HometrendingMasoor Ki Kheti - मसूर की खेती के लिए कैसी होनी चाहिए...

Masoor Ki Kheti – मसूर की खेती के लिए कैसी होनी चाहिए जमीन, जानिए कुछ जरूरी बातें,

Masoor Ki Kheti – मसूर की खेती के लिए कैसी होनी चाहिए जमीन, जानिए कुछ जरूरी बातें,

Masoor Ki Kheti – मसूर की खेती के लिए कैसी होनी चाहिए जमीन, जानिए कुछ जरूरी बातें, किसान भाइयो अगर आप खेती से अच्छा मुनाफा कमाना चाहते है तो आज हम आपको मसूर की खेती के बारे में जानकारी देने वाले है जिसकी खेती कर आप अच्छा मुनाफा कमा सकते है आईये जाने पूरी जानकारी।

ये भी पढ़े – Kaali Mirch Ki Kheti – काली मिर्च की खेती से किसान होंगे मालामाल, जानिए कैसे करे खेती,

किसान भाइयो हम आपकी जानकारी के लिए आपको बता दे की मसूर की खेती के लिए दोमट से भारी भूमि मसूर के लिए उपयुक्त होती है, खरीफ फसल की कटाई के बाद 2-3 हल्की जुताई कर नमी संचय के लिए पाटा लगाया जाता है, वही मसूर के लिए अधिक भुर-भुरी व बारीक मिट्टी की आवश्यकता होती है वही इस बात का ख़ास ध्यान रखना होगा की खेत में बिना सड़ा कम्पोस्ट खाद, कचरा नहीं रहना चाहिए।

मसूर की खेती उन्नत किस्मे

किसान भाइयो हम आपको बता दे मसूर की खेती करने के लिए कई उन्नत किस्मे है जैसे की जवाहर मसूर 1, पंत मसूर 639, मलिका (के 75), शिवलिंग (एल 4076), जवाहर मसूर 3, नूरी (आईसीपीएल 83) है।

मसूर की खेती की बुवाई का समय

किसान भाइयो हम आपको बता दे की मसूर की खेती की बुवाई का सही समय 15 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक है इसकी खेती कतराओ में ही करनी चाहिए जैसे कतारों से कतारों की दूरी 25-30 से.मी. (10-12 इंच) रखें और बीज 5-7 से.मी. की गहराई पर बोने चाहिए।

ये भी पढ़े – King Cobra Ka Video – पंखे पर आराम से बैठा था किंग कोबरा, देख घर वालो की हो गई बत्ती गुल,

मसूर की खेती में सिंचाई कब करे

किसान भाइयो हम आपको बता दे की मसूर को अधिक पानी की जरूरत नहीं होती है ऐसे में पहली सिचाई फूल आने के पूर्व बोनी के 40-50 दिन बाद देने से फसन उत्पादन अच्छा होता है।

मसूर की खेती में निंदाई-गुड़ाई

किसान भाइयो हम आपको बता दे की मसूर की खेती में निंदाई-गुड़ाई का सही समय तो बोने के 40-45 दिनों तक इसकी निंदाई-गुड़ाई होते रहना चाहिए।

RELATED ARTICLES

Most Popular