Mahashivratri 2024 | महाशिवरात्रि पर निकाली महाकाल की बारात

थाना और लल्ली चौक से नगर भ्रमण पर निकले महाकाल

Mahashivratri 2024बैतूल – महाशिवरात्रि पर शिव मंदिरों में जहां श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा वहीं शहर में भी पर्व को धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर थाना चौक स्थित शिव मंदिर से और लल्ली चौक स्थित प्राचीन शिव मंदिर से अलग-अलग शिव बारात निकाली गई। दोनों ही शिव बारात में गजराज पर सवार होकर महाकाल बाबा ने नगरवासियों को दर्शन दिए और नगर भ्रमण किया। इस दौरान शिव भक्त नाचते-गाते हुए बारात के साथ चलते हुए दिखाई दिए। कुल मिलाकर पूरा माहौल धर्ममय हो गया था।

थाना चौक से निकली शिव बारात | Mahashivratri 2024

श्री शंभू भोले उत्सव सेवा समिति थाना महाकाल चौक कोठीबाजार से पूजा अर्चना के साथ ही शिव बारात का कल शाम को शुभारंभ हुआ। दुल्हा बने महाकाल गजराज पर सवार होकर नगर भ्रमण पर निकले। शिव बारात टिकारी मार्ग से अखाड़ा चौक होते हुए लल्ली चौक और वापस थाना चौक शिव मंदिर पर समापन हुआ। शिव बारात में आकर्षक लाईटिंग और डीजे शामिल किए गए थे। भक्ति गीतों पर जहां श्रद्धालु झूम रहे थे वहीं महिला श्रद्धालु भी बड़ी संख्या में शामिल हुई थी। शिव बारात में शिव के गण, भूत, पिसाच, गंधर्व, किन्नर, नंदी, भृंगी के आकर्षक वेश में चल रहे थे जो कि सभी के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए थे। शिव बारात में बैंड पार्टियों ने भी शानदार प्रदर्शन किया। इसके साथ ही झांझ, डमरू की भी प्रस्तुति दी गई। गौरतलब है कि शिव बारात को लेकर पिछले लंबे समय से तैयारियां चल रही थी।

शिव मंदिर से निकली बारात का गंज में हुआ समापन | Mahashivratri 2024

शिव बारात उत्सव सेवा समिति के द्वारा प्राचीन शिव मंदिर लल्ली चौक से शिव बारात निकाली गई। इसमें उज्जैन में निकलने वाले हाथी महाराज श्यामू पहली बार बैतूल आए और उनके ऊपर महाकाल महाराज विराजमान नगर भ्रमण पर निकले। इसके अलावा उज्जैन से आए शयन आरती भक्त मंडल के प्रमुख बीरजी महाराज शिवजी के रूप में सभी को दर्शन दे रहे थे। इस शिव बारात में उज्जैन से कड़ाबीन आतिशबाजी, मनमोहक झांकियां, पालकी में विराजमान भोलेनाथ श्रद्धालुओं का मन मोह रहे थे। शिव बारात में विजय धमाल गु्रप ने विशेष प्रस्तुति दी। चार्ली डांस गु्रप के सदस्य भूत, पिसाच के वेष में शामिल हुए। रामनगर के छोटे बच्चों ने डमरू-झांझ की प्रस्तुति दी। सुधीर मालवीय ने रांगोली में सहयोग किया और भगवान का श्रृंगार अनीष के द्वारा किया गया। इस शिव बारात का समापन शनि मंदिर गंज में किया गया।