spot_img
HomeबैतूलForest : जानिए क्यों उड़ी वन अफसरों की नींद...?

Forest : जानिए क्यों उड़ी वन अफसरों की नींद…?

बैतूल – इन दिनों वन विभाग के आला अफसरों की नींद उड़ी हुई है। वन अफसरों को यह समझ नहीं आ रहा है कि आखिरकार बाघिन कहां गायब हो गई है? दरअसल एक कॉलर आईडी वाली बाघिन की कॉलर आईडी जंगल में टूटी हालत में पड़ी मिली है वहीं बाघिन लापता है। ऐसे में वन अधिकारियों में इस बात को लेकर भी हडक़म्प मचा हुआ है कहीं कोई अप्रिय घटना तो नहीं हो गई है।

बरहाल वन अधिकारी यह कहकर स्वयं को शांत करने का प्रयास कर रहे हैं कि बाघिन 50 किमी. प्रतिदिन चलती है इसलिए वह मेलघाट या फिर सतपुड़ा रिजर्व फारेस्ट में चली गई होगी। इसके अलावा वन विभाग को बाघिन द्वारा किए जाने वाले पालतू जानवरों के भी शिकार करने का इंतजार है ताकि बाघिन की मौजूदगी मिल सके। इसके आधार पर बाघिन की लोकेशन तलाशकर पुन: कॉलर आईडी लगाने का काम किया जाएगा।

डीएफओ (उत्तर) राकेश डामोर कहा कहना है कि बाघिन की आईडी का पट्टा गल गया था जिसकी वजह से कॉलर आईडी गिर गई और लोकेशन एक ही जगह आ रही थी। कॉलर आईडी मिल गई है। फिलहाल गर्मी ज्यादा होने से बाघिन की लोकेशन नहीं मिल रही है। एसटीआर की क्विक रिस्पॉन्स टीम संतुष्ट हो कर लौट गई है। बाघ एक बार में पचास किलो मीटर चलता है। ऐसे में कुछ कहा नहीं जा सकता कि बाघिन एसटीआर की ओर निकली है या मेल घाट कॉरिडोर की तरफ। जब तक वह किसी वन्य जीव या पालतू पशु का शिकार नहीं करती, तब उसे ट्रेस करना थो?ा मुश्किल है। हमारी टीम लगातार सर्चिंग में लगी है। जल्द ही ट्रेस कर लेंगे।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक 4 दिन पहले तक बैतूल रेंज के जंगल में घूम रही कॉलर आईडी वाली बाघिन अचानक गायब हो गई। जिसके बाद से वनकर्मियों ने जंगल में तलाश तेज कर दी। साथ ही जगह-जगह ट्रैप कैमरे भी लगाए। लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। इस पर वन अधिकारियों ने सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के आला अधिकारियों को सूचित किया। उन्हें यह सूचना भी दी गई कि कॉलर आईडी की लोकेशन एक ही स्थान पर आ रही है।

यह जानकारी मिलते ही सतपुड़ा टाइगर रिजर्व की दो सदस्यीय क्विक रिस्पॉन्स टीम ने लोकेशन वाली जगह पर पहुंच कर देखा तो बाघिन की कॉलर आईडी टूटी हुई हालत में मिली। इससे यह सोचकर थो?ी राहत मिली कि बाघिन के साथ कोई घटना नहीं हुई है बल्कि कॉलर आईडी भर टूटी है। लेकिन यह जानकारी होना भी जरुरी है कि वह है कहां। इसलिए अभी भी उसकी तलाश में वन अमला जुटा है।

RELATED ARTICLES

Most Popular