Jal Jeevan Mission- ग्रामीण बोले रोज नहीं मिल रहा पानी – एसडीओ बोले काम हो गया पूरा

जलजीवन मिशन का लाभ नहीं मिल रहा ग्रामीणों को

Jal Jeevan Mission – बैतूल – ग्रामीण क्षेत्रों के हर घर में नल से जल पहुंचाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना जल जीवन मिशन का जमीनी स्तर पर कैसा क्रियान्वयन हो रहा है इसका उदाहरण प्रभात पट्टन विकासखंड के तिवरखेड़ गांव में देखने को मिल रहा है जहां ग्रामीणों को रोज पानी की सप्लाई नहीं मिल रही है।

सबसे खास बात यह है कि ग्रामीण इस योजना को अधूरी बता रही हैं तो वहीं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग के प्रभारी सहायक यंत्री बता रहे हैं कि योजना में पूरा कार्य हो गया है और डेढ़ साल पहले इसे हैंडओव्हर कर दिया गया है।

आधे गांव में ही बिछी पाइपलाइन | Jal Jeevan Mission

प्रभात पट्टन विकासखंड के तिवरखेड़ में जल जीवन मिशन के कार्य में गड़बडिय़ां सामने आई हैं। ग्रामीणों का कहना है कि जल जीवन मिशन योजना के तहत उन्हें 24 घंटे पानी की सप्लाई मिलनी चाहिए थी। लेकिन अभी भी प्रतिदिन पानी नहीं मिल रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि जल जीवन मिशन के तहत पूरे गांव में पाइप लाइन बिछाई जानी थी। जो कि अभी अधूरी है। आधे गांव में ही पाइप लाइन बिछ पाई है और इस पाइप लाइन से लगभग 300 घरों में कनेक्शन हुए हैं जबकि गांव में 600 मकान हैं।

Also Read – Electricity Bill Free – इस डिवाइस के इस्तेमाल से फ्री हो जाएगी बिजली, इस तरह लगाए  

आरोप यह भी है कि जहां कनेक्शन हुए हैं वहां पर नलों में टोंटी नहीं लगाई गई ना ही स्टैंड बनाए गए। तिवरखेड़ में ग्राम पंचायत के पुराने दो बोर जो तीन किमी. दूर है उनसे पानी की सप्लाई होती है। पानी ज्यादा नहीं होने के कारण ग्रामीणों को प्रतिदिन पानी नहीं मिल पा रहा है। पंचायत के द्वारा लगभग 20 साल पहले बनाई गई पानी की टंकी की मरम्मत कराकर उसमें ही पानी का संग्रहण किया जा रहा है।

डेढ़ साल पहले ही काम पूरा हो गया | Jal Jeevan Mission

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग के प्रभारी सहायक यंत्री जेएम लालवानी का कहना है कि तिवरखेड़ में 100 फीसद काम पूरा हो गया है। जो बिजली कनेक्शन की बात चल रही है वो योजना में था ही नहीं। उसका कोई प्रावधान नहीं है। उसके लिए कोई पैसा भी नहीं है।

Also Read – Optical Illusion Challenge – तस्वीर में छिपी बत्तख को 25 सेकंड में ढूंढकर दिखाने का चैलेंज  

ठेकेदार गुलाबराव धोटे हैं उनके वर्क आर्डर में स्थायी कनेक्शन का प्रावधान है ही नहीं। योजना कंपलीट हो गए हैं और इसे हैंडओव्हर भी कर दिया गया है। तिवरखेड़ में बिजली कनेक्शन हमारी स्वीकृति का अंग नहीं है।

अधूरी है योजना | Jal Jeevan Mission

ग्राम पंचायत तिवरखेड़ के प्रभारी सचिव पन्नालाल बिसने का कहना है कि जलजीवन मिशन के कई कार्य अभी पूरे नहीं हुए हैं। मोटर जलने के कारण पानी की भी दिक्कत हो रही है। इसके संबंध में उच्चाधिकारियों को भी अवगत कराया गया है।

योजना को लेकर स्पष्ट नहीं हो पा रही स्थिति | Jal Jeevan Mission

एक तरफ चौबीस घंटे नलों में पानी की सप्लाई के लिए बिजली कनेक्शन की बात सामने आई थी और इसमें बिजली ठेकेदार पर आरोप लगा था कि वो काम नहीं कर रहे हैं। अब बड़ा सवाल यह है कि सहायक यंत्री ने बिजली कनेक्शन को लेकर खुलासा कर दिया कि इस योजना में बिजली कनेक्शन का प्रावधान ही नहीं है। अगर प्रावधान नहीं है तो बिजली कनेक्शन किया क्यों जा रहा है? यह जांच का विषय है।

Also Read – Gold Jewellery Bill In 1959 – कभी इतना सस्ता हुआ करता था सोना, 64 साल पुराना बिल हुआ वायरल   

दूसरा ठेकेदार ने पाइप लाइन बिछाई का काम पूर्ण करने की बात कही थी। लेकिन ग्रामीणों का आरोप है कि यह काम भी पूर्ण नहीं हुआ है। सबसे बड़ी बात यह है कि विभाग के अधिकारी इस योजना को कंपलीट होना बता रहे हैं और वह भी डेढ़ साल पहले हैंडओव्हर करने की बात कर रहे हैं। कहीं ना कहीं इस कार्य की उच्च स्तरीय जांच होना जरूरी है।

इनका कहना…

तिवरखेड़ में जलजीवन मिशन के तहत क्या-क्या स्वीकृति दी गई हैं। उसको चेक करवा लेते हैं। अगर कोई कमी होगी तो उसे तत्काल पूरा किया जाएगा।

रंजनसिंह ठाकुर, कार्यपालन यंत्री, पीएचई, बैतूल 

Leave a Comment