Ajwain Ki Kheti – इस फसल की खेती से किसान होंगे मालामाल, होगी दोगुनी कमाई  

Ajwain Ki Khetiआज देश में खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है जिससे की हर चीज़ भारत में ही उपजे और इस्तमाल हो। ये आत्मनिर्भर भारत की ओर तो एक अच्छा कदम है ही साथ ही साथ देश में रहकर ही देश के लिए कुछ काम करने का भी अच्छा अवसर है।

एक ओर जहाँ युवा अच्छी नौकरी की तलाश कर रहे है लेकिन उन्हें खेती में भी अपना हाथ अजमाना चाहिए क्यूंकि कुछ ऐसी फसल हैं जो दोगुनी आमदनी दिलाती है जिनमे से एक के बारे में हम आपको बताने वाले है। ये खेती है अजवाइन की जिससे किसान मालामाल हो रहे हैं और उनकी आमदनी दोगुनी हो रही है। 

देश विदेश में होती है अजवाइन की खेती | Ajwain Ki Kheti

ऐसे तो अजवाइन की खेती पहले अमरीका, मिश्र , ईरान और अफ़गानिस्तान जैसे देशों में होती थी लेकिन अब इसकी खेती भारत में भी होने लगी है। अजवाइन जिस तरह स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है उसी तरह इसकी खेती किसानों के लिए काफी मुनाफा देने वाली है. ऐसे में इसकी खेती करके काफी मुनाफा कमाया जा सकता हैं. अजवाइन दवा के रूप में भी इस्तेमाल की जाती हैं. जो किसान अजवाइन की खेती कर रहे हैं वह मालामाल हो रहे हैं। 

खेती करने का सही समय 

अजवाइन की खेती को करने का समय रबी की फसल का होता हैं अजवाइन की खेती में अधिक बारिश की आवश्यकता नहीं होती हैं और सर्दियों का मौसम इसके पौधों को विकास करने के लिए काफी अच्छा माना जाता हैं. अजवाइन का बाजारी भाव काफी अच्छा होता हैं इसलिए किसान अजवाइन की खेती कर अच्छी कमाई कर सकते हैं.

इस मौसम में करें अजवाइन की खेती | Ajwain Ki Kheti 

अजवाइन शीत ऋतु में उगने वाला पौधा हैं. अधिक गर्मी इस पौधे के लिए अच्छी नहीं होती हैं. इसमें सिंचाई की कम आवश्कता पड़ती हैं. इसलिए इसकी खेती रबी सीजन में की जाती हैं. भारत में इसकी बुवाई अगस्त से सिंतबर के दौरान में की जाती हैं. 

होगी अच्छी कमाई 

अजवाइन की खेती में  प्रति हेक्टेयर औसतन 10 क्विंटल तक का उत्पादन प्राप्त होता हैं. अजवाइन का बाजारी भाव 12 हजार से 20 हजार रुपये प्रति क्विंटल तक होता हैं. इस तरह से किसान एक हेक्टेयर के खेत में अजवाइन की फसल कर सवा दो लाख तक की कमाई कर सकते हैं.

Source – Internet 

(Note – ऊपर दी गई जानकारी सामान्य अध्ययन पर आधारित है और केवल बिज़नेस आईडिया है, किसी भी तरह के निष्कर्ष पर पहुँचने से पहले किसी सलाहकार की सलाह जरूर लेलें)  

Leave a Comment