Onion Farming Tips – किसान भाई प्याज की खेती के लिए अपनाएं ये टिप्स 

जल्द बढ़ने लगेगी फसल की ग्रोथ 

Onion Farming Tipsप्याज की खेती करने वाले किसान पैदावार में वृद्धि करने के लिए कई प्रयास करते हैं, लेकिन कई बार उन्हें उचित पैदावार नहीं मिल पाता है। इसमें कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से एक है प्याज के कंदों के आकार में कमी। कंद का आकार जितना बड़ा होगा, उतना ही किसान को फायदा होगा। प्याज के कंदों, यानी गांठों, के आकार में वृद्धि के लिए पौधों का हरा-भरा एवं स्वस्थ होना आवश्यक है। साथ ही, पौधों में पोषक तत्वों की कमी से भी कंदों के आकार पर विपरीत असर होता है। अगर आप प्याज की खेती कर रहे हैं, तो कंद के आकार में वृद्धि के लिए उर्वरकों के संतुलित उपयोग और रोगों का निदान करना जरूरी है।

अगर किसान ने अपने खेत की मिट्टी की जाँच करवाई है और उसके पास रिपोर्ट है, तो उसी खाद को डालें जिसमें कमी है। नाइट्रोजन और फास्फोरस के अलावा सूक्ष्म पोषक तत्वों को भी नजरअंदाज न करें। ऐसा करने से फसल को पूरे पोषक तत्व मिलेंगे और ग्रोथ अच्छी होगी। किसान ध्यान दें कि प्याज की खेती 70 से 80 दिनों में हो जाए तो कोई फर्टिलाइजर न डालें। अगर आप इतने वक्त बाद खाद डालते हैं, तो उसको प्रोसेसिंग करके पौधे तक पहुंचने में ज्यादा लेट हो जाता है। इसलिए आपको मेडिसिन को पानी में घोलकर उसे सिंचाई करना जरूरी होता है। तभी आपका पौधा मेडिसिन पा सकता है और ग्रोथ भी कर सकता है।

फ़र्टिलाइज़र स्प्रे | Onion Farming Tips 

दोस्तों, प्याज की खेती के 90 दिनों में, अगर आपकी प्याज की फसल अच्छी दिख रही है, और पौधे के पत्ते हरे-भरे हैं, और कोई पौधा मरा हुआ नहीं है, तो आपको अलग से और कोई फर्टिलाइजर देने की आवश्यकता नहीं है। सिर्फ एक ही फर्टिलाइजर दीजिए और आपके प्याज की गांठ का विकास हो जाएगा। अगर ऐसा नहीं हो रहा है, तो कृषि वैज्ञानिकों से सलाह लेकर कोई स्प्रे कराएं।

पानी देने का सही समय 

प्याज की खेती में आपको नियमित रूप से पानी देना होगा। यह आपके पौधों की ग्रोथ को प्रोत्साहित करेगा। पर्याप्त पानी मिलेगा तो ग्रोथ अच्छी होगी। हालांकि, कांदा मतलब प्याज की खेती कम पानी में होती है, लेकिन फिर भी पानी की आवश्यकता होती है। संतुलित पानी और संतुलित उर्वरक मिलेगा तो यह उत्तम रहेगा। कम पानी मिलेगा तो खेत की मिट्टी हार्ड हो जाएगी और आपके प्याज की ग्रोथ प्रभावित हो सकती है।

अच्छी फसल के लिए बेहतर खाद | Onion Farming Tips 

प्याज के लिए नाइट्रोजन की खास आवश्यकता होती है। नाइट्रोजन आधारित उर्वरक (जैसे कि अमोनियम सल्फेट या अमोनियम नाइट्रेट) को प्रति बीस फीट पंक्ति में एक कप की दर से लगाया जाना चाहिए। पहला उर्वरक अप्लिकेशन रोपण के लगभग तीन सप्ताह बाद होना चाहिए, और फिर हर 2 से 3 सप्ताह में इसे पौधों को देना चाहिए।

पैदावार की वृद्धि के लिए क्या करें 

पैदावार की वृद्धि के लिए, बुआई के करीब 30 दिनों बाद खड़ी फसल में यूरिया का छिड़काव करें। अच्छी फसल के लिए, प्रति एकड़ खेत में 3-4 टन कंपोस्ट खाद मिलाएं, और खरपतवार का नियंत्रण भी करें। कंद की वृद्धि के लिए खरपतवार पर नियंत्रण करना आवश्यक है, क्योंकि खरपतवार की अधिकता होने पर पौधों को उचित मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलते हैं। यदि आपने अपनी मिट्टी का जांच करवाई है, तो उसी के हिसाब से आपको खाद डालने की आवश्यकता होगी। लेकिन अगर आपको प्याज की सही रिजल्ट पाना है, तो आप कैल्शियम नाइट्रेट भी डाल सकते हैं। उसी के साथ, 1 लीटर पानी में 1 ग्राम बोरोन के साथ 90 से 100 दिनों के अंदर स्प्रे करना होगा।

Source Internet