YouTube ने इन यूज़र्स का अकाउंट किया परमानेंट बैन, जानिए क्या है वजह,

YouTube ने इन यूज़र्स का अकाउंट किया परमानेंट बैन, जानिए क्या है वजह,

YouTube Update News – यूट्यूब अपने यूजर्स द्वारा ad blockers के उपयोग से निपटने के लिए कड़े कदम उठा रहा है. ट्विटर पर शिकायतों की बढ़ती संख्या ने हाल ही में पेश की गई नीति पर यूट्यूब की सक्रियता पर प्रकाश डाला है, जिसमें विज्ञापन अवरोधकों का उपयोग करने वाले उपयोगकर्ताओं को सूचनाएं भेजना, उनसे प्लेटफॉर्म पर वीडियो देखना जारी रखने के लिए सॉफ्टवेयर को डिजेबल करने का आग्रह करना शामिल है. कई चेतावनियों के बाद, YouTube अब प्रतिबंध लागू कर रहा है, जिससे यूजर्स को उनकी पहुंच रद्द होने से पहले केवल तीन वीडियो देखने की अनुमति मिल रही है.

Untitled design – 1

ये भी पढ़े – Top 5 Gaming Laptops – 47% की भारी छूट पर गेमिंग लैपटॉप ख़रीदे का सुनेहरा मौका,

क्या लगेगा परमानेंट बैन

बता दें कि ये परमानेंट बैन नहीं है. जिन यूजर्स ने ट्विटर पर YouTube चेतावनी स्क्रीनशॉट शेयर किए हैं, वे बताते हैं कि जो लोग ऐड ब्लॉकर्स को डिजेबल करने के YouTube के अनुरोध का अनुपालन करते हैं या इसकी प्रीमियम मेम्बरशिप का ऑप्शन चुनते हैं, उन्हें प्लेटफॉर्म का कंटेंट तक पहुंच दोबारा होगी. हालांकि, यूजर्स ने अपने ऐड ब्लॉकर को डिजेबल करने के बाद भी जारी समस्याओं की सूचना दी है, YouTube ने विज्ञापन-अवरोधक हटाने वाले बैनर प्रदर्शित करना जारी रखा है.

हालांकि ये कोई नई बात नहीं है, क्योंकि YouTube ने कुछ महीने पहले इन कार्रवाइयों के बारे में चेतावनी दी थी. प्लेटफॉर्म ने द वर्ज को बताया कि वह उन यूजर्स को ब्लॉक करना शुरू कर देगा जिन्होंने उनकी नीतियों का उल्लंघन किया है. YouTube ने इस बात पर जोर दिया कि वह यूजर्स को उनकी वीडियो देखने पर प्रतिबंधित करने से पहले, ऐड ब्लॉकर्स का उपयोग बंद करने या YouTube प्रीमियम की मेम्बर्स लेने पर विचार करने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कई सूचनाएं भेजेगा.

ये भी पढ़े – इस त्योहारी इन दो Electric Scooter पर मिल रहा बंपर ऑफर, OLA का नाम भी शामिल

जानिए क्या है वजह

एक ईमेल में, YouTube के स्पोक्सपर्सन ने कहा कि हम प्लेबैक को डिजेबल करने को बहुत गंभीरता से लेते हैं और प्लेबैक को केवल तभी डिजेबल करेंगे यदि व्यूअर YouTube पर ऐड की परमिशन देने के बार-बार अनुरोध को अनदेखा करते हैं. ऐसे मामलों में जब दर्शकों को लगता है कि उन्हें ऐड ब्लॉकर का यूज करने के रूप में गलत तरीके से चिह्नित किया गया है, तो वे प्रॉम्प्ट में दिए गए लिंक पर क्लिक करके इस फीडबैक को साझा कर सकते हैं.”

जो यूजर्स YouTube पर ऐड फ्री कंटेंट देखना चाहते हैं, उनके पास दो ऑप्शन हैं: वे या तो अपने ब्राउजर पर ऐड ब्लॉकर एक्सटेंशन डिजेबल कर सकते हैं या YouTube प्रीमियम का ऑप्शन चुन सकते हैं. बाद वाला ऑप्शन मंथली फीस के साथ आता है, जो इंडिवीजुअल के लिए 129 रुपये से शुरू होता है और पांच सदस्यों तक की पारिवारिक मेम्बर्स के लिए 179 रुपये से शुरू होता है.