Naag Naagin | आखिर चन्दन के पेड़ पर नाग नागिन के लिपटने के पीछे क्या है सच्चाई 

प्रचलित हैं कई किंवदंतियां 

Naag Naagin – चंदन के पेड़ और नाग-नागिन का रिश्ता सदियों से भारतीय लोककथाओं और कल्पनाओं का हिस्सा रहा है। अक्सर कहा जाता है कि नाग-नागिन चंदन के पेड़ों पर लिपटे रहते हैं। लेकिन क्या यह सच है? आइए इस रहस्य का सच जानते हैं।

चंदन के पेड़ पर नाग-नागिन लिपटने के पीछे कई किंवदंतियां प्रचलित हैं:

शीतलता: चंदन के पेड़ की छाल ठंडी होती है। कहा जाता है कि नाग-नागिन गर्मी से बचने के लिए चंदन के पेड़ों पर लिपटते हैं।
सुगंध: चंदन की लकड़ी अपनी सुगंध के लिए प्रसिद्ध है। माना जाता है कि नाग-नागिन चंदन की सुगंध से आकर्षित होते हैं।
सुरक्षा: चंदन के पेड़ों को पवित्र माना जाता है। कहा जाता है कि नाग-नागिन चंदन के पेड़ों पर लिपटकर खुद को सुरक्षित रखते हैं।

लेकिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इन किंवदंतियों का कोई आधार नहीं है | Naag Naagin

शीतलता: चंदन की छाल थोड़ी ठंडी होती है, लेकिन यह नाग-नागिन के लिए इतनी ठंडी नहीं होती कि वे गर्मी से बचने के लिए चंदन के पेड़ों पर लिपटें।
सुगंध: चंदन की सुगंध मनमोहक होती है, लेकिन यह नाग-नागिन को आकर्षित करने के लिए पर्याप्त नहीं है।
सुरक्षा: चंदन के पेड़ों को पवित्र माना जाता है, लेकिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इन पेड़ों में कोई ऐसी शक्ति नहीं है जो नाग-नागिन को सुरक्षा प्रदान कर सके।

तो क्या नाग-नागिन कभी चंदन के पेड़ों पर लिपटते हैं?

वास्तविकता यह है कि नाग-नागिन चंदन के पेड़ों पर लिपटने की बजाय जमीन पर रहना पसंद करते हैं। चंदन के पेड़ों पर नाग-नागिन मिलने की घटनाएं बहुत कम होती हैं।

निष्कर्ष | Naag Naagin

चंदन के पेड़ और नाग-नागिन का रिश्ता लोककथाओं और कल्पनाओं का हिस्सा है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इन किंवदंतियों का कोई आधार नहीं है।

अन्य रोचक तथ्य:

चंदन के पेड़ भारत, नेपाल, श्रीलंका और इंडोनेशिया में पाए जाते हैं।
चंदन की लकड़ी का उपयोग धार्मिक अनुष्ठानों, इत्र बनाने और साज-सज्जा में किया जाता है।
नाग-नागिन को भारत में पवित्र माना जाता है।
नाग-नागिन को लेकर कई लोककथाएं और कहानियां प्रचलित हैं।

Source Internet 

1 thought on “Naag Naagin | आखिर चन्दन के पेड़ पर नाग नागिन के लिपटने के पीछे क्या है सच्चाई ”

Comments are closed.