Tuesday, August 16, 2022
spot_img
HomeबैतूलWater Crisis : बैतूल के इस गावं में हाथ पीले करने आड़े आ...

Water Crisis : बैतूल के इस गावं में हाथ पीले करने आड़े आ रहा जलसंकट

काबरा माल में गंदा पीने को विवश है ग्रामीण

बैतूल – जिले के भैंसदेही की ग्राम पंचायत डेढ़ पानी के ग्राम काबरामाल में पिछले लंबे समय से जलसंकट के कारण इस गांव के लोगों के सामने पानी के साथ-साथ शादियों का भी संकट खड़ा हो गया है। गांव में ऐसे 20 से 25 युवक ऐसे हैं जिनकी शादी इसलिए नहीं हो रही है क्योंकि घर में पानी लाने के लिए 3 किमी. दूर जाना पड़ता है। स्थिति यह है कि इस ग्रामों के युवाओं को जलसंकट का दंश झेलते हुए कुंवारे ही जीवन काटने को विवश होना पड़ रहा है। विवाह नहीं होने का मुख्य कारण जलसंकट ही है क्योंकि कोई भी ग्राम के युवाओं को अपनी लडक़ी सिर्फ इसलिए नहीं देना चाहते हैं कि उन्हें पानी लेने के लिए 3 किलोमीटर का सफर करना पड़ेगा।

70 से 80 घरों की है बस्ती

ग्राम पंचायत डेढ़पानी के ग्राम काबरा माल में करीब 70 से 80 घर की बस्ती है। यहां पर पेयजल संकट नया नहीं है। पिछले कई सालों से गर्मी की दस्तक से ही इस गांव में पेयजल संकट शुरू हो जाता है। ग्रामीणों ने भैंसदेही एसडीएम सहित बैतूल कलेक्टर तक को कई मर्तबा शिकायत की है। इसी के चलते कुछ दिनों पहले गांव के बाहर नलकूप खनन किया गया था। इसमें पानी तो आ रहा है लेकिन मोटर नहीं डलने के कारण पानी गांव तक नहीं पहुंच पा रहा है जिससे समस्या जहां की तहां है।

पानी लाने जाना पड़ता है तीन किमी दूर

काबरामाल के गोकुल राठौर ने बताया कि पानी के इंतजाम को लेकर आधा दिन खराब हो जाता है जिसके कारण दूसरे कोई काम नहीं कर पाते हैं। गोकुल का कहना है कि सुबह से पानी लेने के लिए 3 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है और वहां से कोई सिर पर तो कोई बैलगाड़ी पर पानी लाता है। इसको लेकर ग्रामीणों ने कई बार शिकायत भी की है लेकिन आज तक जलसंकट की समस्या से निजात नहीं मिल पाई है और ग्रामीणों को पेयजल के लिए आज भी परेशान होना पड़ रहा है। अगर यही स्थिति रही तो ग्रामीणों को गांव से पलायन करना पड़ेगा।

बीमार हो रहे लोग

50 साल की सुदियाबाई मोरले का कहना है कि शादी होने के बाद कई सालों तक पानी की समस्या नहीं थी। लेकिन धीरे-धीरे यह समस्या शुरू हो गई। पहाड़ी पर गांव होने के कारण पानी की समस्या विकराल होती जा रही है। नलकूप एक है और पानी लेने के लिए एक किलोमीटर दूर नलकूप पर जाना पड़ता है। लेकिन यह पर्याप्त नहीं हो पाता है। जिसके कारण तीन किलोमीटर दूर कुंए से पानी लाना पड़ता है। उसी कुंए के गंदे पानी को पीने को मजबूर है। पानी से कई लोग बीमार भी हो रहे हैं।

नहीं हो रही शादियां

ग्राम काबरामाल में व्याप्त जलसंकट से ग्रामीणों के साथ दूसरी मुसीबत भी कम नहीं है। ग्राम की गुदियाबाई का कहना है कि पानी की समस्या को लेकर लोग इस गांव में लडक़ी नहीं दे रहे हैं। जिसके कारण 20 से 25 लडक़े ऐसे हैं जिनकी शादी नहीं हो पा रही है। जब भी रिश्ते की बात होती है तो दूसरे गांव के लोग यह कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं कि जिस गांव में पानी की समस्या है उस गांव में बेटी ब्याहने से उसे मुसीबत देना ही होगा। इसी के कारण युवाओं की शादी नहीं हो पा रही है।

इनका कहना…

मेरे संज्ञान में डेढ़पानी ग्राम पंचायत के काबरामाल गांव की पानी की समस्या आई थी। मैंने एक हफ्ते पहले पीएचई की टीम भेजी थी। इस समस्या का जल्द सुधार करने के निर्देश दिए हैं।

अंशुमान राज, (आईएएस)प्रभारी सीईओ, जनपद भैंसदेही

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments