पशुपालकों की होगी बल्ले बल्ले, ऐसे मिलेगी मुफ्त गैस और मुफ्त खाद

पशुपालकों की होगी बल्ले बल्ले, ऐसे मिलेगी मुफ्त गैस और मुफ्त खाद, क्या आपके घर में गाय या भैंस जैसे पशु हैं? अगर हाँ, तो उनके गोबर से आप न सिर्फ मुफ्त गैस प्राप्त कर सकते हैं, बल्कि उत्तम जैविक खाद भी प्राप्त कर सकते हैं! जी हां, जिस गैस से आप रसोई में खाना बनाते हैं।

वही गैस गोबर से बनाई जा सकती है हर महीने हजार रुपये का गैस सिलेंडर भरवाने की झंझट मिट सकती है, इसके साथ ही, खेती में इस्तेमाल होने वाली खाद भी महंगी होती है और रासायनिक खादों के प्रयोग से मिट्टी की उर्वरा शक्ति भी कम हो जाती है।

यह खबर भी पढ़िए – सोशल मीडिया पर couple का जमकर हो रहे वायरल वीडियो पर लोगो ने किये जमकर कम्नेट्स घोड़े को मिल नहीं रही है घास और गधे खा रहे हैं…….

पशुपालकों की होगी बल्ले बल्ले, ऐसे मिलेगी मुफ्त गैस और मुफ्त खाद

लेकिन गोबर से बनने वाली खाद पूरी तरह से जैविक होती है और इससे जमीन उपजाऊ बनती है. तो आइए जानते हैं कि गोबर से गैस कैसे बनती है, इससे आपको क्या फायदे मिल सकते हैं और गोबर गैस संयंत्र की लागत कितनी आती है.

गोबर से गैस कैसे बनाएं?

गोबर से गैस बनाने के लिए गोबर गैस संयंत्र लगाया जाता है. कृषि विभाग के अधिकारी आपको इसके बारे में पूरी जानकारी दे सकते हैं. उदाहरण के लिए, दोसा की रहने वाली तुलसी मीना जी ने कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा बताई गई योजना के आधार पर अपने घर में गोबर गैस संयंत्र लगवाया है. इस संयंत्र के ऊपर एक टंकी भी बनाई जाती है, जिसमें रोजाना गोबर घोलकर डाला जाता है. एक बार गोबर घोलकर डालने के बाद, उससे लगातार गैस बनती रहती है. बचा हुआ गोबर दूसरी तरफ से निकल आता है.

ऐसे मिलेगी मुफ्त गैस और मुफ्त खाद

गोबर से गैस बनाने के बाद जो बचा हुआ गोबर निकलता है, उसका उपयोग आप खाद के रूप में कर सकते हैं. यह गोबर काफी मात्रा में इकट्ठा हो जाता है, जिसे खेतों में डाला जा सकता है. इस तरह आपको मुफ्त और वह भी जैविक खाद मिल जाती है।

यह खबर भी पढ़िए – Optical Illusion: आज बीरबल भी होता तो 10 सेकंड में नहीं ढूंढ पाता 1z के आड़ में छिपा 12 अंक, ढूंढने वाला कहलायेगा मास्टर माइंड

जहां तक गैस की बात है, तो आप इसे पूरे दिन इस्तेमाल कर सकते हैं. यह थोड़े समय के लिए नहीं चलती. आप इस गैस का उपयोग रात-दिन समान रूप से कर सकते हैं. यह खाद और गैस पूरी तरह से मुफ्त होंगी क्योंकि इन्हें केवल गोबर और पानी से बनाया जाता है, जो किसानों और पशुपालकों के घरों में आसानी से उपलब्ध होते हैं.

गोबर गैस संयंत्र की लागत

अगर लागत की बात करें, तो खर्च केवल एक बार आता है, जब आप संयंत्र बनवाते हैं. इसमें टंकी, पाइप आदि का खर्च शामिल होता है. यह खर्च सिर्फ एक बार उठाना होगा. एक बार पूरा संयंत्र लग जाने के बाद, आपको बाद में इस पर कोई पैसा खर्च नहीं करना पड़ेगा, आप सिर्फ रोजाना गोबर घोलकर टंकी में डालेंगे और गैस बनती रहेगी।