अब EV यूजर्स की होगी अब बल्ले-बल्ले, स्वीडन के तर्ज पर बनेगा इलेक्ट्रिक हाइवे?

Electric Highway For EV- भारत सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए भरकस प्रयास कर रही है। यही प्रयास का नतीजा है कि आज देश में इलेक्ट्रिक गाड़ियों की मांग जबरदस्त ग्रोथ देखने को मिली है। फेम-2 सब्सिडी के अलावा सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए हाइवे बनाने की दिशा में काम कर रही है। इलेक्ट्रिक हाइवे बन जाने से ईवी यूजर्स को रेंज के लिए रेंज की चिंता दूर हो जाएगी और भविष्य में लोग ईवी से लंबे ट्रिप की प्लानिंग भी करेंगे। आइये जानते हैं क्या है इलेक्ट्रिक हाइवे की कहानी, इससे ईवी यूजर्स को क्या फायदे मिलेंगे।

यह भी पढ़े – विंग कमांडर ने खुले आसमान में लहराया G20 का झंडा, वीडियो देख उठ जायगे रोंगटे,

दिल्ली से मुंबई के बीच एक इलेक्ट्रिक हाइवे की योजना

पिछले साल जुलाई में परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एक नई घोषणा की है कि सरकार दिल्ली से मुंबई के बीच एक इलेक्ट्रिक हाइवे (E-Highway) बनाने की योजना पर विचार कर रही है। साथ ही उन्होंने भारी वाहन मालिकों से एथेनॉल, मेथेनॉल के साथ ही ग्रीन हाइड्रोजन का इस्तेमाल शुरू करने का आग्रह भी किया है।

यह भी पढ़े – GK Questions – किस देश ने बताया था की 1 मिनट में 60 सेकंड होते हैं

Electric Highway के फायदे?

इलेक्ट्रिक हाइवे पूरी तरह से ईको फ्रेंडली साबित होगा, क्योंकि इलेक्ट्रिक गाड़ियां डीजल-पेट्रोल से चलने वाली गाड़ियों की तुलना में पर्यावरण के लिए कम हानिकारक होती हैं। इसके अलावा, इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि इससे वाहनों की आवाजाही पर आने वाले खर्च में भारी कमी हो सकती है। एक रिपोर्ट्स में दिए गए आंकड़े के मुताबिक, ई-हाइवे से लॉजिस्टिक कॉस्ट में 70 फीसदी की आएगी। कुल मिलाकर अगर ट्रांस्पोर्टेशन के लागत में अगर कमी आएंगी की भारत में बिकने वाले चीजों की कीमतों में कमी देखने को मिल सकती है।

यह भी पढ़े – Life Insurance Tips – इंश्योरेंस लेते वक्त इन बातों का जरूर रखें ध्यान, कम प्रीमियम में मिलेगा ज्यादा फयदा,

स्वीडन के तर्ज पर बनेगा इलेक्ट्रिक हाइवे?

गडकरी ने इस हाईवे के बारे में जानकारी देते हुए बताया था 1,300 किलोमीटर लंबे दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे पर एक अलग से इलेक्ट्रिक हाईवे लाइन बनाई जाएगी, जहां ट्रक और बस 120 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से जा सकते हैं। बता दें कि गडकरी ने 2016 में ही कहा था कि भारत में स्वीडन की तरह ई-हाईवे बन सकते हैं।

Leave a Comment