Betul Hospital | जच्चा-बच्चा का अस्पताल में फर्श बना बिछौना

कॉकरोच और गंदगी के बीच रहने को हो रहे मजबूर

Betul Hospitalबैतूलआपको यह जानकर बेहतर ताज्जुब होगा कि करोड़ों रुपए से बने जिला अस्पताल भवन में जच्चा और बच्चा के लिए कोई व्यवस्था तक नहीं है। करोड़ों रुपए की इस बिल्डिंग में जच्चा और बच्चा को फर्श पर लेटने मजबूर होना पड़ रहा है। गंदगी और कॉकरोज के बीच जच्चा -बच्चा अपना समय काट रहे हैं। मानवता को शर्मसार करने वाली यह तस्वीरे जिला चिकित्सालय की है।

फर्श पर सो रही एक दर्जन जच्चा-बच्चा | Betul Hospital

बैतूल जिला अस्पताल के प्रसूति वार्ड में एक दर्जन से अधिक प्रसूताओं को जमीन पर लेटा दिया है। प्रसूति वार्डो की हालत यह हो गई है कि इनमें चलने तक की जगह नहीं बची है। बेड नहीं मिलने से इन प्रसूताओं को नवजात शिशुओं के साथ जमीन लेटा दिया जा रहा हैं। इन वार्डो में कॉकरोचों के बीच नवजात शिशुओं के साथ प्रसूताएं रहने को मजबूर है। इतना ही नहीं प्रसूति वार्ड में पानी की कोई व्यवस्था नहीं है। अस्पताल के वार्ड और टायलेट में गंदगी का अम्बार लगा हुआ है। अस्पताल में भर्ती प्रसूताओं को ईलाज भी नही मिल पा रहा है। इस मामले में जिम्मेदार जिले भर से प्रसुताओं को जिला अस्पताल रेफर करने से यह समस्या आने की बात कह रहे है।

फटे गद्दे-चादर पर लेटाया

प्रसूताओं के परिजनों ने अस्पताल में फैली अव्यवस्थाओं को लेकर बताया की प्रसूति वार्डों में बेड नहीं है। महिलाओं को डिलीवरी के बाद में नवजात बच्चे के साथ में जमीन पर ही लेटाया जा रहा है। जो गद्दे और चादर दिए जा रहे है वह फटे हुए और गंदे है। वहीं वार्डों की साफ सफाई व्यवस्था के बुरे हाल हैं वार्डों में कॉकरोच सहित कचरे का अंबार लगा हुआ है। टॉयलेट बाथरूम भी बेहद गंदे पड़े हुए है, जिनकी सफाई नहीं हो रही है। इतना ही नहीं वार्डों में पीने के पानी तक की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। जिसके चलते परिजनों को पानी के लिए भटकना पड़ता है।

ओव्हरलोड चल रहा मेटरनिटी वार्ड | Betul Hospital

प्रसूताओं की माने तो वार्डो में सफाई कर्मचारी भी उनके साथ में बुरा व्यवहार कर रहे हैं। इस मामले में बैतूल जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉक्टर अशोक बारंगा ने बताया कि जिला अस्पताल में जिले भर से प्रसूताओं को रेफर कर दिया जाता है। जिससे जिला अस्पताल पर भार बढ़ गया है। जिसके कारण बेडो की कमी हो गई है। इसी वजह से अन्य व्यवस्थाओं पर भी इसका असर पड़ता है जिससे व्यवस्थाएं गड़बड़ा रही है।

1 thought on “Betul Hospital | जच्चा-बच्चा का अस्पताल में फर्श बना बिछौना”

Comments are closed.