spot_img
HomeबैतूलMuseum : SP सिमाला प्रसाद ने अमर कर दिया स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों...

Museum : SP सिमाला प्रसाद ने अमर कर दिया स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का इतिहास 

मध्यप्रदेश के पहले पुलिस म्यूजियम का हुआ शुभारं

(कुलदीप भाटिया, बैतूल)

बैतूल – ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम का बिगुल फूंकते हुए पुलिस थाना रानीपुर को आग के हवाले कर देने वाले शहीद स्वतंत्रता संग्राम सेनानी विष्णु सिंह गोंड की भवन को बनाए गए म्यूजियम में फोटो सहित स्मृतियां भी रखी हुई है।

आज मध्यप्रदेश के इस पहले पुलिस म्यूजियम का सांसद डीडी उइके, कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस, पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद और शहीदों के परिजनों की की मौजूदगी में फीता काटकर शुभारंभ किया गया।

बैतूल में है प्रदेश का पुलिस म्यूजियम

रानीपुर पुलिस म्यूजियम का शुभारंभ करने के पश्चात् अपने संबोधन में बतौर मुख्य अतिथि सांसद दुर्गादास उइके ने कहा कि यह गौरव की बात है कि बैतूल में प्रदेश का पहला संग्रहालय बना है जिसमें शहीदों की स्मृतियां सहेजी जाएंगी और उन्हें संरक्षित किया जाएगा। रानीपुर क्षेत्र स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की कर्मभूमि रही है। इसलिए इसका महत्व ज्यादा है। पुलिस विभाग ने खासतौर पर एसपी सिमाला प्रसाद ने इस म्यूजियम को बनाने और उसमें संग्रहण की गई सामग्रियां अनुकरणीय है। यह हमारे आने वाली पीढ़ी को हमारे इतिहास की जानकारी देंगी।

लोगों ने स्वतंत्रता संग्राम में लिया था हिस्सा

बैतूल एसपी सिमाला प्रसाद ने बताया कि रानीपुर थाना का पुराना इतिहास है। जब थाने की नई बिल्डिंग बन गई तो इस नए भवन को लेकर सुझाव दिए गए थे कि इसके इतिहास को सजोकर रखना चाहिए। यहां के लोगों ने स्वतंत्रता संग्राम में बढ़चढक़र हिस्सा लिया था। इसी को लेकर म्यूजियम बनाया गया और इस म्यूजियम में स्वतंत्रता संग्राम के समय जो हथियार उपयोग किए गए थे वह भी रखे गए हैं। इसके अलावा वर्दी भी रखी गई हैं। पहले कैसी वर्दी पहनी जाती थी? इसकी जानकारी भी लोगों को मिले। पुलिस का 100 साल का रिकार्ड भी जो उपलब्ध हुआ उसे संरक्षित करके रखा गया है। इसमें एक लायब्रेरी भी बनाई गई है जिसमें पुलिस से संबंधित दस्तावेज हैं और कुछ दस्तावेज अंग्रेजों के समय के भी हैं। यह थाना इसलिए महत्वपूर्ण स्वतंत्रता संग्राम के दौरान यहां महत्वपूर्ण घटनाएं घटित हुई थी।

जीवित हो गया इतिहास

म्यूजियम में इतिहास से जुड़ी जानकारी जुटाने में मदद करने वाले इतिहासकार और सतपुड़ा के गुमनाम शहीद पुस्तक लिखने वाले कमलेश सिंह ने बताया कि संग्रहालय के उद्घाटन के बाद 100 वर्ष पुराना इतिहास जीवित हो गया। एसपी सिमाला प्रसाद का प्रयास सराहनीय है। जिन्होंने इतिहास को पुर्नजीवित करने का प्रयास किया है। रानीपुर थाना स्वतंत्रता संग्राम के दौरान घटी विभिन्न घटनाओं से जुड़ा है इसलिए इसका विशेष महत्व है और अब आने वाली पीढिय़ों को जिले के इतिहास की बहुत सारी जानकारी मिल सकेंगी।

रानीपुर थाने पर किया था हमला

ग्राम महेंद्रवाड़ी के निवासी और सुभाषचंद्र बोस द्वारा गठित फारवर्ड ब्लाक के सदस्य रहे स्वतंत्रता संग्राम के विभिन्न आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सरदार विष्णु सिंह गोंड ने भारत छोड़ो आंदोलन में 22 अगस्त 1942 को गांधीवादियों के साथ मिलकर थाना रानीपुर भवन पर कुल्हाड़ी से प्रहार किया था। इसके साथ ही थाने में आग लगा दी थी। प्रहार के निशान आज भी मौजूद हैं। इस आंदोलन के पश्चात सरदार विष्णु सिंह को आजीवन कारावास की सजा हुई थी। म्यूजियम में उनका चित्र लगाकर उनका परिचय भी दिया गया है। साथ ही कुल्हाड़ी भी रखी गई है।

म्यूजियम में रखी है स्मृतियां

पुलिस म्यूजियम में डीजी से लेकर आरक्षक तक वर्दी पहने स्टेच्यू रखे गए हैं। इसके अलावा पुलिस विभाग में बजाए जाने वाले वाद्य यंत्र, उपयोग किए जाने वाले हथियार, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के चित्र और उनका परिचय सहित हथियार, बर्तन, टेलीफोन, टाईपराईटर, लालटेन, महात्मा गांधी के बैतूल आगमन से संबंधित चित्र, अंग्रेजों के समय की एफआईआर, पुलिस के महत्वपूर्ण दस्तावेज सहित स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े तथ्य और पुलिस विभाग से जुड़े तथ्य रखे गए हैं। साथ ही पुलिस विभाग में शहीद हुए पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों का परिचय सहित चित्र भी म्यूजियम में रखे गये है।

लाल थाने के नाम से प्रसिद्ध था रानीपुर थाना

1895 में शाहपुर थाने की एक चौकी थी। थाने में प्रथम अपराध 1900 में धारा 380 का दर्ज हुआ था। 1900 में रानीपुर थाना पूर्णरूपेण अस्तित्व में आ चुका था। थाने का निर्माण ब्रिटिश शासनकाल के दौरान 1913 में हुआ था। थाने में उपलब्ध ग्राम अपराध पुस्तिका में उल्लेखित सर्वाधिक प्राचीन टीप 1913 की है तथा मुलाहिजा रजिस्ट्रर 1911 से है। रानीपुर थाने का लाल रंग होने के कारण यह लाल थाने के नाम से प्रचलित था। यह थाना जंगल सत्याग्रह का भी साक्षी रहा है। सरदार विष्णु सिंह के नेतृत्व में 300 क्रांतिकारियों ने थाना रानीपुर पर हमला किया था। 2016 तक इसी भवन में थाना संचालित रहा।

शहीदों के परिजनों का हुआ सम्मान

म्यूजियम के शुभारंभ अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिजनों को भी आमंत्रित किया गया था जिनका सांसद श्री उइके, कलेक्टर श्री बैंस, एसपी सिमाला प्रसाद सहित अन्य अतिथियों ने शाल-श्रीफल से सम्मान किया। सम्मान पाकर परिजन भावुक हो गए। उन्होंने सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि इस म्यूजियम से स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का इतिहास अमर हो जाएगा।

यह थे उपस्थित

कार्यक्रम में पूर्व संसदीय सचिव रामजीलाल उइके, एडीशनल एसपी नीरज सोनी, शाहपुर एसडीओपी महेंद्र सिंह मीणा, सारनी एसडीओपी रोशन जैन, बैतूल एसडीओपी सृष्टि भार्गव, भंैसदेही एसडीओपी शिवचरण बोहित, डीएसपी अजय गुप्ता, सारनी टीआई रत्नाकर हिंगवे, रानीपुर टीआई नन्हें वीर सिंह, आरआई मनोरमा बघेल, सूबेदार संदीप सुनेश सहित पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों के अलावा घोड़ाडोंगरी मंडल अध्यक्ष राजेश मेहतो, भाजपा नेता विशाल बत्रा सहित अन्य मौजूद थे।

RELATED ARTICLES

Most Popular