Blowing Conch Rules – शंख बजाते वक्त इन 10 नियमों का जरूर करें पालन, नहीं तो नाराज़ हो सकते हैं देवता,

Blowing Conch Rules – शंख बजाते वक्त इन 10 नियमों का जरूर करें पालन, नहीं तो नाराज़ हो सकते हैं देवता,

ये भी पढ़े – Optical Illusion – इस तस्वीर में छुपा हुआ है एक जानवर, 7 सेकंड में जबाब देने वाला होगा जीनियस,

Blowing Conch Rules – शंख बजाते वक्त इन 10 नियमों का जरूर करें पालन, नहीं तो नाराज़ हो सकते हैं देवता, किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले शंख बजाया जाता है. कहा जाता है कि जिन घरों में पूजा के समय शंख बजाया जाता है वहां दुख, गरीबी और मुश्किलें ज्यादा दिन टिक नहीं पातीं. इसी के चलते इसे रत्न माना जाता है और पूजा के अलावा गहने के रूप में भी धारण किया जाता है. कहा जाता है कि माता लक्ष्मी का जन्म समुद्र मंथन में हुआ था और इसी कारण जिस घर में शंख बजाया जाता है वहां माता लक्ष्मी वास करती हैं. यानी शंख बजाने से अनेक मान्यताएं जुड़ी हैं. ऐसे में यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि शंख से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों का खास ख्याल रखा जाए.

ये भी पढ़े – Optical Illusion – इस तस्वीर में छुपे हुए हुए दो चेहरे, देखते है किसकी आंखे है सबसे तेज़,

शंख बजाते वक्त इन 10 नियमों का जरूर करें पालन

  1. मान्यताओं के अनुसार जिस शंख को बजाया जाता है उसे पूजा में नहीं रखना चाहिए क्योंकि बजाया गया शंख जूठा हो जाता है.
  2. घर में हमेशा दो शंख रखने चाहिए, एक बजाने के लिए और एक पूजा स्थल पर रखने के लिए.
  3. शास्त्रों के अनुसार इस्तेमाल से पहले हमेशा शंख को गंगाजल से साफ करना चाहिए. गंगाजल न हो तो साफ शुद्ध पानी का इस्तेमाल किया जा सकता है.
  4. कहते हैं कि शंख को पूजा घर में सफेद कपड़े में लपेटर ही रखना चाहिए.
  5. हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार भगवान विष्णु से जल अर्पित करना चाहिए अपितु भगवान शिव और सूर्य देव को कभी भी शंख से जल अर्पित नहीं किया जाता.
  6. मान्यता है कि मंदिर में रखे गए शंख में पानी भरा होना चाहिए और पूजा के बाद उसका घर में छिड़काव करना चाहिए.
  7. शंख को भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने वाला माना जाता है. भक्त उनकी पूजा-अर्चना में शंख शामिल करते हैं.
  8. शंख गंदगी या कूड़े-कचरे के बीच में नहीं रखना चाहिए, इसे अशुभ माना जाता है.
  9. यह भी कहा जाता है कि पूजा के शंख को बच्चों से दूर रखना चाहिए ताकि वे उसे मुंह से खेलते हुए जूठा न कर सकें.
  10. शंख को वक्त-वक्त पर साफ करते रहना चाहिए.