नीलगाय और आवारा पशुओं को खेतों में उत्पात को रोकेगी ये Jhatka Machine 

यहाँ जानें कीमत और इंस्टॉलेशन का तरीका 

Jhatka Machineलेकिन अब आपको रात-दिन की मेहनत करके फसलों की निगरानी करने की आवश्यकता नहीं है. एक नई मशीन, जिसे झटका मशीन कहा जाता है, आपके खेतों में लगी फसलों की निगरानी के लिए उपलब्ध है. हम आपको बताएंगे कि यह झटका मशीन कहां उपलब्ध है और इसकी मूल्य क्या है.

इस मशीन का उद्देश्य खेतों में घुसते आवारा पशुओं और नीलगायों को भगाना है। झटका मशीन में 12 वोल्ट की बैटरी और सोलर पॉवर दोनों का इस्तेमाल होता है। इसे दिन में सोलर ऊर्जा और रात्रि में बैटरी से चलाया जा सकता है। इसके प्रयोग से आप अपनी फसलों को नुकसान से बचा सकते हैं।

ये है इंस्टॉलेशन की प्रक्रिया | Jhatka Machine 

झटका मशीन का इस्तेमाल करने के लिए खेत के चारों ओर इसकी तारों की वायरिंग करनी होती है। खेत को पूरी तरह से घेर लेने के बाद, झटका मशीन से इन तारों में करंट चलाया जाता है, ताकि यदि कोई जानवर उन्हें छूता है, तो उसे बहुत तेज करंट मिलता है। इसलिए कुछ लोग इसे “करंट वाली मशीन” भी कहते हैं। हालांकि, इसे पशु क्रूरता नियमों के तहत प्रतिबंधित होना चाहिए। सरकार द्वारा इस मशीन को पूरी जाँच परताल के बाद मान्यता प्राप्त होने के बाद ही खेतों में लगाया जाता है।

नहीं होता जान का खतरा 

झटका मशीन में एक चेतावनी सूचक ध्वनि यंत्र होता है, जिसे सायरन या भोंपू के नाम से भी जाना जाता है। यह यंत्र नीलगाय या अन्य जंगली जानवरों के खेत में प्रवेश की कोशिश या तार को छूने की आवाज को बहुत तेज़ी से बजाता है। यह ध्वनि सूचित करती है कि खेत में कोई जानवर आया हो सकता है। इस मशीन की विशेषता यह है कि जब यह पशुओं को झटका देती है, तो कुछ ही समय में यंत्र काम बंद कर देता है, जिससे कोई जानवर या प्राणी चोट नहीं खाता या यंत्र से कोई भी प्राणी जान नहीं गंवाता है।

अलग अलग होती है कीमत | Jhatka Machine 

झटका मशीन की कीमत 3000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक होती है, इसमें बैटरी अलग से खरीदनी पड़ती है। एक झटका मशीन 10 एकड़ तक के खेत को कवर कर सकती है। ऑनलाइन पर इसकी कीमत विभिन्न प्लेटफॉर्मों पर भिन्न-भिन्न होती है।

Source – Internet