराए पर दिया गया। दोनो लडका लडकी कमरे मे चले गए थे उसके द्वारा एडवांस बतौर 1500/-रू नगद लिए गए थे। शाम को दोनो लडका लडकी बाहर घुमने गए। बाद मे लडका वापस होटल आया लडके के साथ लडकी नही आई थी।

रात्रि मे एवं 07 नवंबर 22 को दोपहर का खाना लडके ने होटल पर ही खाया था और दोपहर लगभग 01-30 बजे बाहर घूमने के लिए गया था। शाम लगभग 04 बजे लडका और लडकी वापस होटल मे आए और कमरे मे चले गए एवं शाम करीब 05-30 बजे लडका पुनः अकेला बाहर घूमने चला गया था, उसके बाद उस लडके को वापस होटल मे आते नही देखा । 08 नवंबर 22 को दोपहर करीबन 12 बजे तक लडका और लडकी के द्वारा किसी प्रकार का कोई चाय नाश्ता का आर्डर नही देने से कमरे का दरवाजा खटखटाकर आवाज दिए, अंदर से कोई आवाज नही आई तो उसने और होटल मे काम करने वाले पप्पू काछी ने मास्टर चाबी से कमरा नंबर 05 का दरवाजा खोला, अंदर देखे कि लडकी बिस्तर पर रजाई से ढकी हुई पडी थी, बिस्तर के चादर में खून लगा हुआ था एवं फर्श मे भी खून गिरा हुआ था । लडकी के हाथ की कलाई एवं गले में कटने का निशान था, 2 ब्लेड जिसमें से एक बिस्तर पर एवं एक फर्श पर पड़ी हुई थी ।

Credit – Internet

Char Rajyon Ki Police – जानिए 4 हजार किमी. पीछा कर पुलिस ने कैसे पकड़ा हत्यारा

घटित हुई घटना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया, सूचना पर पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) के निर्देश पर नगर पुलिस अधीक्षक बरगी सुश्री प्रियंका शुक्ला (भा.पु.से.) एवं एफएसएल डाक्टर सुश्री नीता जैन, डॉग स्कवाड, फिंगर प्रिंट निरीक्षक श्री अखिलेश चौकसे मौके पर पहुंचे।

वरिष्ठ अधिकारी एवं एफ.एस.एल. तथा फिंगर प्रिंट टीम की उपस्थति में पंचनामा कार्यवाही कर शव को पीएम हेतु भिजवाते हुये मर्ग कायम कर जांच में लिया गया। जांच के दौरान घटना स्थल पर फिंगर प्रिंट प्रभारी निरीक्षक श्री अखिलेश चौकसे द्वारा घटना स्थल से फिंगर प्रिंट सुरक्षित किये गये।चूंकि आरोपी के द्वारा अपनी आधार आई.डी अभिजीत पाटीदार और म्रतक लडकी की आधार आई.डी राखी शर्मा के नाम से दी गई थी जो विवेचना को दौरान दोनो आधार आई.डी फेक पाई गई म्रतक लडकी की पहचान कुमारी शिल्पा झारिया पिता गुलाब प्रसाद झारिया 21 वर्ष निवासी भोका देवरी थाना कुंडम के रूप मे हुई ।

उक्त संपूर्ण परिस्थिति जन्य साक्ष्य से यह पाया गया कि मेखला रिसार्ट के चैक इन-चैक आउट रजिस्टर पर दर्ज एवं दी गयी आधार आई डी के अनुसार अभिजीत पाटीदार के व्दारा मृतिका का नाम पता छुपा कर फेक आई डी देकर मेखला रिसार्ट होटल मे रूका और उसकी हत्या कर फरार हो गया। आरोपी के विरूद्ध 424/22 धारा 302,201 भादवि का अपराध पजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।

उपरोक्त घटित हुई सनसनीखेज घटना को जबलपुर पुलिस ने चुनौती के रूप में लिया। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जबलपुर जोन जबलपुर श्री उमेश जोगा एवं उप पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर रेंज जबलपुर श्री आर.आर. सिंह परिहार के मार्गदर्शन तथा पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देशन में अति.पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री शिवेश सिंह बघेल , नगर पुलिस अधीक्षक बरगी सुश्री प्रिंयका शुक्ला द्वारा आरोपी की तलाश पतासाजी हेतु टीमे लगायी गयी जो नागपुर ,गुजरात , बिहार , राजस्थान भेजी गई थी ।

Char Rajyon Ki Police – जानिए 4 हजार किमी. पीछा कर पुलिस ने कैसे पकड़ा हत्यारा

चूंकि आरोपी अभिजीत पाटीदार का जबलपुर कोतवाली में भी पूर्व में धारा 420 भा.द.वि. का पंजीबध्द होने से और आरोपी का पता ठिकाना गलत होने से फिंगर प्रिंट निरीक्षक श्री अखिलेश चौकसे के द्वारा घटना स्थल पर मिले चंास फिंगर प्रिंट का मिलान नेफिस सिस्टम में निवेशित करने पर महाराष्ट्र नासिक के अपराध क्र. 122/14 धारा 394,279,337,338,427 भादवि के आरोपी हेमंत भदाणे पिता राजेन्द्र भदाणे उम्र-29 वर्ष निवासी राधाकण्ण नगर नासिक महाराष्ट्र के रूप में हुई जो कि आदतन मोटर सायकिल चोरी करने का आरोपी होना पाया गया जिसके विरूद्ध महाराष्ट्र में कुल 37 अपराध पंजीबद्ध होना पाये गये।

विवेचना दौरान टेक्सी ड्रायवर के द्वारा बताया गया कि आरोपी ने दिनांक 07 नवंबर को उसकी टेक्सी से लखनादौन जाते समय रास्ते में ए.टी.एम से रूपया निकाला था उक्त जानकारी मिलने पर बैंक से जानकारी ली गई बैंक से घटना दिनांक समय का फुटेज एवं ट्रांजेक्सन की डिटेल ली गई तो जानकारी प्राप्त हुई कि उक्त समय में शिल्पा झारिया के एकाउंट से पैसे की निकासी हुई है ।

सायबर सेल के माध्यम से भी आरोपी तक पहुंचने का हर संभव प्रयास किये जा रहे थे । आरोपी लगातार अपना स्थान बदल रहा था जो पिछले 10 दिनो में लगभग 4000 कि.मी. एक राज्य से दूसरे राज्य भाग कर प्रतिदिन मृतिका के ए.टी.एम से 20 हजार रूपये निकाला करता था।

लगायी गयी टीम में आरोपी का पीछा करते हुये उनि अभिषेक कैथवास हमराह आरक्षक हरिसिंह क्राईम ब्रांच के सउनि धनंजय सिंह, सउनि म्रदुलेश शर्मा, प्र.आर.शेषनारायण, आरक्षक मुकुल गौतम, मुकेश परिहार एवं सायबर सेल के आरक्षक नवनीत चक्रवर्ती की टीम पहले नागपुर पहुचंी थी, इसी टीम को बाद में बिहार भी भेजा गया तथा सूरत गुजरात में उप निरीक्षक अनिल गौर , प्र.आर.सुग्रीव तिवारी , आर.अरविन्द बालाराम को भेजा गया एवं अजमेर राजस्थान, चण्डीगढ पंजाब में उप-निरी रजनीश मिश्रा ,आरक्षक त्रिलोक ,आरक्षक हरिसिंह, अभिदीप भट्टाचार्य, .आनंद यादव को भेजा गया,।

उल्लेखनीय है कि उप निरीक्षक रजनीश मिश्रा की टीम द्वारा आरोपी के रिवाड़ी हरियाणा, उना हिमाचलप्रदेश, चण्डीगढ, तथा राजस्थान के अलवर, अजमेर , सिरोही तक लगातार 4 दिनों तक लगभग 3500 कि.मी. तक पीछा करते हुये सी.सी.टीव्ही फुटेज खंगाले गये, बस स्टैण्ड एवं होटल चैक किये गये। इस दौरान विभन्न राज्यों में पदस्थ आई.पी.एस. अधिकारी श्री मृदुल (चण्डीगढ), श्री मनंदिर सिंह (पंजाब), सुश्री काम्या मिश्रा (बिहार), श्रैनिक लोधा (महाराष्ट्र) के द्वारा तत्काल वांछित मदद प्रदाय की गयी।

आरोपी का सायबर सेल के माध्यम से पीछा किया जा रहा था जो दिनांक 17/11/2022 को सुबह 08/00 बजे आरोपी के द्वारा अजमेर से ए.टी.एम से 20 हजार रूपये निकाले जाने की जानकारी मिलने पर पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) के द्वारा अजमेर के पुलिस अधीक्षक श्री चूनाराम (भा.पु.से.) तथा नगर पुलिस अधीक्षक बरगी सुश्री प्रियंका शुक्ला (भा.पु.से.) द्वारा 2019 के राजस्थान कैडर के आई.पी.एस. अधिकारी श्री सुमीत मेहरडा से तत्काल सर्म्पक कर आरोपी के संबंध में जानकारी दी गई, जिस पर पुलिस अधीक्षक अजमेर द्वारा एस.डी.ओ.पी. विजय सिंह के नेतृत्व में टीम गठित कर जिस ए.टी.एम से आरोपी के द्वारा पैसा निकाला गया था सीसीटीवी की फुटेज चैक करते हुये आरोपी की जानकारी ली गई, आऱोपी के बस में बैठकर अजमेर से बाहर जाने की जानकारी लगने पर थाना सवरूपागंज में सघन वाहन चौकिंग लगाई गई। सवरूपागंज थाना प्रभारी हरिसिंह राजपूत के द्वारा आरोपी को दिनांक 18/11/2022 को हिरासत में लिया गया।

आऱोपी ने पूछताछ पर अपना नाम हेमंत भदाणे पिता राजेन्द्र भदाणे उम्र-29 वर्ष निवासी राधाकण्ण नगर नासिक महाराष्ट्र बताते हुये बताया गया कि वह मृतिका शिल्पा से प्रेम करता था, शिल्पा के व्हाट्सएप में अन्य पुरूष के साथ फोटो देखने पर चरित्र पर शंका होने पर उसे समझाने का प्रयास किया, क्योकिं वह मृतिका शिल्पा से शादी करना चाहता था परंतु शिल्पा से जब भी वह फोन पर बात करना चाहता था, शिल्पा का मोबाईल हमेशा व्यस्त होने से संदेह ओैर गहराता गया, जिस कारण योजनाबध तरीके से शिल्पा की ब्लेड से हमला कर हत्या कर दी और हत्या करने के बाद मृतिका का मोबाईल, ए.टी.एम कार्ड, चैन, कान की बाली लेकर भाग गया।

आऱोपी हेमंत भदाणे के कब्जे से मृतिका का मोबाईल, ए.टी.एम कार्ड, चैन, कान की बाली, नगदी 1 लाख 52 हजार 450 रूपये जो एटीएम से निकाले थे, जप्त की गयी है ।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अधिकारियों का रहा महत्वपूर्ण सहयोग- बैंक आफ महाराष्ट्रा जबलपुर के जोनल हैड श्री ओमकार कुमार, एवं सीनियर मैनेजर श्री अभिषेक जैसवाल से चर्चा करते हुये मृतिका के खाते से एटीएम के माध्यम से आरोपी के द्वारा निकाले जा रहे रूपयों के सम्बंध में जानकारी ली गयी जिन्होंने प्राथमिकता के आधार पर चाही गयी सभी जानकारियॉ वैधानिक रूप से उपलब्ध करायी।

आऱोपी को गिरफ्तार करने में फिंगर प्रिंट निरीक्षक श्री अखिलेश चौकसे ,सायबर सेल में कार्यरत आरक्षक अमित पटेल, सौरभ, अरविंद, उनि अभिषेक कैथवास आरक्षक हरिसिंह क्राईम ब्रांच के सउनि धनंजय सिंह, सउनि म्रदुलेश शर्मा, प्र.आर.शेषनारायण, आरक्षक मुकुल गौतम, मुकेश परिहार एवं सायबर सेल के आर.नवनीत चक्रवर्ती गुजरात की टीम के उप-निरी अनिल गौर , प्र.आर. सुग्रीव तिवारी , आरक्षक अरविन्द, बालाराम राजस्थान, चण्डीगढ, पंजाब की टीम के उप-निरी रजनीश मिश्रा ,आरक्षक त्रिलोक ,हरिसिंह, अभिदीप भट्टाचार्य, आनंद यादव की सराहनीय भूमिका रही।

Source – Internet

RELATED ARTICLES

Most Popular