HometrendingBenefits of Cobra Pose - जाने भुजंगासन करने के क्या हैं लाभ 

Benefits of Cobra Pose – जाने भुजंगासन करने के क्या हैं लाभ 

यहाँ जाने कैसे करते हैं Cobra Pose 

Benefits of Cobra Poseकई लोग ऐसी नौकरी करते हैं जहां उन्हें पूरे दिन बैठकर काम करना पड़ता है, सुबह से शाम तक। यह तो बैठकर की जाने वाली नौकरी है और इसे आरामदायक माना जाता है, लेकिन लंबा समय बैठे रहना शारीरिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इससे कम उम्र में ही लोगों को कमर दर्द, गर्दन दर्द, और वजन बढ़ने की समस्या हो सकती है। इस समस्या से निपटने के लिए भुजंगासन (Bhujangasana) एक अच्छा योगासन हो सकता है। यह आसानी से किया जा सकता है, बीमारियों को दूर रखता है, वजन घटाने में मददगार हो सकता है, और शारीरिक दर्द को कम कर सकता है। जानिए भुजंगासन (Cobra Pose) के बारे में और अधिक।

इस तरह करें भुजंगासन | Benefits of Cobra Pose 

भुजंगासन कोबरा मुद्रा या कोबरा पोज के रूप में भी जाना जाता है। इस आसन को करने से पहले रीढ़ की हड्डी को संवारना जरूरी है ताकि भुजंगासन करते समय रीढ़ की हड्डी पर जोर न पड़े।

रीढ़ की हड्डी को वॉर्म-अप करने के लिए दोनों पैरों को सामने की तरफ फैलाकर बैठें। अब पीठ को झुकाते हुए दोनों हाथों से पैरों की उंगलियों को छूने का प्रयास करें।

कोबरा पोज की शुरुआत करें। अपने हाथों को कंधों के पास रखें, कोहनी मुड़ी होनी चाहिए। पेट का नीचा हिस्सा जमीन पर लगा होना चाहिए और हाथों को शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर की तरफ उठाएं, ऊपर की ओर देखें।

इस पोजिशन को कुछ देर धारण करने के बाद पहले वाली पोजिशन में लौटें। भुजंगासन के दौरान गहरी साँस लें और फिर धीरे-धीरे साँस छोड़ें।

प्रारंभिक चरण में, आपको 30 सेकंड तक ही भुजंगासन करना होगा। धीरे-धीरे आप इस वक्तव्यापीता को एक मिनट तक बढ़ा सकते हैं।

भुजंगासन करने के लाभ  

भुजंगासन करने से शरीर में लचकता आती है, विशेष रूप से कमर की मांसपेशियाँ लचीली होती हैं।
कमर की कठोरता दूर होती है और रीढ़ की हड्डी संबंधित समस्याओं में राहत मिलती है।
इस योगासन (Yogasana) का अभ्यास करने से पेट संबंधी समस्याएं जैसे गैस, अपच और कब्ज में सुधार होता है।
रक्त संचार बेहतर होता है।
कंधों की जकड़न ठीक होती है।
सांस लेने में तकलीफ हो तो भी यह आसन किया जा सकता है।
भुजंगासन करने से शरीर का डिटॉक्सिफिकेशन होता है, जो त्वचा पर भी अच्छा असर डालता है।
शारीरिक ताजगी महसूस होती है।

इन बातों का रखें ध्यान | Benefits of Cobra Pose 

भुजंगासन के दौरान यह ध्यान दें कि आप अपनी रीढ़ की हड्डी पर अत्यधिक दबाव न बनाएं।
गर्भवती महिलाओं को इस आसन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
योगासन बनाने के बाद सांस रोकने की बजाय नियमित रूप से सांस लें।
अपने शरीर को सही मुद्रा में रखें।
सावधानी बरतें ताकि आप अपने शरीर के किसी भी हिस्से पर अत्यधिक दबाव न डालें।

Disclaimer – कृपया ध्यान दें: यह योग आसन व्यक्तिगत स्वास्थ्य से जुड़े संकेतों और रोगों के लिए उपयोगी हो सकता है, लेकिन यह किसी भी नये योगासन की शुरुआत से पहले एक योग गुरु या स्वास्थ्य पेशेवर की सलाह लेनी चाहिए। योग के अभ्यास से पहले, खासकर यदि आपको किसी विशेष स्वास्थ्य समस्या या चिकित्सा स्थिति का संदेश मिला हो, तो अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें। इस योग आसन को सही तरीके से करने के लिए, योग गाइड की दिशा और सलाह का पालन करें और अधिक दर्द या अस्वस्थता महसूस हो तो तुरंत योग गाइड से संपर्क करें।
RELATED ARTICLES

Most Popular