Tuesday, August 9, 2022
spot_img
Hometrendinggold river : एक ऐसी नदी जहा निकलता है सोने के साथ...

gold river : एक ऐसी नदी जहा निकलता है सोने के साथ में सोना आस पास के लोग कर रहे काफी टाइम से कमाई

gold river : आपको बता दें कि इस नदी का नाम स्वर्ण रेखा नदी है। जैसा इस नदी का नाम है वैसा ही सोना है। यह नदी झारखंड में बहती है। यह नदी यहां रहने वाले स्थानीय लोगों के लिए आय का स्रोत है। यहां के लोग रोजाना नदी किनारे जाते हैं और पानी छानकर सोना इकट्ठा करते हैं। झारखंड के तामार और सारंडा जैसी जगहों पर लोग सालों से नदी में सोना निखारने का काम कर रहे हैं.

स्वर्ण रेखा नदी का उद्गम झारखंड की राजधानी रांची से 16 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नदी झारखंड से निकलती है और पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बहती है। इस नदी की खास बात यह है कि झारखंड से निकलने के बाद यह नदी किसी और नदी से नहीं मिलती बल्कि सीधे बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि सदियों बाद भी वैज्ञानिक समझ नहीं पाए कि इस नदी में सोना क्यों बहता है। यानी रिवर गोल्ड आज भी वैज्ञानिकों के लिए एक रहस्य है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि नदी चट्टानों के बीच बहती थी और परिणामस्वरूप उसमें सोने के कण मिल जाते थे। हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है।

इसके अलावा एक अन्य नदी में सोने के कण पाए जाते हैं। यह नदी गोल्डन लाइन की सहायक नदी है। इस नदी का नाम ‘करकरी’ है। करकरी नदी के बारे में लोगों का कहना है कि सोने की रेखा से ही कुछ सोने के कण नदी में प्रवाहित होते हैं। स्वर्ण रेखा नदी की कुल लंबाई 474 किमी है।

इस नदी में सोना खोजने का काम आसान नहीं है। यहां लोगों को सोना इकट्ठा करने के लिए दिन भर मेहनत करनी पड़ती है। यहां एक महीने में 70 से 80 सोने के सिक्के जमा करने में सक्षम है। यानी पूरे दिन काम करने के बाद आमतौर पर केवल एक या दो सोने के कण ही ​​पैदा हो पाते हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार सोने का एक कण बेचकर 80 से 100 रुपये की कमाई की जाती है। इस हिसाब से लोग महीने में सिर्फ 5 से 8 हजार रुपए ही कमा पाते हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments