Ratan Tata Ki Salah: रतन टाटा ने दी वाली सलाह कर गयी जादू की तरह काम टाटा के मंत्र कर गए कमाल

Ratan Tata Ki Salah: रतन टाटा ने दी वाली सलाह कर गयी जादू की तरह काम टाटा के मंत्र कर गए कमाल गौरव कुशवाहा ब्लूस्टोन जूलरी के संस्थापक और सीईओ हैं। इसकी बैकिंग में बिजनेस मैग्नेट रतन टाटा और जेरोधा के सह-संस्थापक निखिल कामथ हैं। रिपोर्टों के अनुसार, इस कंपनी की वैल्‍यू 3,650 करोड़ रुपये की है। यह आईपीओ के जरिये करीब 2,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रही है।

रतन टाटा ने दी वाली सलाह कर गयी जादू की तरह काम टाटा के मंत्र कर गए कमाल

गौरव कुशवाहा ने कारोबार जगत में अपनी अलग पहचान बनाई है। वह सिर्फ ब्लूस्टोन जूलरी के संस्थापक और सीईओ नहीं हैं। अलबत्‍ता, वह विजनरी भी हैं जिन्होंने ऑनलाइन जूलरी करोबार में भरपूर संभावनाएं देखीं। वह जोखिम लेने से बिल्‍कुल नहीं कतराते। उनके पास ऐसे व्यवसाय बनाने की क्षमता है जो न सिर्फ प्रॉफिटेबल हों, बल्कि आमूलचूल बदलाव करने वाले भी। उनकी कंपनी को रतन टाटा और जेरोधा जैसे कारोबारी दिग्‍गजों का साथ मिला हुआ 

करीब गौरव ने चार साल तक Amazon में काम किया

गौरव की यात्रा असाधारण रही है। उन्होंने 27 साल की छोटी उम्र में उद्यमिता में कदम रख दिया था। साल 2006 में उन्‍होंने अपनी पहली वेबसाइट लॉन्च की थी। ब्लूस्टोन की शुरुआत करने से पहले गौरव ने अमेजन के साथ चार साल से ज्‍यादा समय तक काम किया। गौरव ने ब्लूस्टोन जूलरी की नींव 2011 में रखी थी। बेंगलुरु की कंपनी न केवल उद्योगपति रतन टाटा से निजी निवेश हासिल करने में कामयाब रही। अलबत्‍ता, वह आभूषण बाजार में एक प्रमुख प्‍लेयर भी बन गई है।

यह भी पढ़े : लाड़ली बहनो के लिए होली पे मिली खुशखबरी मिलने वाला है बहनो को एक बड़ा तोफा

बाद में की रतन टाटा से मुलाकात

गौरव की रतन टाटा से मुलाकात का किस्‍सा दिलचस्प है। जब गौरव पहली बार मुंबई में रतन टाटा से मिले तो टाटा ने बातचीत की शुरुआत की। गौरव न सिर्फ निवेश चाह रहे थे बल्कि दिग्गज बिजनेसमैन से कुछ सीखना भी चाहते थे। गौरव को रतन टाटा की सलाह सरल लेकिन गहरी थी। उन्होंने ग्राहकों के लिए वैल्‍यू क्रिएट करने के साथ बेहतरीन प्रोडक्‍ट, सर्विस और कल्‍चर के निर्माण के महत्व पर जोर दिया था। यह सलाह ब्लूस्टोन जूलरी में गौरव और उनकी टीम के लिए मार्गदर्शक सिद्धांत रही है।

गौरव की कंपनी ने की शानदार ग्रोथ

कंपनी ने अपनी स्थापना के बाद से शानदार ग्रोथ की है। इसे पिछले साल जेरोधा के संस्थापक निखिल कामथ से 100 करोड़ रुपये का निवेश मिला था। ब्लूस्टोन के मुंबई और जयपुर में भी मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेंटर हैं। नए और पुराने निवेशकों से कई दौर की फंडिंग के साथ ब्लूस्टोन का वैल्‍यूएशन पिछले साल लगभग 3,650 करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

यह भी पढ़े : Small Business यह बिज़नेस कम खर्चे में आपको देगा मोटी कमाई

अब IPO लाने की तैयारी

ब्लूस्टोन जूलरी आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के जरिये करीब 2,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रही है। यह कदम उसे संभावित रूप से टाइटन के तनिष्क, कल्याण ज्वैलर्स और सेनको गोल्ड जैसी लिस्‍टेड दिग्गज कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा के मैदान में खड़ा कर देगा। अन्य शहरों के अलावा ब्लूस्टोन के मुंबई और जयपुर में मैन्‍यूफैक्‍टरिंग हब हैं।

2 thoughts on “Ratan Tata Ki Salah: रतन टाटा ने दी वाली सलाह कर गयी जादू की तरह काम टाटा के मंत्र कर गए कमाल”

Comments are closed.