Thursday, August 18, 2022
spot_img
HomeबैतूलArrest : दुर्लभ प्रजाति के कछुएँ का मांस बेचते पकड़ाया आरोपी,वन विभाग...

Arrest : दुर्लभ प्रजाति के कछुएँ का मांस बेचते पकड़ाया आरोपी,वन विभाग की कार्यवाही

सारनी (हेमंत रघुवंशी)- वन विभाग में कछुए का शिकार कर उसका मांस बेच रहे आरोपी को गिरफ्तार किया है । यह कछुआ दुर्लभ प्रजाति का है ।इस मामले मे तीन आरोपियों की गिरफ़्तारी हुई है।

सांध्य दैनिक खबरवाणी को मिली जानकारी के अनुसार वनमंडलाधिकारी उत्तर बैतूल (सा0) राकेश कुमार डामोर, को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम शिवसागर तहसील घोडाडोंगरी निवासी संजित राय द्वारा कछुएँ का मांस बेचा जा रहा है। सूचना के आधार पर वनमंडलाधिकारी द्वारा उपवनमंडलाधिकारी सारनी (सा0) के मार्गदर्शन में दल का गठन किया गया एवं प्रकरण की जांच करने हेतु भेजा गया।

गठित टीम के प्रभारी परिक्षेत्र अधिकारी सारनी (सा०) अमित साहू एवं स्टाफ द्वारा ग्राम शिवसागर में संजित राय एवं विष्णुपुर निवासी विजय घोष के घर गये एवं वहां से उन्हें पूछताछ हेतु वन विश्राम गृह घोडाडोंगरी लेकर आये। पूछताछ के दौरान दोनों व्यक्तियों द्वारा अपना अपराध स्वीकार किया गया एवं दोनों अपराधियों द्वारा यह भी बताया गया कि वह पिछले माह 18 मार्च 2022 को भी 1 कछुआ लाकर उसका मांस बेच चुके है।

मृत कछुएँ का शेल (Shell) जहां छुपाया था, उसको भी जप्त कर लिया गया है। पूछताछ में दोनों अपराधियों द्वारा बताया गया कि वह उस कछुएँ को सुल्तानपुर जिला रायसेन निवासी गणेश मांझी के खेत से लेकर आये थे। गणेश मांझी के मोबाईल की लोकशन के आधार पर गठित दल सुल्तानपुर जिला रायसेन गया एवं वहां से • गणेश मांझी को पूछताछ हेतु परिक्षेत्र कार्यालय सारनी लाये।

पूछताछ में गणेश मांझी के द्वारा भी अपना अपराध स्वीकार कर लिया गया है। तीनों के विरूद्ध वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 02 की उपधारा (1) (5) (16) (20) (37) धारा 09, 40, 48, 51 के तहत् वन अपराध प्रकरण क्रमांक 744/32 कायम किया गया है। मृत कछुओं Indian Soft Shell Turtle है | जिसे स्थानीय भाषा में पातल भी कहते है। उक्त कछुएँ वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम के अन्तर्गत शेडयूल 1 प्रजाति में आता है। जिसको पकड़ने एवं मारने का अपराध गैर जमानती अपराध की श्रेणी में आता है, जिसमें 07 वर्ष तक की सजा का प्रावधान है।

आरोपियों के मोबाईल से ली गई जानकारी के आधार पर आरोपियों द्वारा मांस किन-किन लोगों को बेचा गया उसकी जानकारी निकाली जा रही है। उक्त कार्यवाही में सम्मिलित दल के सदस्य नितेश शर्मा (प्रशिक्षु) वनक्षेत्रपाल परिक्षेत्र सहायक सारनी, हवसुलाल उइके, वनपाल, श्रीमती प्रेमावती व वनरक्षक, कु० ललिता धुर्वे वनरक्षक देवेन्द्र प्रकाश मालवीय, वनरक्षक, रवि पवार, वनरक्षक, किशोरी वरकडे, वनरक्षक है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments